Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 17 जुलाई 2020

अपराधी विकास दुबे के खात्मे के सप्ताह भर बाद भी नहीं थम रहे बिकरू में हुए पुलिस वालों की जघन्य हत्या के खुलासे,जेसीबी चालक ने बताई कहानी...

पुलिस जेसीबी चालक राहुल पाल को मीडिया के सामने लाई,JCBचालाक ने किया बिकरू में की गई पुलिस के जवानों की हत्या का बड़ा खुलासा...
जेसीबी ड्राइवर राहुल पाल को हिरासत में लिया गया, उसने यह भी बताया है कि पुलिस पर हमला करने वालों में कौन-कौन लोग शामिल थे...???
JCBके ड्राइवर राहुल पाल ने विकास दुबे गैंग द्वारा पुलिस पर किए गए हमले को लेकर कई खुलासे किए हैं...
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर के बिकरू गांव में 2-3 जुलाई 2020 को हुई 8 पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में एक और खुलासा हुआ है। वारदात के दौरान गैंगस्टर विकास दुबे के घर का रास्ता रोकने के लिए जिस जेसीबी का इस्तेमाल किया गया था। 17 जुलाई 2020 शुक्रवार को उसका ड्राइवर राहुल पाल मीडिया के सामने आया। पाल ने वारदात की रात के उस भयावह मंजर के बारे में बताया, जिसमें 8 पुलिसकर्मियों की विकास दुबे और उसके बदमाशों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी।

घटना वाले दिन के बारे में शुरू से बताते हुए राहुल पाल ने कहा कि प्रेम प्रकाश नाम का एक शख्स उसके पास आया और कहा कि वह अपनी जेसीबी तुरंत ले चले। राहुल ने जब बताया कि अभी काम खत्म नहीं हुआ है तो प्रेम प्रकाश ने कहा कि अर्जेंट काम है और विकास भैया ने बुलाया है। जल्दी ले चलो। राहुल ने कहा कि जब वह बिकरू गांव पहुंचा तो देखा कि वहां काफी लोग खड़े थे। इसके बाद जहां अक्सर गाड़ी खड़ी करता था, वहीं गाड़ी खड़ी करने लगे।

पाल ने बताया कि जब वह गाड़ी किनारे लगा रहा था, तब विकास ने उससे कहा कि गाड़ी रास्ते में लगा दो।राहुल पाल ने बताया, जब मैंने कहा कि रास्ता जाम हो जाएगा तो उसने कहा जितना मैं कह रहा हूं, उतना सुनो। ज्यादा बकवास करने का टाइम नहीं है। इसके बाद मैंने गाड़ी रास्ते में लगा दी। गाड़ी लगाकर जब मैं नीचे उतरा तो विकास दुबे ने कहा कि इसी गाड़ी में सो जाओ। तभी वहां मौजूद धीरू नाम के शख्स ने कहा कि नहीं, इसे छत पर ले जाकर बंद कर दो।
राहुल पाल ने बताया कि 2 जुलाई की रात जेसीबी को बीच रास्ते में खड़ा करने के लिए विकास दुबे ने ही उससे कहा था। उसने बताया कि ऐसा करने के बाद उसे विकास के घर की छत पर कैद कर दिया गया था। इसके बाद काफी देर तक वहां गोलीबारी होती रही। बाद में विकास और उसके बंदूकधारी बदमाश पता नहीं कहा गायब हो गए। इसी के साथ राहुल पाल ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि गोलियां चलाने के बाद विकास दुबे ने कहा था कि 'बन काट' यह कोड वर्ड सुनते ही गोली चलाने वाले सभी साथी खामोश हो गए थे कुछ देर बाद सभी फरार हो गए राहुल ने यह भी खुलासा किया है कि उस रात गोली चलाने में विकास दुबे के साथ कौन-कौन लोग शामिल थे
पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद प्रशासन ने विकास दुबे का घर गिरा दिया था (फोटो-PTI) 
विकास के घर की छत पर कैद रहा राहुल...
इसके बाद राहुल को विकास के घर की छत पर बंद कर दिया गया। राहुल ने बताया कि छत पर मैंने देखा कि वहां पर तकरीबन 20-25 लोग खड़े थे, जो बंदूकें लिए हुए थे। ड्राइवर ने वहां मौजूद लोगों में से बिकरू गांव के लोगों की पहचान की और बताया कि मौके पर विकास दुबे के अलावा धीरू, प्रभात मिश्र, अमर दुबे, जिलेदार, अतुल, प्रेम प्रकाश, शिवम, एक और शिवम के अलावा कई नए लोग भी थे।

10-15 मिनट हुई फायरिंग...
राहुल पाल ने बताया कि जब उसे छत पर ले जाया गया, उसके कुछ देर बाद ही वहां फायरिंग शुरू हो गई। कम से कम 10-15 मिनट फायरिंग हुई। बाद में पता चला कि पुलिस पर फायरिंग की जा रही है। जो गोलियां चला रहे थे, वे सब विकास के आदमी थे। फिर कुछ देर बाद उधर से एक आवाज आई और सब शांत हो गया। इसके कुछ देर बाद वहां लाइटें-टॉर्च दिखाई देने लगे। इसके बाद विकास और उसके आदमी कहां फरार हो गये पता नहीं चला।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें