Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

प्रतापगढ़ के कंधई थाना में लूट की घटना का सफल अनावरण, घटना में संलिप्त अभियुक्त गिरफ्तार, लूट के पाँच हजार रूपये व चार अदद देशी बम भी पुलिस ने किये बरामद

चोरी और लूट के आरोपियों के पास से प्रतापगढ़ के थानों में तैनात वर्तमान पुलिस असलहे के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए अपरधियों के पास से बरामदगी में तमंचे कम, देशी बम अधिक दिखाने लगी है...

लूट की घटना में संलिप्त अभियुक्त गिरफ्तार...

थाना कंधई पर दिनांक- 29/11/2021 को आवेदक द्वारा यह सूचना दी गई कि थाना क्षेत्र कंधई के मन्दाह गेट के पास मोटर साइकिल सवार तीन अज्ञात व्यक्तियों द्वारा उनसे 15000/- रूपये नकद व उनका मोबाइल फोन लूट लिया गया है। इस संबंध में थाना स्थानीय पर मु0अ0सं0-381/2021 धारा-392 भादंवि का अभियोग अज्ञात के विरूद्ध पंजीकृत किया गया। पुलिस अधीक्षक प्रतापगढ़ सतपाल अंतिल द्वारा घटना के शीघ्र अनावरण/अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु संबंधित को कड़े निर्देश दिये गये थे। इसी क्रम में कल दिनांक 06/12/2021 को थाना कंधई पुलिस द्वारा उक्त घटना का सफल अनावरण करते हुए मुखबिर खास की सूचना पर थाना क्षेत्र कंधई के ओझला स्कूल के पास से 2 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से उक्त अभियोग से संबंधित लूट के 5000/- रूपये व 4 अदद देसी बम बरामद किये गये। 


जनपद प्रतापगढ़ में एक नया ट्रेंड इस समय देखने को मिल रहा है। चोरी और लूट के आरोप में दर्ज मुकदमों में पुलिस जो गिरफ्तारियां कर रही हैं,उन आरोपियों के पास से असलहे के रूप में तमंचे की जगह देशी बम की बरामदगी में इजाफा हुआ है। पुलिस की इस तरह बरामदगी से जनमानस में सवाल उठने लगे हैं। एक जानकार का कहना है कि तमंचे की ब्यवस्था करने में पुलिस को अधिक धन खर्च करना पड़ता है और देशी बम सस्ते  में तैयार हो जाते हैं। पुलिस के लिए आम जनमानस में यह धारणा है कि वह असलहे और देशी बम की बरामदगी आरोपियों के पास से जो दिखाती है, उसकी ब्यवस्था वह स्वयं करती है और इसी का फायदा आरोपियों को न्यायालय में ट्रायल के दौरान मिल जाता है और वह अपराध करने के बाद भी बाइज्जत बरी हो जाया करते हैं।   


पूछताछ का विवरण...


गिरफ्तार अभियुक्तों ने पूछताछ में बरामद देसी बम के संबंध में बताया कि हमारी एक युवक से आपसी रंजिश है, जिसे क्षति पहुंचाने के उद्देश्य से हम लोगों ने ये बम अपने पास रखे हुए हैं। कड़ाई से पूछताछ में अभियुक्तों द्वारा बताया गया कि दिनांक- 29/10/2021 को मन्दाह गेट के पास से हम दोनों व हमारे एक अन्य साथी द्वारा एक युवक से पैसे व उसका मोबाइल फोन लूट लिया गया था, जिससे हम तीनों को हिस्से में पाँच-पाँच हजार रूपये मिले थे। हमारे पास जो रूपये बरामद हुए वो उसी लूट से संबंधित बचे हुए रूपये हैं तथा अपने हिस्से के रूपये व लूट का मोबाइल फोन हमारे तीसरे साथी के पास हैं। पुलिस की इस कहानी में लोचा दिख रहा है। जब आरोपी तीन हैं और तीनों ने पाँच-पाँच हजार रूपये आपस में बाँट लिए तो दो आरोपियों के पास सिर्फ पाँच हजार रूपये ही बरामद होना पुलिस की बनाई हुई कहानी पर शक पैदा करता है।   


घटना में संलिप्त अन्य एक अभियुक्त को चिह्नित कर लिया गया है, जल्द ही गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाएगी।गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण में इरसाद अहमद पुत्र निसार अहमद निवासी रामपुर कुर्मियान थाना कंधई, जनपद प्रतापगढ़ एवं विजय प्रताप सिंह उर्फ भोले सिंह पुत्र देवब्रत सिंह निवासी सराय भीमसेन थाना कंधई, जनपद प्रतापगढ़। पंजीकृत अभियोगों का विवरण में मु0अ0सं0-425/2021 धारा-4/5 विस्फोटक अधिनियम बनाम इरसाद अहमद उपरोक्त एवं मु0अ0सं0-426/2021 धारा-4/5 विस्फोटक अधिनियम बनाम विजय प्रताप सिंह उपरोक्त पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक सत्येन्द्र सिंह मय हमराह थाना कंधई जनपद प्रतापगढ़ शामिल रहे। पुलिस गिरफ्तार करने वाले आरोपियों के पास से देशी बम की बरामदगी भले ही तात्कालिक समय में दिखाकर अपनी पीठ थपथपा ले,परन्तु अदालत में ट्रायल के दौरान उसकी सारी स्क्रिप्ट फेल हो जाती है और आरोपी दोषमुक्त हो जाते हैं। पुलिस की कहानी का असली हकीकत यही है।    


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें