Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

प्रतापगढ़ शहर में नगरपालिका ने चलाया अतिक्रमण हटाओ अभियान, दुकानदारों में मचा हड़कंप, व्यापार मंडल के पदाधिकारियों की ईओ मुदित सिंह से हुई झड़प

दुकान खुलने से पहले चौड़ी लगने वाली सड़क, दुकान खुलते ही हो जाती हैं,सकरी ! काली सड़क तक दुकानदारों द्वारा किया जाता है,अतिक्रमण जिसकी वजह से आयेदिन लगता है, शहर में भीषण जाम 


अतिक्रमण हटाने को लेकर  EO मुदित सिंह से हुई ब्यापारी नेताओं से झड़प...

प्रतापगढ़। नगर पालिका परिषद बेला-प्रतापगढ़ के ई ओ मुदित सिंह के नेतृत्व में सीओ अभय पांडेय, नगर कोतवाल प्रवीण कुशवाहा मयफोर्स के साथ राजापाल चौराहे से चौक घंटाघर तक अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। प्रशासन की इस कार्रवाई से चौक कचहरी रोड के दुकानदारों में अफरातफरी मच गई। अतिक्रमण हटाओ दस्ते ने दुकानदारों द्वारा किए गए अतिक्रमण को जेसीबी से तोड़कर ट्रैक्टर पर लाद लिया। इसी बीच फलमंडी गेट के पास अतिक्रमण हटाओ दस्ता के पहुंचते ही व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष राजेंद्र कुमार केसरवानी के साथ तमाम व्यापारियों की ईओ मुदित सिंह व सीओ सिटी अभय पांडेय से झड़प होने लगी। व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष ने कहा कि कोरोना की मार से व्यापारी पहले से ही त्रस्त है अब त्योहार का समय नजदीक आते ही व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है। व्यापार मंडल के लोग इसके विरोध में नारेबाजी करने लगे। यह देखकर प्रशासनिक अधिकारी बैकफुट पर नजर आए।


अतिक्रमण अभियान में खलल उत्पन्न करते ब्यापारी...

सच बात तो ये है कि शहर में ऐसी कोई सड़क नहीं जिस पर अतिक्रमण न होता हो। कुछ अतिक्रमण स्थाई तो कुछ अस्थाई अतिक्रमण किये जाते हैं। अस्थाई अतिक्रमण को तो नगरपालिका समय-समय पर हटवाती रहती है और स्थाई अतिक्रमण को नगरपालिका और जिला प्रशासन देखकर भी अनदेखा कर देता है। शहर में मुहल्ले की सड़कों पर समरसेबुल और लैट्रिन टैंक तक बना गए हैं। कई जगह तो मुख्य सड़क पर ही सड़क को आधी बंद करके पक्की दुकान का निर्माण तक कर लिया गया है। गफ्फार पेट्रोल पम्प के सामने म्युनिस्पल कालोनी जाने वाला मार्ग को कब्जा कर सकरा कर लिया गया है जिला महिला अस्पताल 100 बेड जाने के लिए SBI मुख्य शाखा के सामने से नाले पर बनी दो मंजिला ईमारत को नगरपालिका और जिला प्रशासन अनदेखा कर देता है सवाल उठता है आखिर अतिक्रमण सिर्फ ब्यापारियों का ही क्यों दिखता है ? अतिक्रमण हटाना है तो एक तरफ से हटाया जाए न कि पहचान पहचान कर अतिक्रमण हटवाया जाए 


 ब्यापारियों का आरोप कि उनका ही अतिक्रमण नगरपालिका को दिखता है,नपाध्यक्ष का नहीं 

फिलहाल प्रतापगढ़ शहर में अतिक्रमण जब हटाया गया है वह आधा और अधूरा हटाया गया है सदर मोड़ पर नपाध्यक्ष प्रेमलता सिंह के पति हरि प्रताप सिंह के द्वारा लोहे की जाली घेरकर नाले के बाहर तक किया गया अतिक्रमण नगरपालिका और जिला प्रशासन को क्यों नहीं दिखता ? रोडबेज बस स्टॉप के बगल से  ऑफिसर कालोनी जाने वाली सड़क पर पक्की दुकान बनाकर स्थाई अतिक्रमण कर लिया गया है, जबकि उसी के सामने से जिलाधिकारी आवास जाने का बोर्ड लगा है और लोहे का गाटर गाड़ कर सड़क को अवरुद्ध किया गया है ताकि मोटरसाइकिल और साइकिल एवं पैदल ही लोग आ जा सके सारे प्रशानिक अधिकारी यह अतिक्रमण देखते हैं,परन्तु गांधी जी के तीन बंदर बने रहने में अपनी भलाई समझते हैं यही नहीं नगरपालिका अध्यक्ष पद पर ४ बार अध्यक्ष रहने वाले और पांचवीं बार पत्नी प्रेमलता सिंह को नपाध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाने वाले हरि प्रताप सिंह से अधिक अतिक्रमण शहर का कोई नागरिक नहीं किया है शहर का पहला नागरिक नपाध्यक्ष को माना गया है और जब वही अतिक्रमण किया हो तो बाकी शहरी अतिक्रमण किये हैं तो क्या गलत है ?    


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें