Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 12 जुलाई 2020

जानिये कांग्रेस के नाजिर अली की काली करतूते

क्या प्रियंका वाड्रा और कांग्रेसी फौज, देश को यह बताएगी कि उत्तर प्रदेश सरकार का वह कैबिनेट मंत्री, राजीव गांधी सरकार के वो दो कैबिनेट मंत्री कौन थे, जिनके यहाँ 17 मई, 1984 को दिल्ली से सीबीआई की एक टीम लखनऊ पहुंची थी...???

पूर्व प्रधानमन्त्री राजीव गाँधी जी का ख़ास सिपहसलार नाजिर अली....
आइए जानते हैं कि वर्ष-1962 में देश जब चीन के साथ युद्ध की विभीषिका से जूझ रहा था तो उसी दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस ने नाजिर अली नाम के एक युवक को 200 किलो अफीम के साथ पकड़ा था उस युवक के खिलाफ क्या और कैसी कार्रवाई हुई थी ? इसका अनुमान इस तथ्य से लगाइए कि 17 मई, 1984 को दिल्ली से सीबीआई की एक टीम लखनऊ पहुंची थी स्थानीय पुलिस के साथ उसने एक विधायक के सरकारी आवास पर छापा मारा था। विधायक महोदय अपने बेडरूम में 20 किलो हेरोइन के साथ पकड़े गए थे विधायक महोदय के कमरे से केवल हेरोइन ही नहीं बल्कि हेरोइन समेत सभी मादक पदार्थों की क्वालिटी (गुणवत्ता) जांचने परखने वाली मशीन भी मिली थी यह विधायक कोई और नहीं बल्कि वर्ष-1962 में 200 किलो अफीम के साथ गिरफ्तार हुआ वही युवक नाजिर अली था जो वर्ष-1984 तक तत्कालीन सत्ताधारी दल कांग्रेस का सम्मानित विधायक बन चुका था। 

अपनी गिरफ्तारी के समय अपने पास से बरामद हुई 20 किलो हेरोइन के विषय में नाजिर अली ने उस समय बताया था कि उसे यह 20 किलो हेरोइन उत्तर प्रदेश की तत्कालीन कांग्रेस सरकार के एक कैबिनेट मंत्री के भाई ने दी है। नाजिर अली के उस कबूलनामे के बाद और बावजूद उस कैबिनेट मंत्री या उसके भाई के खिलाफ तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा किसी कार्रवाई करने की तो बात छोड़िए उस कैबिनेट मंत्री का नाम तक कभी सार्वजनिक नहीं किया गया। एक और तथ्य जान लीजिए कि नाजिर अली वर्ष-1980 में शाहजहांपुर की ददरौल सीट से तत्कालीन जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतकर आया था। लेकिन कांग्रेस के लिए वो इतना महत्वपूर्ण था कि तत्कालीन विधानसभा में तीन चौथाई (330 सीटों) बहुमत के साथ अपनी सरकार होने के बावजूद नाजिर अली को वर्ष- 1981 में कांग्रेस में शामिल किया गया था 

नाजिर अली के यहां छापेमारी और उसकी गिरफ्तारी के बाद उसे पार्टी से निष्कासित करने का पाखंड किया गया था कानूनी कार्रवाई के नाम कैसा पाखंड हुआ था इसका अनुमान इस बात से लगाइए कि नाजिर अली वर्ष- 1987 में कांग्रेस छोड़कर जनमोर्चा बनाने वाले वीपी सिंह के जनमोर्चा में शामिल होकर उनके साथ राजनीतिक और चुनावी रैलियों में जमकर नेतागिरी करने में जुट गया था जबकि उस समय उसे जेल में होना चाहिए था शर्मनाक हास्यास्पद तथ्य यह भी है कि 85 वर्ष की आयु में नाजिर अली की जब मृत्यु हुई तो उसके जिले की जिला कांग्रेस कमेटी ने कार्यालय में उसकी स्मृति में जिला कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय में श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर उसे भावभीनी श्रद्धांजलि भी अर्पित की थी। लेकिन कांग्रेसी सरकार में अपराधियों को राजनीतिक संरक्षण का यह अकेला उदाहरण नहीं है। 

27 मई, 1988 को नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड के डिप्टी डायरेक्टर देवेन्द्र दत्त ने मुम्बई के पंचतारा होटल सेंटूर से अन्तरराष्ट्रीय ड्रग माफिया सरगना सैम बिरियानी को गिरफ्तार किया था देवेन्द्र दत्त ने बाकायदा मीडिया में बयान देकर तब बताया था कि अपनी गिरफ्तारी के समय  ड्रग माफिया सरगना सैम बिरियानी ने देवेन्द्र दत्त पर दबाव डलवाने के लिए तत्कालीन केन्द्र सरकार के दो कैबिनेट मंत्रियों समेत राष्ट्रीय स्तर के कुछ भारी भरकम नेताओं को फोन कर के उनसे बात करवाने की जिद्द की थी। कौन थे वो दोनों कैबिनेट मंत्री और राजनेता, जिस सवाल का जवाब देश की जनता को आज तक नहीं मिला ? अपराधियों को राजनीतिक संरक्षण का वह शर्मनाक खतरनाक सच देश को कभी नहीं बताया गया। अतः उन कैबिनेट मंत्रियों के खिलाफ कोई कार्रवाई या जांच की तो बात ही छोड़ दीजिये यहां उल्लेख करना आवश्यक है कि केन्द्र की वह तत्कालीन सरकार कांग्रेस की थी और उस सरकार के प्रधानमंत्री माननीय आदरणीय मिस्टर क्लीन श्री राजीव गांधी जी थे। 

प्रियंका वाड्रा को इस बात को याद रखना चाहिए कि जो आरोप उनके द्वारा वर्तमान शासन सत्ता पर आरोपित किया जा रहा है उससे भी घिनौना आरोप तो उनके कार्यकाल में लगे रहे होंगे। इसलिए आरोप लागने से पहले उस आरोप की मापतौल अवश्य कर लेनी चाहिए ताकि उन पर अंगुली न उठ सके। ये कथन इसलिए प्रासंगिक और आवश्यक हो गया, क्योंकि 8 पुलिसकर्मियों के हत्यारे विकास दुबे के उज्जैन तक पहुंच जाने और वहां उसकी गिरफ्तारी होने को लेकर प्रियंका वाड्रा ने आज योगी सरकार पर तीखा हमला किया है विकास दुबे की गिरफ्तारी को लेकर प्रियंका वाड्रा ने हत्यारे विकास दुबे को मिल रहे उच्च स्तरीय संरक्षण तथा मिलीभगत का आरोप लगाया है पिछले 3-4 दिनों से पूरी कांग्रेसी फौज यही राग जोर शोर से अलाप रही है अतः प्रियंका वाड्रा समेत कांग्रेसी फौज को यह याद दिलाना आवश्यक है कि अपराधियों को राजनीतिक संरक्षण क्या और कैसा होता है ? इसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कांग्रेस दशकों पूर्व से ही करती रही है चमचों चाटुकारों के सूचनार्थ उल्लेख कर दूं कि उपरोक्त सारे तथ्यों से सम्बन्धित ठोस साक्ष्यों की सूची बहुत लम्बी है। 

प्रस्तुति :- सतीश मिश्र 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें