Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

डैडी की दुलारी बिटिया हेलीकॉप्टर से जाएगी पिया के घर, जिला प्रशासन प्रतापगढ़ ने दी अनुमति

उर्वशी सिंह की शादी होगी यादगार,सुबह बेटी की विदाई के समय पिता विनोद सिंह एवं माँ के लिए होगा भावुक पल 


दाम्पत्य जीवन में आज सात फेरे लेकर बंध जायेगी उर्वशी...

प्रतापगढ़। जनपद मुख्यालय प्रतापगढ़ में भुपियामऊ के पास स्थित गाँव- सराय सागर, पोस्ट- बहलोलपुर के रहने वाले शिक्षक विनोद सिंह ने अपनी बेटी उर्वशी की शादी बहुत ही धूमधाम से करने की ब्यवस्था की हैप्रतापगढ़ जैसे जनपद में रहते हुए एक पिता के तौर पर अपनी बेटी की शादी को यादगार बनाने के लिए विनोद सिंह उसकी विदाई हेतु एक प्राइवेट हेलीकॉप्टर की ब्यवस्था की है, जिससे उर्वशी की विदाई की जायेगी। भुपियामऊ के समीप प्रयागराज-अयोध्या राष्ट्रीय राजमार्ग पर उर्वशी सिंह की शादी जनपद के लिए यादगार साबित होगी। उर्वशी की शादी के लिए सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली है पिता शिक्षक विनोद सिंह की इकलौती बिटिया उर्वशी सिंह 26 नवंबर को वैवाहिक बंधन में बंधने के बाद 27 नवंबर को हेलीकॉप्टर से अपने साजन के साथ ससुराल जाएंगी 


शिक्षक विनोद सिंह के मन में अपनी बेटी उर्वशी की शादी को यादगार बनाने के लिए एक निजी कंपनी का हेलीकॉप्टर बुक किया है और उसी से उसकी विदाई का बंदोबस्त भी किया है उसके लिए समस्त औपचारिकताएं भी पूर्ण कर जिला प्रशासन से अनुमति भी प्राप्त कर लिया है। एक पिता अपनी बेटी की शादी में अपना सबकुछ न्योछावर कर देना चाहता है। अपनी क्षमता से अधिक खर्च कर पिता बेटी का कन्यादान करता है। उसे पता होता ही कि बेटा तो उसके साथ रहेगा, परन्तु बेटी तो शादी के बाद पराई हो जाती है। वह ससुराल जाती है तो वहीं की होकर रह जाती है। पिता का लगाव बेटे से अधिक बेटी पर होता है। बेटी की बिदाई के समय कितना भी कठोर दिल का बाप हो वह स्वयं को रोने से रोक नहीं पाता। जब एक पिता अपनी बेटी को डोली में बिठाता है तो वह फफक कर रो पड़ता है और उस समय उपस्थित लोग भी भावुक हो जाते हैं। एक बार बेटा, माँ और बाप की मुसीबत में पहुँचने में देरी कर सकता है, परन्तु बेटी ससुराल में रहकर यदि अपने माँ-बाप की मुसीबत की सूचना पाती है तो वह बिना देर किये अपने माँ-बाप के पास पहुँच जाती है। 


धन तो बहुत से लोगों के पास होता है, परन्तु सबका दिल दरियादिल नहीं होता। प्रतापगढ़ के रहने वाले विनोद सिंह जो पहले वकालत पेशे से जुड़े थे और बाद में शिक्षक में उनका चयन हो गया। विनोद सिंह की सामाजिक छवि बहुत ही अच्छी है। वकालत पेशे के दौरान न्यापालिका के कई जजों से उनके सम्बन्ध हुए जो आज तक कायम हैं वह वकालत से शिक्षक जरूर हुए परन्तु न्यायपालिका में उनकी पकड़ आज भी है उर्वशी के पिता विनोद सिंह ने बताया कि उनका सपना था कि उनकी बिटिया हेलीकॉप्टर से अपने ससुराल जाए, जो आज पूरा होने के समीप है। उन्होंने आगे बताया कि बिटिया की शादी लालगंज तहसील अंतर्गत रानीगंज कैथौला अर्जुनपुर निवासी अमित सिंह जो वर्तमान में शिक्षक हैं, के साथ तयकर दी गई है इस शादी को यादगार बनाने में दोनों परिवार सच्चे मन से लगे हुए हैं इसके लिए निजी कंपनी का एक हेलीकॉप्टर सेवन सीटर 27 नवंबर को सुबह 9:15 पर दुल्हन के गांव सराय सागर पहुंचेगा यहां से दुल्हन के बैठने के बाद सुबह 10:30 बजे उड़ान भरेगा और 15 मिनट बाद दुल्हन की ससुराल रानीगंज कैथौला के अर्जुनपुर में उतरेगा अपर जिलाधिकारी, प्रतापगढ़ द्वारा इसके लिए बकायदा अनुमति देते हुए सुरक्षा व्यवस्था हेतु पुलिस को निर्देश भी जारी किया है।  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें