Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 27 अक्तूबर 2021

अपने कार्य के प्रति सजग और निष्ठावान रहकर तेजतर्रार आईपीएस आकाश तोमर करते हैं, जनपद की कप्तानी

आईपीएस बनने का जूनून ने दिलाई UPSCमें 138वीं रैंक,अमेरिकी कंपनी में छोड़ा था,जॉब 

सहारनपुर के नए एसएसपी आकाश तोमर ने संभाला चार्ज,मूल रूप से अलीगढ़ जिले के हैं निवासी,बुलंदशहर में बीता है,बचपन

सहारनपुर एसएसपी का कार्यभार ग्रहण करते आकाश तोमर...

सहारनपुर के नए एसएसपी आकाश तोमर के लिए सहारनपुर में नशा तस्करी को रोकना बड़ी चुनौती होगा। क्योंकि सहारनपुर में नशे का ब्यापक पैमाने पर कार्य होता है। इस बात को एसएसपी आकश तोमर स्वयं स्वीकार करते हैंआईपीएस आकाश तोमर वैसे तो मूल रूप से अलीगढ़ जिले के रहने वाले हैं, लेकिन उनका बचपन बुलंदशहर में बीता है। एसएसपी सहारनपुर के पद पर तैनात आईपीएस अधिकारी आकाश तोमर वर्ष- 2013 बैच के आईपीएस अधिकारी है एसपी सिटी गाजियाबाद से एसपी संतकबीरनगर, बाराबंकी और एसएसपी इटावा का दायित्व निर्वाहन करने के बाद उन्हें संवेदनशील जनपद प्रतापगढ़ की कमान सौंपी गई थी। प्रतापगढ़ में शराब माफियाओं की कमर तोड़ने के बाद पंचायत चुनाव में प्रतापगढ़ के जनप्रतिनधियों से उनका मन खट्टा हुआ तो वह प्रतापगढ़ को स्वेच्छा से अलविदा बोलकर लम्बी छुट्टी पर चले गए और अब उन्हें सहारनपुर के एसएसपी की नई पारी खेलने की जिम्मेदारी योगी सरकार ने दी है


स्वच्छ छवि के पुलिस ऑफिसर आकाश तोमर...

आईपीएस अधिकारी Akash Tomar का अपना अलग ही अंदाज है। वह स्वछन्द मन से कार्य करने के लिए जाने जाते हैं। अपने कार्य में किसी की दखल उन्हें पसंद नहीं आती है। दबाव में कार्य करना उन्हें गंवारा नहीं। इसलिए प्रतापगढ़ जैसे जनपद में खुली छूट मिलने के बाद जनप्रतिनधियों का बेजा दबाव को वह दरकिनार कर अपने अंदाज में कार्य करते रहे जिसका जनप्रतिनधियों ने जमकर विरोध किया तो वह स्वयं छुट्टी लेकर प्रतापगढ़ से निकल लेना अपने लिए बेहतर समझेपुलिस ऑफिसर बनने से पहले वह अमेरिकी कम्पनी में कार्यरत रहे और UPSC की परीक्षा पास की तो उन्हें 138 वीं रैंक मिली। प्रतियोगी छात्र-छात्राओं को आकाश तोमर ने एक Tips दिया है जो काबिले तारीफ है। तेज तर्रार आईपीएस अधिकारी आकाश तोमर का कहना है कि हर विषय के लिए केवल एक अच्छी किताब को पढ़ें। कई किताबों को पढ़ने से बेहतर है कि एक किताब को कई बार पढ़ें। स्वयं IPS अधिकारी आकाश तोमर ने ट्वीट किया था कि उनके पास 2012 के खुद के नोट्स मौजूद हैं


कई किताबों को पढ़ने से बेहतर है कि एक किताब को कई बार पढ़ें - IPS आकाश तोमर...

यूपीएससी सिविल सर्विसेज की परीक्षाएं शुरू होने से पहले आमतौर पर आखिरी बचे दिनों में अभ्यर्थी केवल रिविजन पर ही ध्यान देते हैं। सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वाले लोग अक्सर नोट्स ढूंढ़ने में लगे रहते हैं। हर कोई चाहता है कि उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति के नोट्स उपलब्ध हो जाएं, जिन्होंने इस क्षेत्र में सफलता प्राप्त की हो। इससे सफलता हासिल करने की गुंजाइश बढ़ जाती है। इस दौरान लोग UPSC में सफल हो चुके लोगों को सुनना भी पसंद करते हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश के इटावा के एसएसपी रहे आकाश तोमर ने युवाओं की मदद के लिए अपने नोट्स शेयर करने की पेशकश की है। इतना ही नहीं ट्विटर पर उन्होंने सिविल सर्विसेज की परीक्षाओं को लेकर कई टिप्स भी दिये।

गजब का तेवर रखते हैं,आईपीएस अधिकारी आकाश तोमर...

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर निवासी आकाश तोमर ने प्रारंभिक शिक्षा कानपुर के वीरेंद्र स्वरूप स्कूल से हासिल की है। उन्होंने दसवीं में 92 फीसदी और बारहवीं में 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किया था। पढ़ने में होशियार आकाश तोमर का सेलेक्शन IIT रुड़की में भी हो गया था, लेकिन उन्होंने इलाहाबाद से बीटेक किया है। इसके बाद 6 महीने तक किसी अमेरिकी कंपनी में जॉब करने के बाद आकाश तोमर ने UPSC की परीक्षा में बैठने का निर्णय किया। वर्ष-2013 में उन्होंने 138वीं स्थान हासिल किया। आकाश तोमर के पिता सत्यपाल सिंह तोमर भी आईएएस अफसर बनना चाहते थे। लेकिन पारिवारिक समस्याओं के कारण उनका ये सपना पूरा नहीं हो पाया। वो बुलंदशहर के एलडीवी इंटर कालेज के प्रधानाचार्य रह चुके हैं। अपने पिता के सानिध्य में आकाश तोमर UPSC की परीक्षा पास ही नहीं की, बल्कि 138 वीं रैंक लाकर उनके सपने को साकार कर उनकी इच्छा को पूरा कर एक पुत्र का धर्म निर्वहन भी किया

IPSआकाश तोमर जी प्रतियोगी छात्र और छात्राओं के प्रति रखते हैं,अच्छे विचार...

IPS अधिकारी आकाश तोमर ने वर्ष-2020 में ट्वीट किया था कि उनके पास वर्ष-2012 के खुद के नोट्स मौजूद हैं। अगर कोई भी अभ्यर्थी इसे पढ़ना चाहता है तो वो यहां रिप्लाई दे या ईमेल के जरिये मुझसे संपर्क करे। इसके साथ ही, उन्होंने अपने सेव्ड नोट्स की लिंक भी शेयर की है, जिसे लोग डाउनलोड कर सकते हैं। वहीं, 18 दिसंबर को उन्होंने अभ्यर्थियों के लिए कुछ टिप्स भी शेयर किये हैं। उन्होंने लिखा है कि हर विषय के लिए केवल एक अच्छी किताब को पढ़ें। कई किताबों को पढ़ने से बेहतर है कि एक किताब को कई बार पढ़ें। नोट्स तरीकेबद्ध होने चाहिए, ताकि रिविजन करना आसान हो। जवाब लिखने का अभ्यास करें आखिरी 2 महीनों में नई किताब पढ़ने से बेहतर है कि रिविजन अगर कोरोना संक्रमण काल की वजह से या फिर आर्थिक दिक्कतों के कारण कोचिंग नहीं ले पाए हैं तो Byju अथवा Unacademy जैसे ऑनलाइन ऐप्स की मदद लें। राजेंद्र नगर के दुकानों में हस्तलिखित नोट्स उपलब्ध होते हैं, उन्हें अवश्य पढ़ें।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें