Breaking News

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 8 मार्च 2022

प्रतापगढ़ में मतगणना स्थल पर मोबाईल फोन ले जाना रहेगा वर्जित-जिला निर्वाचन अधिकारी

कोई भी सुरक्षा प्राप्त जनप्रतिनिधि नहीं बन सकेगा मतगणना अभिकर्ता-जिला निर्वाचन अधिकारी 


राजनीतिक दलों के आईटी सेल प्रभारी भी किसी समाचार पत्र के वैनर से अधिकार पत्र लिखवाकर अपना पास जारी करवा लेते हैं और उसी की आड़ में मीडिया सेंटर तक मोबाइल फोन आदि सुविधाओं को प्राप्त करने में हो जाते हैं,सफल...!!!

मतगणना स्थल का जायजा लेते जिला निर्वाचन अधिकारी,प्रतापगढ़ डॉ नितिन बंसल...

प्रतापगढ़। विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 की मतगणना को सकुशल, निष्पक्ष, शान्तिपूर्ण एवं पारदर्शी ढंग से सम्पन्न कराने हेतु भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश के क्रम में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी डा. नितिन बंसल ने अवगत कराया है कि मतगणना हाल में अनुमन्य वीडियो रिकार्डिंग के अतिरिक्त कोई भी फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी नहीं की जा सकेगी। आयोग द्वारा अनुमन्य पास धारक मीडिया कर्मियों द्वारा मतगणना हाल में मतगणना प्रक्रिया की फोटोग्राफी कैमरे से की जा सकेगी। मतगणना स्थल पर बने मीडिया सेन्टर तक पासधारक मीडिया बन्धुओं हेतु मोबाईल फोन अनुमन्य रहेगा और मोबाईल फोन का प्रयोग मीडिया सेन्टर के अलावा कहीं भी नही किया जा सकेगा। जिला निर्वाचन अधिकारी महोदय को शायद यह नहीं पता कि उनके सूचना विभाग से जारी होने वाले मतगणना पास में इतनी ब्यापक पैमाने पर धांधली कर मीडिया कर्मियों को पास जारी किया जाता है, जो समूचे चुनावी ब्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है। ऐसे महानुभावों को मीडिया पास जारी कर दिया जाता है जो राजनीतिक दलों के आईटी सेल प्रभारी रहते हैं और वह किसी वैनर से लिखवाकर अपना पास जारी करवा लेते हैं और उसी की आड़ में मीडिया सेंटर तक मोबाइल फोन आदि सुविधाओं को प्राप्त करने में सफल हो जाते हैं।   


मीडिया सेन्टर में ही मीडिया बन्धुओं के फोन रखने की व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी। मतगणना स्थल पर प्रत्याशी, मतगणना अभिकर्ता एवं मतगणना कार्मिक मोबाईल फोन नही ले जा सकेगें। इसके अलावा मतगणना परिसर में किसी भी प्रकार का धूम्रपान एवं ज्वलनशील पदार्थ नहीं ले जा सकेगे। परन्तु मतगणना में लगे कर्मचारी और अधिकारी ही इसका उलंघन करते हैं। प्रतिबन्ध के बावजूद निर्धारित टेबलों और आर ओ टेबल पर पानी की बोतल नजर आती है। यदि कोई ब्यक्ति इस पानी के बोतल को ईवीएम पर डाल दे तो उस बूथ पर चुनाव के नतीजे शून्य हो सकते हैं और ईवीएम खराब हो सकती है प्रत्येक चुनाव की मतगणना में पानी की बोतल ही नहीं बल्कि पूरा लंच पैकेट निर्धारित टेबल और आर ओ टेबल तक बिना रोक-टोक वितरित किये जाते रहे हैं और उसका उपभोग भी खुलेआम होता रहा है। इसकी जांच के लिये गेट पर त्रिस्तरीय चेकिंग की व्यवस्था करायी गयी है। कोई भी सुरक्षा प्राप्त जनप्रतिनिधि मतगणना अभिकर्ता नहीं बन सकता है। जिलाधिकारी प्रतापगढ़ डॉ. नितिन बंसल ने बताया है कि प्रत्येक राउण्ड पूर्ण होने पर आयोग के नियमो के अनुसार उसकी जानकारी सार्वजानिक करायी जायेगी। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें