Breaking News

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 24 फ़रवरी 2022

आजमगढ़ में अवैध जहरीली शराब फैक्ट्री का संचालक व 50 हजार रूपये का इनामिया नदीम, मुठभेड़ में घायल होने के बाद पुलिस ने उसे किया गिरफ्तार

तत्कालीन अपर मुख्य सचिव आबकारी विभाग संजय भूसरेड्डी ने अलीगढ़ में शराब से हुई सैकड़ों मौत के बाद सार्वजानिक रूप से स्वीकार किया था कि बिना आबकारी विभाग और जिला प्रशासन सहित स्थानीय पुलिस प्रशासन के मिले शराब का अवैध कारोबार संभव नहीं हो सकता...


पुलिस मुठभेड़ में घायल 50 हजार का इनामिया शराब माफिया नदीम...

आजमगढ़। बीती रात पचास हजार रुपये का इनामी व अवैध शराब फैक्ट्री का संचालक नदीम से पुलिस से हुई मुठभेड़ में घायल होने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अहरौला थाना अंतर्गत पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर फुलवरिया सोफीपुर मोड़ के पास गुरुवार तड़के मुठभेड़ में उसे दबोचा गया। आजमगढ़ पुलिस ने मंगलवार की रात अहरौला थाना क्षेत्र के रुपईपुर गांव में छापेमारी कर अवैध शराब की फैक्ट्री  पकड़ी थी। इसी फैक्ट्री में निर्मित जहरीली शराब पीने से अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है। मामले में पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया था। वहीं फैक्ट्री  संचालक नदीम के साथ ही उसके तीन भाई और दो अन्य आरोपी मौके से भाग निकलने में सफल हो गए थे। 


तेज तर्रार एसपी अनुराग आर्य ने सभी फरार आरोपियों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया था। वहीं देर रात डीआईजी अखिलेश कुमार ने नदीम व उसके भाइयों पर इनाम की राशि बढ़ाकर 50-50 हजार रुपए कर दी थी। पुलिस की चार टीमें अवैध शराब कारोबारियों की गिरफ्तारी में लगीं थीं। गुरुवार तड़के चार से पांच बजे के बीच अहरौला थाना अंतर्गत पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर फुलवरिया-सोफीपुर मोड़ के पास नदीम से पुलिस की मुठभेड़ हो गई। पुलिस मुठभेड़ में अवैध शराब फैक्टरी संचालक नदीम के पैर में गोली लगने से वह घायल हो गया। घायल को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आखिर शर्ब माफिया नदीम को किसका संरक्षण मिल रहा था जो वह आजमगढ़ में अवैध शराब का कारोबार कर रहा था ? जिले में अवैध शराब का कारोबार होता हो और स्थानीय पुलिस, आबकारी विभाग सहित जिला प्रशासन को इसकी गंध न चल सके, ऐसा विश्वास नहीं होता।  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें