Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 14 दिसंबर 2021

बारातियों संग स्कूटी पर सवार होकर दुल्हन स्वयं पहुँची दूल्हे के घर बारात, दुल्हन को देखने के लिए लोग हो रहे थे, ब्याकुल

समाज में अभी तक दूल्हा एवं उसके परिवार और सगे सम्बन्धी ही बारात लेकर दुल्हन के घर जाते रहे हैं,परन्तु आधुनिकता की चकाचौंध में दुल्हन भी दूल्हे के घर बारात लेकर जाने लगी   

दुल्हन स्कूटी पर सवार होकर बारातियों के साथ पहुंची दुल्हे के घर...

आगरा। उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में एक दुल्हन ने फिल्मी अंदाज में अपनी बारात लेकर स्कूटी पर सवार होकर दूल्हे के घर पहुँच गई। फिल्मों में दूल्हे को गाड़ी पर बिठाकर दुल्हन को तो कई बार देखा होगा, लेकिन यूपी के फिरोजाबाद में जो देखने को मिला उसने लोगों को हैरान कर दिया। यहां दूल्हे की जगह दुल्हन ही स्कूटी से जयमाल के स्टेज पर पहुँच गई। दुल्हन ने स्कूटी पर दूल्हे को भी बिठा रखा था। दुल्हन की इस अनोखी अदा को देखकर लोग अचंभित रह गए। मजे की बात तो यह है कि दूल्हे की जगह दुल्हन बारात लेकर आई थी। इसके बाद दुल्हन का भी दूल्हे की तरह सभी रस्मों को निभाया गया। पहले द्वारचार हुआ फिर जयमाल और बाकी की रस्मे की गईं। 


दुल्हे के साथ स्कूटी पर दुल्हन की फिल्मों की एंट्री को देखकर शादी समारोह में मौजूद लोगों ने भी दुल्हन की खूब हौसला अफजाई के लिए तालियां बजाईं। अभी तक दूल्हे बारात लेकर आते थे और दुल्हन पक्ष शादी के लिए कार्यक्रम स्थल पर पहुंचता था, लेकिन फिरोजाबाद के ब्लॉक एका के गांव रामपुर में दुल्हन खुद अपनी बारात लेकर आई और दूल्हे जैसी सभी रस्मों को पूरा किया। गांव रामपुर में राम बहादुर उर्फ पप्पू के पुत्र राहुल की शादी दिल्ली शहदरा मौजपुर निवासी अभिलाषा राम की पुत्री काजल से तय हुई थी। रविवार की शाम चार बजे तय समय पर दुल्हन बारात लेकर दूल्हे के गांव रामपुर पहुंची। दूल्हे पक्ष ने भी पूरे सम्मान के साथ जनमासे में बारात रोकी और नाश्ता आदि करने के बाद पूरे बैंडबाजे के साथ गांव में स्कूटी पर निकली तो हर ओर महिला पुरुष उसको देखने लगे। 


इतना ही नहीं दुल्हन, दूल्हे को स्कूटी पर पीछे बिठाकर चल रही थी और बाद में दोनों पक्षों के रिश्तेदारों और ग्रामीणों के बीच दुल्हन, दूल्हे को लेकर स्टेज पंडाल तक पहुंची तो तालियां बजने लगीं। वहीं, बारात स्वागत के बीच दुल्हन का दरवाजा कार्यक्रम हुआ। जयमाला में ग्रामीणों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। गांव में हुई इस नई परंपरा की शादी को जिसने भी देखा उसके लिए यह शादी कौतूहल का विषय बना रहा। कुछ लोगों ने इसे बेटी पढ़ाओ, बेटी बढ़ाओ के तहत आधुनिक शादी बताते हुए अच्छा कदम बताया। आधुनिक तरीके से हुई इस शादी की चर्चा लोग आपस में करते रहे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें