Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 30 नवंबर 2021

राजधानी लखनऊ की अमीनाबाद पुलिस ने आज अंतर्राज्यीय टप्पेबाज गिरोह (interstate scuba gang) के चार सदस्यों को किया गिरफ्तार, गैंग का मास्टरमाइंड भी है, शामिल

लखनऊ में गिरफ्तार टप्पेबाज महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, के निवासी हैं। ये लोग राजधानी लखनऊ समेत उत्तर प्रदेश के कई शहरों में पिछले काफी समय से लोगों के साथ टप्पेबाजी कर उन्हें लूट रहे थे 

लखनऊ की पुलिस के हत्थे चढ़े टप्पेबाज गिरोह के सदस्य...

राजधानी लखनऊ के थाना अमीनाबाद पुलिस ने आज अंतर्राज्यीय टप्पेबाज गिरोह (interstate scuba gang) के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार टप्पेबाज में एक गैंग का मास्टरमाइंड भी शामिल है। इनके पास से टप्पेबाजी से लूटी गई दो बाइक समेत सोने चांदी के आभूषण (gold silver jewelery) भी बरामद हुए हैं। पुलिस को पूछताछ में इन टप्पेबाजों ने बताया कि वे क्राइम ब्रांच, एसटीएफ व सीबीआई के अधिकारी बनकर बुजुर्गों महिलाओं व दुकानदारों को झांसे में लेकर उनके साथ ठगी किया करते थे। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार टप्पेबाज महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, के निवासी हैं। ये लोग पिछले कई दिनों से लोगो के साथ टप्पेबाजी कर उन्हें लूट रहे थे।


बताया यह गया है कि इन टप्पेबाजों का गिरोह बिहार, दिल्ली, झारखंड, सहित देश के अन्य राज्यों में भी फैला है।ये लोगों क्राइम ब्रांच, पुलिस अधिकारी व सीबीआई होने को लेकर झांसे लेते थे फिर उन पर विभिन्न मामलों में आयी शिकायतों का हवाला देकर उनसे नगदी जेवर लूटकर फरार हो जाते थे। गिरफ्तार टप्पेबाज ईरानी गैंग के नाम से भी जाने जाते हैं। बताया यह गया है कि इनके दादा व परदादा कभी ईरान से भारत आये थे, उसके बाद ये लोग यहीं बस गए हैं। इनका बस यही पेशा है कि लोगों को मूर्ख बनाकर उनके सोने चांदी जेवरात लेकर फरार हो जाना। ये लोग अपने को पुलिस अधिकारी बताकर लोगों के सामने खुद को पेश करते थे और चेकिंग का भय दिखा कर उनके शरीर के सोने चांदी के आभूषण उतरवा कर फरार हो जाते थे। कई कई लोगों की बाइक चैक करने के नाम उनसे बाइक लेकर थाने आने की बोलकर उनकी बाइक लेकर फरार हो जाते थे।


ये लोग कईयों बार तो सर्राफा की दुकानों पर सीबीआई अधिकारी बनकर पहुंच जाते थे और कई शिकायतों का हवाला देकर उसकी दुकान के आभूषण लेकर फरार हो जाते थे। गिरफ्तार टप्पेबाजों का निशाना सिर्फ लखनऊ शहर ही नहीं रहता था, बल्कि ये लोग आम लोगों के बीच पहचान न होने पाए इसके दृष्टिगत कानपुर, आगरा व अन्य शहरों में भी टप्पेबाजी की वारदातों को अंजाम देने के लिए चले जाते थे। उन शहरों में भी ये लोग अपना परिचय क्राइम ब्रांच, एसटीएफ, सीबीआई के रूप में ही परिचय देते थे और उसे मूर्ख बनाकर उसके आभूषण नगदी लेकर फरार हो जाते थे। पुलिस ने बताया कि इन टप्पेबाजों की गैंग से जुड़े अन्य टप्पेबाजों की भी जानकारी हासिल कर ली गई है कुछ तो अभी भी राजधानी लखनऊ में ही मौजूद हैं। पुलिस उन सभी की तलाश की जा रही है। पुलिस इस गिरोह लखनऊ में मौजूद अन्य टप्पेबाजों की गिरफ्तारी के लिये आम आदमी के भेष राजधानी के बाजारों में मौजूद रहेगी ताकि वे अपना शिकार समझ कर पुलिस के सीधे हत्थे चढ़ जाएं।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें