Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 4 जनवरी 2022

सीएम योगी आदित्यनाथ जी के चुनावी अखाड़े को लेकर अटकलों का बाजार हुआ गर्म, किस सीट से चुनावी अखाड़े में उतरेंगे योगी, अयोध्या और मथुरा पर बंटी संतों की राय

भाजपा शीर्ष नेतृत्व इस बार उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अपने सारे विधान परिषद् सदस्यों को लड़ाना चाहती है विधान सभा सदस्य का चुनाव...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी... 

डॉ मनमोहन सिंह ऐसे देश के प्रधानमंत्री रहे जो दस वर्षो तक देश की बागडोर संभाले रहे, परन्तु लोकसभा चुनाव लड़ने की वह हिम्मत न कर सके और असम से लगातार राज्यसभा सदस्य बनकर पीएम की कुर्सी पर बने रहे, तभी से देश के पाँच विधानसभाओं में ही विधान परिषद् का गठन किया गया है, इन पाँच विधान परिषद् वाले राज्यों में मुख्यमंत्री के पद पर विधान परिषद् सदस्य ही विराजमान होने लगे, जिनमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का नाम शामिल है...

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में चुनाव हैं तो इस पर सांप्रदायिक रंग चढ़ना और समुदायों के बीच ध्रुवीकरण की राजनीति किसी के रोकने से रूक नहीं सकती। लेकिन इस बार कुछ बड़ी बात है। बात ये है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ किस विधानसभा सीट से चुनावी अखाड़े में उतरेंगे ? योगी अपने गढ़ गोरखपुर से ही विधानसभा से चुनावी अखाड़े में उतरेंगे या फिर वह अयोध्या या मथुरा से ये बड़ा सवाल बना हुआ है। इस पर साधु और संत अयोध्या और मथुरा के बीच बंटे हुए नजर आ रहे हैं। योगी किस विधानसभा सीट से चुनावी अखाड़े में उतरेंगे इस पर कयासों का बाजार भी गर्म है। ये मामला पूरी तरह से चुनावी है। इस चुनावी माहौल में खुद योगी के चुनावी अखाड़े में उतरने पर चर्चा जोर-शोर से हो रही है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद चुनावी अखाड़े में उतरने की घोषणा से रामनगरी अयोध्या के संत समाज में खुशी की सुनामी आ गई है। संत समाज अपने-अपने इलाके से सीएम योगी को चुनावी अखाड़े में उतरने का आमंत्रण दे रहे हैं। महंत परमहंस दास ने अयोध्या से चुनावी अखाड़े में उतरने की अपील की है तो वहीं कुछ साधु-संतों के एजेंडे पर मथुरा है। संत समाज का कहना है कि अयोध्या में तो विकास का काम तेजी से चल रहा है काशी में भी विकास हो रहा है अब मथुरा की बारी है। ऐसे में सीएम योगी को मथुरा से ही चुनावी मैदान में ताल ठोकनी चाहिए। बड़ा सवाल ये है कि सीएम योगी जब चुनावी अखाड़े में उतरने के लिए सीट पर फैसला करेंगे तो क्या इन महंतों की भावनाओं का सम्मान करेंगे या फिर चुनावी नफा नुकसान के हिसाब से सीट पर निर्णय लिया जाएगा। कयासों का बाजार इस भीषण ठंड में भी गर्म हैं।  


सीएम योगी किस विधानसभा सीट से चुनावी अखाड़े में उतरेंगे। इसकी घोषणा भी वो जल्द ही करेंगे और सीट के सवालों पर विराम लगाएंगे। सीएम योगी के चुनावी अखाड़े में उतरने के ऐलान के बाद तपस्वी छावनी के महंत जगतगुरु परमहंस आचार्य ने मुख्यमंत्री से अपील की है कि वो अयोध्या से चुनाव लड़ें। एक टीवी चैनल से महंत ने कहा कि पहले की सरकारों ने अयोध्या को उपेक्षित रखा। जब से योगी जी यूपी के मुख्यमंत्री बने हैं, तब से अयोध्या में त्रेता युग लौट रहा है। सीएम योगी अयोध्या से चुनाव लड़ेंगे तो इसका और विकास होगा। मथुरा के संतों का कहना है कि अयोध्या का तेजी से विकास हो रहा है और अब मथुरा को भी उसी तरह चमकने की जरूरत है। संतों का कहना है कि अगर योगी मथुरा से चुनाव लड़ते हैं तो कृष्ण की नगरी का भी राम की नगरी की तरह विकास होगा।


हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि योगी चाहें अयोध्या से चुनाव लड़ें या फिर काशी अथवा मथुरा से, वह एक बार फिर यूपी के मुख्यमंत्री बनेंगे। उन्होंने ये भी कहा कि संतों की इच्छा है कि वो मथुरा से चुनाव लड़ेंगे।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में कहा है कि वह विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कुछ पत्रकारों से औपचारिक बातचीत में कहा, मेरे चुनाव लड़ने पर कोई संशय नहीं हैं, लेकिन मैं चुनाव कहां से लडूंगा, इस बात का फैसला पार्टी नेतृत्व करेगा। योगी इस समय उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य हैं। जब उनसे पूछा गया कि वह अयोध्या से चुनाव लड़ेंगे या मथुरा से या गोरखपुर से, तब उन्होंने कहा पार्टी जहां से कहेगी, मैं वहां से चुनाव लडूंगा।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें