Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 10 अक्तूबर 2021

सूबे की योगी सरकार के दावे फेल हो रहे हैं, बेखौफ बदमाशों पर कार्रवाई करने में हांफ रही है,प्रतापगढ़ की पुलिस

प्रधान राजकुमार यादव के जानलेवा हमले के मामले में पुलिस के हाथ अभी तक खाली है,जबकि मेदांता हॉस्पिटल में राजकुमार यादव जिंदगी से लड़ रहे है,जंग 


भाजपा सरकार में सुरक्षित नहीं हैं,जनप्रतिनिधि ! अपराध मुक्त कार्यकाल का ढिंढोरा पीटने वाली योगी सरकार की पुलिस अपराधियों के ऊपर नहीं कस पा रही है,शिकंजा 


जानलेवा हमले के आरोपियों को नहीं खोज पा रही है,जेठवारा की पुलिस...

प्रतापगढ़ के थाना जेठवारा में एक सप्ताह पूर्व सपा नेता राजकुमार यादव को अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी थी। पुलिस ने गोली लगने के बाद से राजकुमार यादव की एम्बुलेंस को भुपियामऊ फोरलेन पकड़ा कर अपने कर्तब्यों की इतिश्री कर ली। तीन दिन तक थाने में राजकुमार यादव की तरफ से तहरीर ही नहीं पड़ी थी। जेठवारा पुलिस भी हाथ पर हाथ रखकर तहरीर का इंतजार कर रही थी। जबकि पुलिस की जिम्मेवारी होती है कि वह पीड़ित पक्ष के साथ खड़ी रहे और जानलेवा जैसी घटना में उसके जीवन की पूरी सुरक्षा की जिम्मेवारी भी पुलिस की होती है। कहीं हत्या के प्रयास करने वाले अपराधी पुनः अटैक न कर दें। फिर भी जेठवारा पुलिस लापरवाह बनी रही और तहरीर का इंतजार करती रही   


जानलेवा हमले के मामले में जेठवारा पुलिस के हाथ अभी तक खाली है। जबकि सपा नेता राजकुमार यादव का इलाज मेदांता अस्पताल में चल रहा है, जहाँ उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। भाजपा सरकार में कोई भी ब्यक्ति सुरक्षित नहीं है। सूबे को अपराध मुक्त करने का ढिंढोरा पीटने वाली योगी सरकार की पुलिस अपराधियों पर पकड़ बनाने के बजाय उन पर मेहरबान होती हुई नजर आ रही है जेठवारा थाने के सरियापुर गांव में 4 अक्टूबर को दोपहर में लाई मील संचालक राजकुमार यादव विगत 15 वर्षो से ग्राम प्रधान पद का प्रतिनिधित्व करते चले आ रहे हैं गोली लगने के बाद राजकुमार यादव को राजकीय मेडिकल कालेज प्रतापगढ़ में प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें प्रयागराज SRN रेफर कर दिया वहाँ भी स्थिति में सुधार नहीं हुआ जिसके बाद हालत गंभीर होने पर चिकित्सकों ने उन्हें मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ भेज दिया, जहाँ उनका इलाज चल रहा है। 


मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ में उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। इधर घटना को घटित हुए सप्ताह भर बीत गए, परन्तु पुलिस अभी तक किसी मुकाम पर नहीं पहुंच पाई। यही नहीं क्षेत्र में मामले का खुलासा न होने के कारण जहा प्रधान संघ भी डरा सहमा है तो दूसरी तरफ व्यापारी वर्ग भी डरा हुआ है। अपराधियों पर कार्यवाही के नाम पर अभी तक पुलिस घटना स्थल की परिक्रमा ही कर रही है। घटना के बाद ही पीड़ित के घर पर एक प्लाटून पी ए सी तैनात कर घटना को पुलिस भूल गई। ऐसे में पुलिस अपराधियों पर शिकंजा कसने में नाकाम रहेगी जिले के कप्तान सतपाल अंतिल भी घटना स्थल पर मोयना करने पहुँचे थे। परन्तु पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल भी किसी नतीजे पर नहीं पहुँच सके पुलिस अभी तक बेखौफ बदमाशों का सुराग नहीं लगा सकी।  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें