Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 25 अक्तूबर 2021

योगी सरकार ने मेरठ के सोतीगंज के कबाड़ी किंग हाजी नईम उर्फ हाजी गल्ला के कबाड़ की गोदाम पर चलाया प्रशानिक हथौड़ा

पुलिस की जानकारी में संचालित होते रहते हैं,गैर कानूनी धंधे और शासन की चाबुक पर होती है,कार्रवाई   


मेरठ का कबाड़ी किंग हाजी नईम उर्फ हाजी गल्ला...

पूरे दिल्ली एनसीआर में कहीं से भी गाड़ी चोरी होती है तो उनमें से अधिकांश सीधे मेरठ के सोतीगंज मोहल्ले में पहुंचती है। यहां ऐसे ऐसे कबाड़ के कारीगर बैठे हैं, जो कुछ ही घंटों में गाड़ी का पुर्जा अलग-अलग कर देते हैं। फिर उन्हीं पुर्जों को कबाड़ बनाकर मेरठ से लेकर दिल्ली के जामा मस्जिद मार्केट तक में बेंचा जाता है। ये कोई बहुत गुप्त रहस्य नहीं है। ये ऐसा कटु सत्य है, जिसे पुलिस प्रशासन से लेकर राजनीतिक बस्ती तक लगभग सभी जानते हैं कि सोतीगंज नाम का क्या मतलब है ? लेकिन कभी किसी ने हाथ लगाने का प्रयास नहीं किया। कुछ राजनीतिक मजबूरी और कुछ घूसखोरी। सोतीगंज की ओर जिसने भी हाथ बढाया, उसका हाथ रोक दिया गया। कभी पैसे के बल पर तो कभी पहुंच के बल पर। 


कबाड़ी किंग हाजी नईम उर्फ हाजी गल्ला की गोदाम देखकर भौचक गई पुलिस... 

आखिर पुलिस प्रशासन के हाथ सोतीगंज तक पहुंचते भी तो कैसे ? वो तो मोमिन कबाड़ियों की बस्ती है। किसकी मजाल जो उन पर हाथ डाल दे ? लेकिन सोतीगंज वालों के दुर्भाग्य से उत्तर प्रदेश में एक ऐसे योगी की सरकार आ गयी, जिसने सोतीगंज को उजाड़ कर रख दिया। इस बस्ती का कबाड़ी किंग हाजी नईम उर्फ हाजी गल्ला पुलिस की गिरफ्त में आ गया। उस पर गाड़ी चोरी से लेकर अवैध कारोबार तक के कई मुकदमें है। लेकिन इतने से क्या होता है ? भारत में मुकदमें तो होते ही रहते हैं। इससे चोरी डकैती और अपराध रुकते हैं, क्या ? 


मेरठ का कबाड़ी मोहल्ला सोतीगंज में पाँच मिनट में कट जाती हैं,चोरी की गाड़ियाँ...

लेकिन योगी प्रशासन ने हाजी गल्ला की करोड़ों की संपत्ति कुर्क करके उसके कबाड़ के कारोबार की कमर तोड़ दी। अब हाजी गल्ला पुलिस रिमांड में है। पुलिस रिमांड से बचने के लिए उसने बेहोश होने का नाटक भी किया, लेकिन बच नहीं पाया। उसके साथ ही सोतीगंज के जिन अवैध कबाड़ियों पर पुलिस कार्रवाई हुई है, उनमें उसके दो बेटे बिलाल और इलाल भी शामिल हैं। इसके अलावा जीशान उर्फ पव्वा, शुएब, फुरकान, आलिम, बिलाल, खालिद और वसीम भी शामिल हैं। अब अगर आप दिल्ली एनसीआर में रहते हैं तो आपके गाड़ी चोरी होने की संभावना कम हो गयी है। जहां तक राजनीतिक प्रभाव की बात है तो सोतीगंज में योगी प्रशासन की इस कार्रवाई को देख लें


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें