Breaking News

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 2 फ़रवरी 2022

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों द्वारा उम्मीदवार का समय से चयन न करना, नामांकन के अंतिम दौर में उम्मीदवार तय करना, जनता के साथ छलावा है और उम्मीदवार थोपने जैसा है

आज पांचवें चरण के नामांकन के दूसरे दिन भी जनपद प्रतापगढ़ और सुल्तानपुर में नहीं हुए एक भी नामांकन,पहले दिन में सिर्फ 46 और दूसरे दिन 43 नामांकन प्रपत्र उम्मीदवारों ने लिए, नामांकन रहा शून्य, देखिये तीसरे दिन खाता खुलता है या  तीसरे दिन रहता है,सन्नाटा...!!!


➤केंद्रीय चुनाव आयोग स्वतंत्र बॉडी है, परंतु चुनाव की आड़ में इतना भ्रष्टाचार है कि उसी से उसको फुर्सत नहीं लग पाती, चुनाव की नीतियों में संशोधन की बात तो दीगर है...!!!


दल बदल और उम्मीदवार होने के लिए टिकट की खरीद फरोख्त से बचना है तो चुनाव की नीतियों में बदलाव करना होगा ताकि आदर्श चुनाव संहिता लागू होने के बाद राजनीतिक दलों द्वारा टिकट नहीं दिया जा सके...!!!


भारत निर्वाचन आयोग से जनता की अपील है कि वह ऐसा नियम बनाये ताकि आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद कोई भी दल उम्मीदवार तय न कर सके, इससे दल बदल पर रोक लग सकेगी...!!!


राष्ट्रीय पार्टियां को जाने दीजिये, क्षेत्रीय पार्टियां भी उम्मीदवार तय नहीं कर पा रही हैं, इसे मतदाता किस रूप में क्या समझे ? जब राजनीतिक पार्टियां नामांकन होने के दूसरे दिन तक अपनी विधानसभाओं के उम्मीदवार तय नहीं कर पा रही हैं तो इनकी सरकार बनने पर यह नीतिगत फैसले किस इच्छाशक्ति से लेंगी...???

भारत निर्वाचन आयोग...

राजनीतिक दलों ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को तमाशा बनाकर रख दिया है। पांचवें चरण का आज नामांकन का पहला दिन था और राजनीतिक दलों द्वारा अभी तक अपने दलों से उम्मीदवार तक तय न करा पाना ये सिद्ध करता है कि राजनीतिक दलों के शीर्ष नेतृत्व कितना गैर जिम्मेदार हैं ? जिन्हें वह उम्मीदवार बनायेंगे वह अपनी विधानसभा का एक बार परिक्रमा तक नहीं लगा सकेगा। जब वह विधानसभा चुनाव जीत जायेगा तो उसे अपने विधानसभा की भौगोलिक स्थिति भी नहीं पता रहेगी। जिस जनता को ये निकम्मे नेतागण यह कहते हैं कि मतदाता हमारे लिए देवतुल्य है, उसे चुनाव जीतने के बाद नेताजी पहचानते तक नहीं। इसमें नेताजी की भी गलती नहीं होती। क्योंकि नेताजी नामांकन के दौरान तक पार्टी से टिकट लेने के लिए साम, दाम, दंड, भेद के साथ 24 घंटे पार्टी कार्यालय से लेकर बड़े नेताओं के चक्कर लगाने में ही अपनी सारी एनर्जी खर्च देते हैं

 

नेताजी को जब पार्टियों से टिकट मिलता है तो नामांकन के अंतिम दौर के बाद विधानसभा में भ्रमण करने का मौका ही नहीं बचता। मतदाता मजबूरी में राजनैतिक दलों के उम्मीदवारों में से किसी एक उम्मीदवार के पक्ष में अपना अमूल्य मत देकर उन्हें अपना भाग्य विधाता बना लेता है, परन्तु भाग्य विधाता बनने वाला वह उम्मीदवार अपने उस मतदाता को पहचानता ही नहीं, जिसने उसे आम आदमी से खास आदमी बनाता है। जब वह माननीय हो जाते हैं तो उन्हीं मतदाताओं का उत्पीड़न शुरू कर देते हैं, जिनके मतदान से वह माननीय बनते हैं। इस तरह राजनीतिक दलों द्वारा मतदाताओं पर अपना उम्मीदवार थोपने का कार्य किया जा रहा है। पार्टियों द्वारा चयनित उम्मीदवार चाहे चोर हो अथवा अपराधी हो या बलात्कारी हो ! मतदाता उसको हर हाल में स्वीकार कर, उसको अपना अमूल्य मत देकर माननीय बनाये। गजब का प्रचलन राजनीतिक दलों ने शुरू किया है। पहले छः माह से पहले राजनीतिक दलों द्वारा उम्मीदवारों का चयन कर लिया जाता था और उम्मीदवार अपनी विधानसभा में एक बार नहीं, कई बार चक्कर लगाकर जनता के बीच उनके सुख-दुःख में भाग लेता था


प्रतापगढ़ में कुल 7 सीटें हैं और राजनीतिक दलों में अभी तक जनपद प्रतापगढ़ में केवल बसपा ने ही अपने सभी उम्मीदवार घोषित किए हैं। भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और जनसत्ता दल ने भी अभी तक अपने पूरे उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है। राष्ट्रीय दलों में भाजपा और कांग्रेस ने अपने सभी उम्मीदवारों का चयन नहीं किया तो समाजवादी पार्टी और जनसत्ता दल भी उन्हीं के नक्शे कदम पर अपने उम्मीदवार को गुमराह कर रखा है। राजा भैया की पार्टी जनसत्ता दल भी यूपी में चुनाव लड़ रही है जनसत्ता दल 100 विधानसभाओं में चुनाव लड़ाने का दावा कर रही है, परन्तु जनपद प्रतापगढ़ में जहाँ उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय महासचिव रहते हों, उस जिले की 7 में से सिर्फ 2 सीटों पर उम्मीदवार का चयन करना उसके राजनीतिक भविष्य को स्पष्ट कर रहा है कुंडा से राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह "राजा भैया" और बाबागंज सुरक्षित सीट से विधायक व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विनोद सरोज चुनाव लड़ रहे हैं बाकी पाँच सीटों पर कोई विचार स्पष्ट नहीं है जिससे जनसत्ता दल से जुड़े कार्यकर्ताओं में उदासी छायी हुई है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें