Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 3 अक्तूबर 2021

सीएम योगी ने कोविड-19 से संबंधित सभी मुकदमें वापस लेने का किया एलान, गृह विभाग को कार्रवाई के निर्देश

कोविड-19प्रबंधन के लिए गठित टीम-09की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि व्यापक जनहित को दृष्टिगत रखते हुए मुकदमा वापसी का लिया गया फैसला 


सीएम का ऐलान कोविड-19 के तहत दर्ज मुकदमें वापस होंगे...


कोविड-19 प्रबंधन के लिए गठित टीम-9 की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि व्यापक जनहित को दृष्टिगत रखते हुए कोविड महामारी एक्ट के उल्लंघन से जुड़े दर्ज मुकदमों को समाप्त किया जाना चाहिए।  इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने के लिए गृह विभाग को निर्देशित करने का निर्देश सीएम ने दिया है। इसके अलावा थाना व सर्किल सहित फील्ड में तैनात अवैध गतिविधियों में संलिप्त, खराब रिकॉर्ड वाले दागी पुलिसकर्मियों की सूची यथाशीघ्र तैयार कर प्रस्तुत की जाए। ऐसे लोग उत्तर प्रदेश पुलिस की साख खराब करने वाले हैं। सभी के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। सरकार की छवि खराब करने वाले सिसटम का अंग नहीं हो सकते। यदि कोई सिस्टम में रहते हुए सरकार की छवि खराब करता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी  


उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। आज 31 जनपदों में एक भी एक्टिव केस नहीं है, जबकि 21 जिलों में एक-एक एक्टिव केस शेष हैं। विगत 24 घंटे में हुई 01 लाख 73 हजार 377 सैम्पल की टेस्टिंग में 66 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया। कुल 13 नए संक्रमित मरीज पाए गए, 07 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। वर्तमान में प्रदेश में एक्टिव कोविड केस की संख्या 159 रह गई है, जबकि 16 लाख 86 हजार 804 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं। दूसरे प्रदेशों से आ रहे लोगों की समुचित जांच की जाए। ताकि संक्रमण से बचा जा सके। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर सरकार जनता से अपेक्षा करती है कि वह अब जागरूक हो चुकी है और अपने जीवन की रक्षा करने पर स्वतः विचार करे  


प्रदेश में अब तक 10 करोड़, 91 लाख 52 हजार 448 कोविड वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी है। आठ करोड़ 75 लाख लोगों ने टीके की पहली डोज प्राप्त कर ली है। यह टीकाकरण के लिए पात्र प्रदेश की कुल आबादी के 59 फीसदी से ज्यादा है। 2 करोड़, 16 लाख से अधिक लोगों ने टीके की दोनों डोज प्राप्त कर ली है। दूसरी डोज के लिए पात्र लोगों को समय से टीकाकवर दिया जाए। वैक्सीन की उपलब्धता बनाए रखने के लिए भारत सरकार से सतत संवाद-संपर्क बनाए रखें। जितनी तेजी से कोरोना संक्रमण का दूसरा चक्र जनता को घेरा, उतनी तेजी से सरकार ने कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए ब्यवस्था को मजबूत किया। वीकेंड लॉकडाउन के समय जनता के ऊपर जो मुकदमें लिखे गए थे, वह उन्हीं के जीवन को सुरक्षित रखने के लिए किये गए थे। क्योंकि सरकार द्वारा बनाई गई गाइडलाइन का उल्लंघन करने के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज किया गया था।   


सूबे में अमेठी, अमरोहा, बागपत, बलिया, बलरामपुर, एटा, फर्रुखाबाद, फतेहपुर, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, जालौन, कानपुर देहात, कानपुर नगर, कासगंज, लखीमपुर-खीरी, ललितपुर, महोबा, मैनपुरी, मऊ, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, रामपुर, संतकबीरनगर, श्रावस्ती, वाराणसी, सीतापुर और उन्नाव में कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। यह जनपद आज कोविड संक्रमण से मुक्त हैं। बरसात के मौसम में बीमारियों से बचाव के लिए विशेष सतर्कता की जरूरत है। डेंगू, डायरिया, कॉलरा सहित सभी वायरल बीमारियों से प्रभावित लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था रहे। सर्विलांस को और बेहतर बनाने की कोशिश हो। हर एक मरीज के स्वास्थ्य की सतत निगरानी की जाए। स्वच्छता, सैनिटाइज़ेशन, फॉगिंग का सघन अभियान लगातार जारी रखा जाए। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें