Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शनिवार, 4 दिसंबर 2021

रायबरेली विधायक अदिति सिंह और देवांशी गुप्ता का सामाजिक बहिष्कार करने का रायबरेली में जगह-जगह चश्पा किया गया पोस्टर

विधानसभा चुनाव से पहले रायबरेली में शुरू हुआ पोस्टर वार,पहला निशाना पाँच बार विधायक रहे अखिलेश सिंह के विधायक पुत्री अदिति सिंह और देवांशी गुप्ता को किया गया टारगेट 


विधायक अदिति सिंह और देवांशी गुप्ता का सामाजिक बहिष्कार करने की अपील...

अखिलेश सिंह रायबरेली सदर सीट से पांच बार विधायक रह चुके थे। रायबरेली में उनकी अच्‍छी-खासी पैठ थी और गांधी परिवार से नजदीकियां भी। उनके निधन के बाद बेटी अदिति सिंह ने कांग्रेस छोड़ दी। अदिति सिंह कभी पिता की सीट रही रायबरेली सदर से मौजूदा विधायक हैं। 21 नवंबर, 2019 को अदिति सिंह ने पंजाब के कांग्रेस विधायक अंगद सिंह संग शादी कर ली थी। कांग्रेस से विधायक अदिति सिंह का सम्बन्ध बिगड़ता गया और अदिति सिंह अंततः भाजपा में शामिल हो गई। विधायक अदिति सिंह पर जब जानलेवा हमला हुआ था, तभी उनका मन कांग्रेस से उचट चुका था। पहले शब्दवाण से विधायक अदिति सिंह कांग्रेस पर हमला शुरू किया और बाद में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर कांग्रेसियों के जख्म पर नमक रगड़ने का कार्य किया


कांग्रेस की विधायक अदिति सिंह का भाजपा में जाने का बड़ा नुकसान उनके पति अंगद सिंह सैनी को हो सकता है, जो पंजाब की नवांशहर सीट से विधायक हैं। विधायक अदिति सिंह के पति अंगद सिंह सैनी के लिए कांग्रेस में रहना असहज हो सकता है। इस बात से रायबरेली में एक धड़ा विधायक अदिति सिंह से नाराज चल रहा है। नाराजगी इतनी बढ़ी कि रायबरेली शहर में अदिति सिंह और उनकी बहन देवांशी सिंह के विषय में आपत्तिजनक शब्द लिखा हुआ एक पोस्टर बनाया गया जो जगह-जगह चश्पा किया गया, जिसमें विधायक अदिति सिंह और उनकी बहन देवांशी सिंह की तस्वीर भी प्रकाशित है पोस्टर चश्पा करने के पीछे कौन लोग हो सकते हैं ? इस विषय पर विधायक अदिति सिंह से बात करने का प्रयास किया गया,परन्तु उनसे बात न हो सकी। उनका पक्ष प्राप्त हो जायेगा तो उससे अवगत करा दिया जायेगा


रायबरेली में विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर हुआ पोस्टर वार शुरू हो चुका है सदर विधायक आदिति सिंह और उनकी बहन देवांशी सिंह की पूरे जिले में फोटो लगे पोस्टर चस्पा जगह-जगह चश्पा किया जाना इसका जीता जागता उदाहरण है। परन्तु विरोध का यह तरीका अलोकतांत्रिक रहा। स्वस्थ लोकतंत्र में किसी की सामाजिक छवि को तहस नहस करने का प्रयास किया गया है क्योंकि पोस्टर में विधायक अदिति व देवांशी को चरित्रहीन और कुल कलंकित करने वाली कहा गया है प्रकाशित हुए पोस्टर में विधायक अदिति सिंह के पिता अखिलेश सिंह को भी जोड़ा गया है और लिखा गया है कि तुम्हारे पापों का प्रायश्चित छत्रिय समाज को करना होगा तुमने अखिलेश सिंह, मंगल सिंह सैनी के परिवार को तो तबाह किया ही, अखिलेश दास गुप्ता के घर को भी तबाह किया। फिलहाल इसका आशय तो पोस्टर चश्पा करने वाले ही बता सकते हैं।  


सदर सीट से पाँच बार विधायक रहे अखिलेश सिंह, धुन्नी सिंह के साथ सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ जी के भी नाम को कलंकित किया है। कभी न मिटने वाले अखिलेश सिंह का नामोनिशान मिटा दिया। इसलिए ऐसी स्वेच्छाचारिणी, चरित्रहीन और कुल कलंकिनी बेटियों पर रायबरेली का जनमानस थूकता है। तुम्हारे पापों के कारण सैनी और गुप्ता को न कोई बहनोई कहेगा और न ही तुम्हें दीदी कहेगा। इस तरह रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह व उनकी बहन देवांशी पर जमकर हमला किया गया है और उन्हें कुल कलंकिनी जैसे शब्दों से भी नवाजा गया। सवाल उठता है कि क्या स्वस्थ लोकतंत्र में ऐसा पोस्टर चश्पा करना जायज है ? क्या इससे महिला की छवि खराब नहीं होगी, वह भी माननीय विधायक जैसे पद पर निर्वाचित हुई महिला के सम्बन्ध में इतने अपमानजनक शब्दों के साथ पोस्टर का चश्पा करना घृणित एवं निंदनीय कार्य है


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें