Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 30 जुलाई 2020

यूपी में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, एक दिन में सबसे अधिक 3705 नए मामले आने से मचा हडकंप...

राज्य में अबतक 22 लाख से अधिक सैंपल्स की हुई जांच...
उत्तर प्रदेश में कोरोना की भयावह होती स्थिति...
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह होती जा रही है। गुरुवार को प्रदेश में सबसे अधिक नए मामलों के साथ ही एक दिन में कोरोना के कारण हुई सबसे अधिक मौत भी दर्ज हुई है। प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 3705 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 57 और मौतों के साथ इस संक्रमण से जान गंवाने वालों का आंकड़ा अब 1587 हो गया है। प्रदेश में मौत के 57 मामले किसी एक दिन में मृतकों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। संक्रमण के 3705 मामलों का आंकड़ा भी एक दिन में सर्वाधिक है। 

अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अब तक कुल 46 हजार 803 लोग पूरी तरह स्वस्थ होकर अस्पतालों से घर जा चुके हैं। संक्रमण के उपचाराधीन मामलों की संख्या 32 हजार 649 है जबकि कोरोना संक्रमण की वजह से कुल 1,587 लोगों की जान गई है। उन्होंने बताया कि पृथक वार्डों में 32 हजार 652 लोग हैं, जिनका विभिन्न चिकित्सालयों एवं मेडिकल कालेजों में उपचार किया जा रहा है। पृथकवास केन्द्रों पर 2938 लोग हैं, जिनके नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। 

ठीक हुए लोग बीमारी के बारे में लोगों को समझाएं...

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि उपचाराधीन मामलों में से 7,198 लोग घर में पृथक-वास में हैं जबकि 1,112 लोग निजी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब से गृह पृथक-वास की व्यवस्था शुरू की गई है, तब से बहुत से लक्षणमुक्त रोगी इसका लाभ उठा रहे हैं। प्रसाद ने बताया कि जो समय से संक्रमण की जांच करा लेते हैं और समय से अपनी चिकित्सा शुरू करा लेते हैं, उन्हें इस संक्रमण से कोई परेशानी नहीं देखी जा रही है लेकिन जो बीमारी छिपाते हैं, लक्षण आने के बाद भी जांच नहीं कराते, जो बहुत विलंब से आते हैं, उनमें जटिलताएं उत्पन्न होती हैं और कभी-कभी किसी मरीज की मृत्यु भी हो जाती है। उन्होंने ठीक हो चुके लोगों से अनुरोध किया कि वे अन्य लोगों को इस बीमारी के बारे में समझाएं।


प्रसाद ने बताया कि बुधवार को प्रदेश में 88 हजार 967 नमूने जांचे गए। इनमें से 51 हजार 484 एंटीजन टेस्ट थे। अब तक 22 लाख 09 हजार 810 नमूनों की जांच की जा चुकी है। जांच शुरू होने से 24 जून तक चार महीने में छह लाख नमूनों की जांच हुई थी। 24 जून से 30 जुलाई के बीच लगभग पांच सप्ताह में 16 लाख नमूनों की जांच हुई है। जांच को निरंतर विस्तारित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूल टेस्टिंग के माध्यम से बुधवार को पांच-पांच नमूनों के 2,963 पूल लगाए गए, जिनमें से 661 लोग संक्रमित पाए गए, जबकि दस-दस नमूनों के 196 पूल लगाए गए, जिनमें से 27 लोग संक्रमित मिले। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि सर्विलांस का कार्य निरंतर चल रहा है। कुल 39, 578 क्षेत्रों में यह कार्य किया गया और 1, 44, 87, 398 घरों का सर्विलांस हुआ। आरोग्य सेतु ऐप के माध्यम से जिन लोगों को अलर्ट आए, ऐसे 5, 19, 783 लोगों को फोन कर सावधान किया जा चुका है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें