Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2021

प्रतापगढ़ में प्रिंसिपल रीना तिवारी की स्टाइल में लापता महिला अधिवक्ता को पुलिस ने दिल्ली में प्रेमी संग महज दो दिन में ही पकड़ा लिया

घटना के दिन युवा अधिवक्ता प्रतिभा ओझा 250/रूपये में घर से बुक कर ऑटो से निकली थे कचेहरी, वहाँ से बाइक से शहर होकर दिल्ली के लिए किया प्रस्थान


गाँव के स्वजातीय लड़के से युवा महिला अधिवक्ता प्रतिभा ओझा का अफेयर चल रहा था,मर्जी के विपरीत नवम्बर में घरवाले दूसरी जगह शादी कर रहे थे,जिसकी वजह से सुसाइड की ब्यूह रचना कर प्रेमी संग भाग निकली,दिल्ली


कोतवाली नगर की पुलिस ने युवा महिला अधिवक्ता को प्रेमी संग दिल्ली से किया बरामद...

प्रतापगढ़ युवा अविवाहित अधिवक्ता प्रतिभा ओझा अपने घर से रोज की तरह कचेहरी के लिए निकली थी और रास्ते में गायघाट पुल पर अपनी बैग, मोबाइल और जूती एवं बैग में आधार कार्ड, बार काउन्सिल वाला कार्ड एवं अधिवक्ता वाला कोट व दुपट्टा छोड़कर रहस्यमय तरीके से गायब हो गई और बैग के साथ सुसाइड नोट भी छोड़ गई। नदी के किनारे से युवा महिला अधिवक्ता के लापता होने की कहानी काफी रहस्यमय रही। चूँकि जिस समय की घटना है उस समय गायघाट पुल पर राहगीरों के आने जाने का सिलसिला लगा रहता है युवा महिला अधिवक्ता के बैग से मिले सुसाइड नोट से उसकी हैंड राइटिंग का मिलन किया गया तो सुसाइड नोट की राइटिंग से मेल नहीं खा रही थी इसलिए पुलिस को सुसाइड नोट पर शक हुआ। परन्तु प्रथम दृष्टया पुलिस भी सई नदी में जाल डालकर युवा अधिवक्ता की खोजबीन करने का प्रयास किया। इसी बीच मछुवारों ने बताया कि एक महिला वकील साहेब पुल से पहले अपनी बैग, जूती और मोबाइल को फेंककर मोटरसाइकिल पर सवार होकर शहर की तरफ निकल गई    


कचेहरी में महिला अधिवक्ता के न पहुँचने पर इस बात की चर्चा होने लगी कि आखिर आज प्रतिभा ओझा क्यों कचेहरी नहीं आई ? इस बात की जानकारी घर से की गई तो पता चला कि घर से तो अपने समय से प्रतिभा ओझा कचेहरी के लिए निकली थी प्रतिभा ओझा के कचेहरी न पहुँचने की सूचना मिलते ही घर वाले परेशान हो गए पिता कोतवाली नगर थाना पहुँचकर अपनी बेटी के गुमशुदा होने की तहरीर दी तो पुलिस भी एक्शन में आ गई पुलिस वाले महिला अधिवक्ता के पिता संग गायघाट पुल पहुँचे काफी खोजबीन की गई तो प्रतिभा ओझा की लापता होने की कहानी में कई ट्विस्ट नजर आने लगा। पहले तो पुलिस वाले भी यही समझ बैठे कि महिला अधिवक्ता प्रतिभा ओझा गायघाट पुल से सई में नदी में कूदकर सुसाइड कर लिया है। परन्तु सुसाइड नोट मिलते ही मामले में संदिग्धता प्रतीत होने लगी पुलिस महिला अधिवक्ता के पिता की तहरीर पर गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज कर उसे खोजने में लग गई। सबसे पहले महिला अधिवक्ता के मोबाइल फोन को सर्विलांस पर लगाया गया तो उसका लोकेशन दिल्ली मिला  


पुलिस वाले भी यह जानने को उत्सुक रहे कि वह नदी की बजाय दिल्ली कैसे पहुंच गईं ? दरअसल 26 अक्तूबर को मोबाइल फोन व अन्य सामान सई नदी के गायघाट पुल के नीचे मिला तो तरह-तरह की बातें होने लगी। कचेहरी आते समय 26 अक्टूबर, 2021 को नाटकीय अंदाज में रहस्यमय तरीके से महिला अधिवक्ता गायब हुई थी। प्रतापगढ़ पुलिस के लिए रहस्यमय तरीके से गायब होने की यह दूसरी घटना है इसके पहले ASN स्कूल की प्रिंसिपल रीना तिवारी भी अपनी कार छोड़कर रहस्यमय तरीके से घायब हुई थी उस समय भी लगा था कि प्रिंसिपल रीना तिवारी के साथ कोई अनहोनी न हुई हो ! उनके मामले में अपहरण का केस बन रहा थाप्रिंसिपल रीना तिवारी के जानने वाले यह अंदाजा नहीं लगा पा रहे थे कि वह जानबूझकर घर वालों, पुलिस वालों और समाज को बेवकूफ बनाकर स्वयं गायब हो सकती हैं। प्रतापगढ़ की पुलिस उन्हें भी कुछ ही दिनों में बरामद कर ली थी और फिल्मी अंदाज में एक नायिका की तरह उनकी फोटो सोशल मीडिया में वायरल हुई थी। तब जाकर पुलिस उन्हें मीडिया के सामने लाई थीप्रिंसिपल रीना तिवारी की कहानी भी लोगों को कम समझ में आई थी। दोनों घटनाओं में अंतर सिर्फ इतना रहा कि प्रिंसिपल रीना तिवारी शादी शुदा थी और युवा महिला अधिवक्ता अविवाहित हैं 


यूपी के प्रतापगढ़ में लापता हुई युवा महिला अधिवक्ता को पुलिस ने ढूंढ निकाला है। पुलिस ने महिला अधिवक्ता को दिल्ली में उनके प्रेमी के साथ पाया। दिल्ली से पुलिस की टीम महिला अधिवक्ता और उनके प्रेमी को प्रतापगढ़ लेकर आयी है। यहां दोनों से पुलिस पूछताछ कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक युवा महिला अधिवक्ता प्रतिभा ओझा अंतू थाना क्षेत्र के सरुआंवा गांव की रहने वाली हैं। 26 अक्टूबर, 2021 को सुबह 10 बजे वह रोज की तरह प्रतापगढ़ कचेहरी के लिए ऑटो पकड़ कर घर से निकली थीं, परन्तु वह कचेहरी नहीं पहुँची। महिला अधिवक्ता का एक काले रंग का बैक था, जिसमें अधिवक्ता का बार काउन्सिल वाला कार्ड, आधार कार्ड, मल्टी मीडिया मोबाइल फोन, अधिवक्ता वाला कोट व एक दुपट्टा गायघाट पुल के पास गया था। मछली पकडऩे पहुंचे युवकों को यह बैग मिला तो उन लोगों ने बैग खोला। बैग में एक कागज में मोबाइल नंबर लिखा पाया गया। इस मोबाइल नंबर पर युवकों ने काल किया तो काल महिला अधिवक्ता के पिता ने उठाया। युवकों द्वारा जानकारी देने के बाद महिला अधिवक्ता के पिता गायघाट पहुंचे। उन्होंने आशंका जताई कि उनकी बेटी नदी में कूद गयी है। इसके बाद प्रशासन ने गोताखोरों की मदद से तलाश कराई। फिर भी महिला अधिवक्ता के बारे में कोई पता नहीं चला। इसके बाद नगर कोतवाली पुलिस ने इस मामले में पिता की तहरीर पर गुमशुदगी की केस दर्ज कर पड़ताल शुरू की।


पुलिस ने बताया कि रहस्यमय तरीके से गयाब हुई महिला अधिवक्ता के पास दो मोबाइल था, एक मल्टी मीडिया का कामन मोबाइल थाजिसे घरवाले भी प्रयोग में लेते थे और एक कीपैड का मोबाइल भी महिला अधिवक्ता के पास में थामल्टी मीडिया के कामन मोबाइल को महिला अधिवक्ता ने बैग के साथ फेंक दिया था इस तरह कीपैड वाले मोबाइल नम्बर को जब पुलिस ने सर्विलांस पर लगाया गया तो उनका लोकेशन दिल्ली में पाया गया। इसके बाद पुलिस की एक टीम दिल्ली भेजी गयी। दिल्ली पहुँची पुलिस टीम ने महिला अधिवक्ता को उनके प्रेमी के साथ बरामद कर लिया। गुरुवार 28 अक्टूबर, 2021 की रात महिला अधिवक्ता और उनके प्रेमी को लेकर पुलिस टीम प्रतापगढ़ पहुंची। शुक्रवार को पुलिस की टीम ने महिला अधिवक्ता और उनके प्रेमी से अलग-अलग पूछताछ की है। अभी तक की पूंछतांछ में इतना ही पता चला कि महिला अधिवक्ता प्रतिभा ओझा का गाँव में एक स्वजातीय लड़के से अफेयर हो गया था और घर वाले प्रतिभा ओझा की शादी दूसरी जगह तय कर दी थी। 20 नवम्बर, 2021 को शादी की तारीख तय थी, जिसे लेकर महिला अधिवक्ता प्रतिभा ओझा और उनका प्रेमी यह कहानी तैयार की थी, जो दो दिन में ही फुस्स हो गई। एक महिला अधिवक्ता का इस तरह से घर वालों और पुलिस वालों को परेशान करना किसी भी दृष्टिकोण से ठीक नहीं कहा जा सकता है। समाज के निर्माण में अधिवक्ता का महत्वपूर्ण योगदान होता है,परन्तु महिला अधिवक्ता ने समाज में अपनी बदनामी तो कराई ही, साथ ही अपने परिवार समूचे अधिवक्ता परिवार की इज्जत के साथ खिलवाड़ किया है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें