Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 12 दिसंबर 2021

व्हाट्सएप ग्रुप पर शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी ने की महिला शिक्षक पर आपत्तिजनक टिप्पणी, अपने नौकर और नौकरानी से की तुलना

मान्धाता शिक्षक संघ प्रथम के नाम से व्हाट्सएप ग्रुप पर शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी ने महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह के विषय में की अपमानजनक टिप्पणी  

व्हाट्सएप ग्रुप पर आपत्तिजनक टिप्पणी...

समाज में शिक्षक को बहुत ही सम्मानित नजर से देखा जाता है, क्योंकि शिक्षक समाज की स्थापना में बच्चों को शिक्षा प्रदान कर अपने दायित्व का निर्वहन कर स्वयं को अगली पंक्ति में रखता है। परन्तु आधुनिकता की चकाचौंध में शिक्षक भी अपने कर्तब्य पालन से भटक चुका है। वह पठन-पाठन के कार्य से विमुख होकर राजनीति करने में अधिक रूचि लेने लगा है। डिजिटल इण्डिया के दौर में सोशल मीडिया से समाज के सभी वर्ग जुड़े हैं और अधिकतर लोग फेसबुक और व्हाट्सएप से जुड़े होते हैं। कभी-कभी लोग आपस में चैटिंग करते समय भूल जाते हैं कि उनके आपसी बहस में सम्बन्ध भी खराब हो सकते हैं। फिर भी लोग आपस में बहस कर बैठते हैं और आपसी सम्बन्धों को खराब कर लेते हैं। हालांकि बाद में आवेश खत्म होने के बाद उन्हें इस बात का पछतावा भले ही होता हो कि उन्होंने गलत किया, परन्तु मुंह से निकली बात और बन्दूक से निकली गोली कभी वापस नहीं होती।   

सेवा नियमावली के विपरीत शिक्षक ने ग्रुप पर डाली पोस्ट... 

ऐसा ही एक प्रकरण प्रतापगढ़ में दो शिक्षकों के बीच देखने को मिला। मान्धाता शिक्षक संघ प्रथम नाम से स्थापित व्हाट्स ग्रुप जो उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला मंत्री और मान्धाता ब्लॉक के अध्यक्ष विनय सिंह द्वारा स्थापित किया गया है उक्त व्हाट्सएप ग्रुप में शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी और महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह भी सदस्य के तौर पर शामिल हैं उक्त ग्रुप व्हाट्सएप में शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी द्वारा सरकार विरोधी एक पुरानी खबर को पोस्ट करने के बाद महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह के बीच बहस शुरू हुई कि सरकार विरोधी पोस्ट ग्रुप में डालना उचित नहीं है। क्योंकि ऐसा करना एक लोकसेवक के आचरण के विरुद्ध है। व्हाट्सएप ग्रुप में सेवा नियमावली के विरुद्ध पोस्ट डालने वाले शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी ने मर्यादाओं की सीमा तोड़ते हुए उनकी पोस्ट का विरोध करने वाली महिला शिक्षक के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करना शुरू किया। 


व्हाट्सएप ग्रुप के अन्य सदस्य उन्हें ऐसा करने से मना किया तब भी वह नहीं माने। मोदी और योगी राज में महिलाओं का सम्मान करने की बात की जाती है और प्रतापगढ़ में एक पुरुष शिक्षक एक महिला शिक्षक को सार्वजानिक रूप से पोस्ट करता है कि आपसे ज्यादा इंटेलिजेंट मेरी घर की नौकरानी है। बात यहीं खत्म नहीं हुई।शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी ने सारी सीमाएं तोड़ते हुए महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह को कहा कि तुम जितनी सेलरी पाती हो उससे कई गुना सेलरी हम अपने नौकरों को देते हैं इस बात से यह तय हो जाता है कि शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी के मन में महिलाओं के प्रति सम्मान नहीं है जितनी सेलरी महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह पाती हैं उतनी ही सेलरी तो शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी भी पाते हैं फिर इस तरह का बड़बोले शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी के मुंह से शोभा नहीं देते है। जब शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी अपने साथी महिला शिक्षक का सम्मान नहीं कर सकते तो समाज में अन्य महिलाओं का सम्मान करने की उम्मीद उनसे करना बेईमानी होगी वह इसी सोच और विचार के साथ बच्चों को भी शिक्षा देते होंगे  


मान्धाता शिक्षक संघ प्रथम के एडमिन से महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह ने अपनी आपत्ति जताई है और बदजुबान शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी के खिलाफ शिकायत करने का मन बनाया है इस सम्बन्ध में जब मान्धाता शिक्षक संघ प्रथम के एडमिन विनय सिंह से बात की गई तो उन्होंने भी माना कि शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी और महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह के बीच कल ग्रुप में एक पुरानी पोस्ट को लेकर बहस हुई थी।दोनों में वैचारिक मतभेद होना अलग विषय है, परन्तु एक महिला के सम्मान में शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी की टिप्पणी अशोभनीय और अमर्यादित है। आवेश में भी शब्दों की मर्यादा बनाकर अपनी बात रखनी चाहिएपरन्तु शिक्षक महफूज़ अहमद सिद्धिकी ने शब्दों की मर्यादा का ध्यान नहीं रखा हमने फोन करके महफूज़ अहमद सिद्धिकी को अपनी टिप्पणी डिलीट करने के लिए बोला था,परन्तु वह ऐसा नहीं किये। उन्होंने सेवा नियमावली का उल्लंघन किया है और समूह की मर्यादा को भी तार-तार किया है उन्हें ग्रुप से बाहर करके महिला शिक्षक भानु प्रिया सिंह की सम्मान की रक्षा की जायेगी 

 

2 टिप्‍पणियां:

  1. Dono log ko discuss nahi kerna chaahiye,sab ko miljulker baccho ko acchi siksha dene ki baat kerni chiye,


    Dono log apes me miljul ker rahe bahut accha hoga🎉

    जवाब देंहटाएं
  2. Kisi ko kam age me kisi ko jyada age government job milti hai ,kisi ko milti hi nahi ,isme mahila ne pahle Uksaya aisa dikh raha hai

    जवाब देंहटाएं

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें