Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

नई नवेली दुल्हन की अजब कहानी, शादी कर ससुराल पहुँचते ही पति के घर को लूटने वाली दुल्हन गैंग की हुई गिरफ्तारी

लुटेरी दुल्हन गैंग में भाई बनकर युवक कराता था,शादी और बाद में दुल्हन  ससुराल को कंगाल कर हो जाती थी,नौ दो ग्यारह 

शादी कर ससुराल को लूटने वाली दुल्हन गैंग की हुई गिरफ्तारी...

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में लुटेरी दुल्हनों के भाई को ग्वालियर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह फर्जी भाई उज्जैन से पकड़ा गया है। इसने पुलिस से लुटेरी दुल्हनों के गैंग के काम करने के तरीके को बयां किया है। गैंग कारोबारी परिवार फंसाता था। बहनों को व्यवसायियों के घर में फर्जी नाम पते से शादी कराकर एंट्री कराता था। शादी के 15 से 20 दिन बाद यह लुटेरी दुल्हन कैश और सोना लेकर भाग जाती थीं। यह गिरोह का मास्टर माइंड है।दो लुटेरी दुल्हन पकड़ी जा चुकी है। एक अभी भी फरार है। अप्रैल, 2021 में यह दोनों लुटेरी दुल्हन ग्वालियर के बिलौआ में कपड़ा कारोबारी के दो छोटे भाइयों से शादी करने के 15 दिन बाद 15 लाख रुपए का माल लेकर फरार हुई थीं। यह गैंग प्रदेश के इंदौर, उज्जैन व ग्वालियर में वारदात कर चुके हैं।

बिलौआ निवासी नागेन्द्र जैन कारोबारी हैं। उनका बिलौआ में कपड़े का व्यवसाय है। 3 दिसंबर, 2020 में उन्होंने अपने छोटे भाइयों दीपक जैन और सुमित जैन की शादी उज्जैन की नंदनी मित्तल व रिंकी मित्तल से की थी। रिश्ता दोनों लड़कियों के भाई संदीप मित्तल (जिसका नाम संदीप शर्मा है) के सामने तय हुआ था। यह रिश्ता समाज के बाबूलाल जैन ने तय करवाया था। दोनों लड़कियों को वैश्य बनिया बताया गया था। शादी के बाद नंदनी और रिंकी करीब 15 से 20 दिन तक ससुराल रहीं। बाद में मायके चली गईं। घटना का पता उस समय चला जब कई दिन बाद भी वे वापस नहीं आईं। हर बार आने का वादा करने के बाद भी वापस नहीं आईं। घर वालों को शक हुआ और कमरों की तलाशी ली तो पता चला कि दोनों बहनें घर का सारा जेवर लगभगग 8 लाख रुपए का और 7 लाख नकद समेट कर ले गई हैं। पीड़ित के अनुसार शादी के समय बताया गया था कि सगी बहनों के माता-पिता की मौत हो चुकी है। शादी कराने के नाम पर उनसे 7 लाख रुपये लिए गए थे। बाद में जांच में पता चला है कि एक दुल्हन का पहले से ही एक बेटा है। उज्जैन में दोनों दुल्हनों के खिलाफ शादी के बाद धोखाधड़ी की FIR भी पहले से ही दर्ज थी

सोशल मीडिया अकाउंट से हुआ,खुलासा...

फरियादी द्वारा बताया गया कि सोशल मीडिया अकाउंट पर उनके भाइयों से शादी करने वाली लड़कियों की फेसबुक आईडी दिखाई दी, जिनमें उनके नाम अलग थे और अधिक छानबीन करने पर उनको ज्ञात हुआ कि उक्त लड़कियों ने अलग-अलग नामों से बहुत सारी फेसबुक आईडी बना रखी हैं, साथ ही जिन लडक़ों को उन्होने अपना भाई बताकर परिवार से मिलवाया था, उनके भी सोशल मीडिया अकाउन्ट अलग-अलग नामों से थे। फरियादी को लड़कियों की फेसबुक आईडी से पता चला कि दोनों लड़कियां पूर्व से ही शादीशुदा हैं। लड़कियों के संबंध में उज्जैन जाकर पता करने पर उनको ज्ञात हुआ कि लड़कियों के भाई बनकर आये युवक के विरुद्ध कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। इन फरेबी लड़कियों द्वारा एक गैंग बनाकर धनवान लड़के के परिवार से शादी करके धोखाधड़ी करना इनका पेशा है। उक्त लड़कियों द्वारा पूर्व में कुछ लोगों पर दुष्कर्म की धारा- 376 भादवि के तहत मुकदमा भी दर्ज कराय गए हैं।

प्रकरण के अन्य आरोपियों पर गिरफ्तारी का दवाब पड़ने से धोखाधड़ी कर शादी करने वाली आरोपी नंदनी और रिंकी द्वारा डबरा न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया गया। जिन्हें पूंछतांछ के उपरान्त न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया। प्रकरण में शेष बचे आरोपियों की तलाशी के लिए दबिशों के दौरान एक आरोपी को उज्जैन से पुलिस टीम द्वारा गिरफ्तार किया। यह संदीप शर्मा है और इसने ही दोनों लुटेरी दुल्हनाें का भाई संदीप मित्तल बनकर रिश्ता तय किया था। करोबारी परिवारों के लड़के तलाशने से लेकर उनकाे फंसाने का काम इसी का रहता था। इसने इंदौर, उज्जैन और ग्वालियर में वारदात करना कुबूल किया है। कथित दुल्हन के कथित भाई के पास से एक सोने की अंगूठी, एक पायल तथा 12,500/-नगद रुपए बरामद किये गये हैं। शेष जेवरात व नगदी बरामदगी के प्रयास जारी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें