Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 26 अक्तूबर 2021

प्रतापगढ़ में भी यूट्यूब चैनल बनाकर कथित पत्रकारों ने बदल डाली पत्रकारिता की दिशा, खबर के लिए भी लिए कलयुगी पत्रकार लेने लगे हैं,धन

आधुनिक पत्रकार यूट्यूब चैनल की स्थापना कर झूठी और तथ्यहीन खबरें चलाकर पत्रकारिता को कर रहें हैं,बदनाम 


अखबारों और न्यूज चैनलों में भी प्रेस विज्ञप्ति के साथ लिफाफा देखने और माँगने का बढ़ गया चलन, इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकार भी कवरेज पर जाने से पहले लेते हैं, आने जाने की सुविधा 

डिजायनर पत्रकारों ने बदल दी पत्रकारिता की दिशा...

पत्रकारिता एक मिशन के रूप में मानकर समाज के बुद्धिजीवी वर्ग उससे जुड़ते थे और समाज के लिए आवाज बनते थे। पहले किसी के विषय में चार लाइन की खबर अखबारों में प्रकाशित होती थी तो वह शर्म से पानी-पानी हो जाता था। अपनी छवि को सुधारने का प्रयास करता था, न कि प्रकाशित खबर से अपना सीना चौड़ा मानकर उससे भी घिनौना कुकृत्य करता था। परन्तु आधुनिकता के बदलते दौर में आज चार लाइन नहीं बल्कि उसके खिलाफ पूरा एक पेज भरकर खबर लिख दिया जाए तो भी उसे हिचकिचाहट नहीं होगी। ये गिरावट खबर प्रकाशित होने वाले ब्यक्ति के साथ ही नहीं आई, बल्कि खबर प्रकाशित करने वाले पत्रकार और सम्पूर्ण पत्रकारिता जगत में आ चुकी है। शार्ट कट से धन कमाने के लिए स्तर गिराकर पत्रकारिता को शर्मसार करते हुए आधुनिक पत्रकार कुछ भी करने को तैयार हैं। ब्लैकमेलिंग और धन वसूली के साथ-साथ अब तो बड़े से बड़ा अपराध में साइड हीरो बनकर कार्य करने में कलयुगी पत्रकार संकोच नहीं कर रहे हैं। जुआ का अड्डा संचालित करना, नशे के सामान की बिक्री करवाने में भी डिजायनर पत्रकार पीछे नहीं हैं। शराब माफियाओं, खनन माफियाओं सहित भूमाफियाओं से हफ्ता/महीना लेना भी कुछ कथित अपना ब्यवसाय बना चुके हैं


आधुनिकता की चकाचौंध में डिजायनर पत्रकारों की भीड़ ने पत्रकारिता को कहीं का नहीं छोड़ा। धन की कमाने की लालसा में खबर की विश्वनीयता का गला घोंट दिया जा रहा है बेसिर-पैर की खबर चलाने का ऐसा चलन आया कि पत्रकार खबर चलाने के लिए धन की मांग करने लगे हैं कुछ कलयुगी पत्रकार तो दोहरा धंधा संचालित कर रहे हैं। पहले एक पक्ष से धन लेकर खबर चलाते हैं और खबर चलने के बाद खबर से प्रभावित पक्ष से वसूली की ब्यवस्था में कलयुगी पत्रकार जुट जाते हैं महेशगंज थाना क्षेत्र के सीएचसी महेशगंज में बीते 13अक्टूबर की शाम खुद को पत्रकार बताकर अस्पताल में घुसकर कथित पत्रकार ने मौका देखकर लोगों से नजरे चुराकर एक मोबाइल चोरी कर ली। अस्पताल में दुकानदार अपना मोबाइल चार्ज कर रहा था। पत्रकारों को समाज में बड़ा सम्मान मिलता है और इसी सम्मान के लोग पत्रकारिता जगत से जुड़कर समाज के लिए समर्पण भाव से कार्य करते थे। पत्रकारिता से अपना परिवार चलाने के लिए कार्य नहीं करते थे, परन्तु आज तो सबकुछ उल्टा हो चुका है। आधुनिक पत्रकार सिर्फ धनार्जन के लिए पत्रकारिता जगत में आ रहे हैं और येन-केन-प्रकारेण धन कमाने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं


महेशगंज थाना क्षेत्र के निमिहन का पुरवा गांव के पप्पू शर्मा ने सीएचसी के बगल चाय नाश्ते की दुकान खोल रखी है। दुकानदार की मोबाइल को स्वयंभू पत्रकार चुरा लिया। अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरे में मोबाइल चोरी करते हुए कथित पत्रकार का वीडियो कैद हो गया है। मानिकपुर इलाके का भी एक व्यक्ति खुद का यूट्यूब चैनल बनाकर झूठी और तथ्यहीन खबर चलाकर एक पत्रकार से ही रंगदारी मांग रहा है। कुछ दिन पूर्व ही नवाबगंज पुलिस दुकानदारों से वसूली करने के मामलें में तीन कथित पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके उन्हें जेल भेज चुकी है। महेशगंज थाने की पुलिस का कहना है कि प्रकरण उसकी जानकारी में है, सम्पूर्ण मामले की जाँच हो रही है। जाँच होने के बाद दोषी ब्यक्ति पर सख्त कार्यवाही होगी। सबसे बड़ा सवाल, आखिर कब होगी कथित पत्रकारों पर कार्यवाही ? प्रशासनिक उदासीनता के चलते कुछ असमाजिक तत्व पत्रकारिता जगत में घुसपैठ कर लिए हैं और बड़ी आसानी के साथ खुद का एक यूट्यूब चैनल बनाकर उसमें झूठी और तथ्यहीन खबरें चलाकर वसूली करने का अभियान छेड़ रखा है रहें हैं।   


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें