Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 29 दिसंबर 2021

इत्र कारोबारी की जेल में कैसी बीती रात, करवटें बदल-बदल कर बिताई रात, नहीं किया भोजन और न ही किसी से की बात

इत्रलोक का बादशाह पीयूष जैन की खामोशी इस गाने की याद ताजा कर दी, कुछ मत पूँछो, कुछ मत पूँछो घड़िया इन्तजार की...

सलाखों के पीछे भी खामोश बना रहा इत्र कारोबारी पीयूष जैन...

उत्तर प्रदेश के इत्रलोक के धनकुबेर पीयूष जैन इन दिनों मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक सुर्खियों में बने हुए हैं। सुर्खियों में आने की वजह पीयूष के कानपुर और कन्नौज के ठिकानों से अब तक 196.45 करोड़ों रुपए के गुप्त खजाने और 23 किलो सोना का मिलना है। अथाह पैसा मिलने के बाद पीयूष को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में कानपुर जिला जेल भेज दिया गया है। आइए जाने धन कुबेर की जेल में कैसी बीती पहली रात मिली जानकारी अनुसार धनकुबेर पीयूष जैन को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत कानपुर जिला जेल के बैरक नंबर 15 में रखा गया है। 


27 दिसंबर दिन सोमवार को पीयूष की जेल में पहली रात थी। बैरक नंबर 15 में पीयूष जैन कभी करवटें लेता तो कभी उठकर टहलने लगता। धन कुबेर देर रात तक सो नहीं सका। बस अपनी बैरक में ही इधर-उधर ही टहलता रहा। जेल सूत्रों ने बताया कि उसने रात का भोजन भी ठीक से नहीं किया। बताया जा रहा है कि वह करीब ढ़ाई-तीन बजे के बीच सोया। धनकुबेर पीयूष की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मियों ने जब उससे जागने की वजह भी पूंछी, मगर धन कुबेर ने जवाब दिया कि कोई दिक्कत नहीं है, बस उसे नींद नहीं आ रही है। जेल सूत्रों की मानी जाए तो पीयूष को आम कैदियों की तरह ही रखा गया है और उसे जेल नियमों के मुताबिक कंबल और तकिया मिले हैं।पीयूष जेल में किसी से बात नहीं कर रहा, लेकिन जेल के अन्य कैदी उससे बातचीत करने के लिए बहुत आतुर दिखाई दिए, क्योंकि सभी जानना चाहते हैं कि आखिर इतना बड़ा खजाना हाथ कैसे लगा ?


धन कुबेर पीयूष जैन को रविवार 26 दिसंबर की देर रात डीजीजीआई की टीम ने गिरफ्तार कर लिया था। 27 दिसंबर को पीयूष का मेडिकल कराया गया और कोर्ट में पेश किया गया। जहां से 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में धन कुबेर पीयूष को जीएसटी की धारा- 132 के तहत जेल भेज दिया गया था। इस दौरान जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय ने बताया कि पीयूष जैन ने स्वीकार किया है कि रिहायशी परिसर से बरामद नकदी बिना जीएसटी के माल की बिक्री से जुड़ी है। छह दिनों की छापेमारी में इनकम टैक्स विभाग और जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय को धन कुबेर पीयूष के सभी ठिकानों से 196.45 करोड़ रुपए कैश बरामद हुए है। डीजीजीआई ने कैश के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि पीयूष के कानपुर घर से 177.45 करोड़ रुपए कैश बरामद हुए है, तो वहीं कन्नौज घर से 19 करोड़ रुपए कैश मिला है। 


इतनी बड़ी रकम मिलने के बाद पीयूष को गिरफ्तार कर लिया और 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। धन कुबेर पीयूष जैन मूलरूप से कन्नौज के छिपत्ती के रहने वाले हैं और वर्तमान में कानपुर के जूही थाना क्षेत्र के आनंदपुरी में रहते हैं। धन कुबेर पीयूष इत्र कारोबारी है और इनकी फैक्ट्री कन्नौज की इत्र वाली गली में हैं। वहीं से पीयूष अपना कारोबार चलाते हैं। इनके कन्नौज, कानपुर के साथ मुंबई में भी ऑफिस हैं। कन्नौज फैक्ट्री से इत्र मुंबई जाता है और यहां से इत्र पूरे देश और विदेश में बेचा जाता है। इनकम टैक्स विभाग को पीयूष की करीब 40 कंपनियों की जानकारी मिली है, जिनके माध्यम से पीयूष अपना इत्र कारोबार चला रहे थे। आज भी कानपुर की ज्यादातर पान मसाला यूनिट, पान मसाला कम्पाउंड पीयूष जैन से ही खरीदती है। फिर भी आयकर विभाग के अफसर यह मानने के लिए तैयार नहीं कि जितनी धनराशि पीयूष जैन के यहाँ प्राप्त हुई है, वह सब पीयूष जैन की है। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें