Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

शनिवार, 4 सितंबर 2021

यूपी एसटीएफ ने फर्जी आईपीएस को किया गिरफ्तार, 3 करोड़ रुपये की ज्वेलरी भी बरामद

आरोपी ने साल 2020के जुलाई महीने में 70लाख और फिर दिसंबर महीने में 1.95करोड़ के स्वर्ण खरीदे थे,आभूषण 


फर्जी आईपीएस राजीव सिंह को STF ने किया गिरफ्तार 

लखनऊ यूपी एसटीएफ के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है। लखनऊ के अलीगंज सेक्टर-पी का रहने वाला राजीव नाम का फर्जी आईपीएस गिरफ्तार किया गया है। आरोपी राजीव सिंह खुद को आईपीएस अधिकारी बताकर ज्वेलरी शॉप की दुकानों पर जाकर ठगी करता था। शुक्रवार को एसटीएफ की टीम ने इस फर्जी आईपीएस को गिरफ्तार कर लिया। इसने मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स से आभूषणों की ठगी की थी इसके पास से 5.743 किलोग्राम ज्वेलरी बरामद हुई इसकी कीमत लगभग 3 करोड़ रुपये बताई जा रही है। राजधानी लखनऊ की महानगर कोतवाली पुलिस अब आगे की कानूनी कार्रवाई कर रही है। 


आरोपी राजीव सिंह पुत्र बृजेन्द्र पाल सिंह अलीगंज डी-62 सेक्टर पी में रहता है इसके पास से 96 स्वर्ण आभूषण जिनका वजन 5.743 किलोग्राम (गले का हार, माला, कड़े, कंगन, सोने की चूड़ियां, अंगूठियां, झुमकी, झाले, मटरमाला, चेन, 2500 रुपये नकद, 2 मोबाइल फोन और एक पहचान पत्र (डीसीपी क्राइम ब्रांच मुम्बई महाराष्ट्र) बरामद हुई। लखनऊ के अलीगंज सेक्टर-पी का रहने वाला राजीव नाम का फर्जी आईपीएस गिरफ्तार किया गया है। आरोपी के पास से 5.743 किलो ग्राम सोना बरामद हुआ है, जिसकी कीमत करीब 3 करोड़ रुपये बताई जा रही है। आरोपी युवक राजीव सिंह ने पूछताछ में बताया कि वर्ष- 2003 में उसकी मां अपनी सहेली के साथ अमीनाबाद के मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स के यहां आभूषण खरीदने जाया करती थी। 


आरोपी युवक ने महाराष्ट्र कैडर का आईपीएस अधिकारी बनकर मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स से करोड़ों रुपये के सोने के आभूषणों की ठगी की थी। अपर पुलिस अधीक्षक एसटीएफ विशाल विक्रम सिंह के अनुसार वर्ष- 2003 से राजीव सिंह की मां अपनी सहेली के साथ मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स अमीनाबाद लखनऊ पर स्वर्ण आभूषण खरीदने जाया करती थी धीरे-धीरे इन लोगों का आपस में अच्छे संबंध हो गए इसके बाद वर्ष-2005 में यह भी मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स की दुकान पर आने जाने लगा राजीव सिंह के पिता पुलिस विभाग में कार्यरत थे तथा सीतापुर में साल 2014 में रिटायर हुए थे 


यह बात गौर करने लायक है कि एक आभूषण कारोबारी इतनी बड़ी धनराशि का सामान इतनी आसानी के साथ एक आईपीएस अफसर को दे दिया। यह तो बात की बात रही कि वह फेंक आईपीएस निकला।  कुछ समय बाद राजीव सिंह खुदको महाराष्ट्र कैडर का आईपीएस अधिकारी बताने लगा इस कारण मोहन श्याम कल्याण ज्वेलर्स के मालिक नितेश रस्तोगी से इसके भी अच्छे संबंध हो गए। आरोपी ने साल 2020 के जुलाई महीने में 67 लाख रुपये और दिसंबर माह में 1.95 करोड़ रुपये के स्वर्ण आभूषण खरीदे इसके एवज में मोहन श्याम कल्याण दास ज्वेलर्स को दिसंबर 2020 में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के अलग-अलग धनराशि के पोस्ट डेटेड चेक (3 करोड़ 17 लाख रुपए के) दिए थे। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें