Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 27 सितंबर 2021

अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी की आत्महत्या और हत्या के बीच उलझती जा रही गुत्थी को सुलझाने के लिए एक कड़ी से दूसरी कड़ी को जोड़कर देख रही है,सीबीआई

सीबीआई को मिला आनंद गिरी, आद्या तिवारी, संदीप तिवारी 7 दिन के लिए रिमांड 


तीनों आरोपियों को सीबीआई ने लिया रिमांड पर ले जाते हुए... 

अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी की आत्महत्या और हत्या के बीच उलझी मिस्ट्री को सुलझाने के लिए योगी सरकार ने सीबीआई से जाँच कराये जाने की सिफारिश के बाद सीबीआई ने बाघम्बरी गद्दी से लेकर नरेन्द्र गिरी की हर गतिविधियों पर नजर रखते हुए अपनी जाँच की दिशा आगे बढ़ा दी है। सबसे पहले बाघम्बरी गद्दी से जुड़े महंत के सेवादारों से पूंछताछ की। घटना की सीन दोहराया गया ताकि उससे कुछ सुराग मिल सके और किरदारों की भूमिका का राज़ खुल सके। चूँकि महंत नरेन्द्र गिरि के अनन्य शिष्य आनंद गिरी का विवाद हो जाने के बाद वह उत्तराखंड के हरिद्वार में रहने लगे थे। नरेन्द्र गिरी की मौत के बाद सबसे पहले शिष्य आनंद गिरी की गिरफ्तारी उत्तराखंड की पुलिस ने करके उत्तर प्रदेश की पुलिस को सौंप दिया था।   

  

आनन्द गिरी को रिमांड पर ले जाती सीबीआई...

नरेंद्र गिरी सुसाइड प्रकरण में सीबीआई को मिला आनंद गिरी, आद्या तिवारी, संदीप तिवारी को 7 दिन यानि 28 सितम्बर सुबह 9 से 4 अक्टूबर शाम 5 बजे तक का पुलिस कस्टडी रिमांड, सीजेएम हरेंद्र नाथ ने सीबीआई को प्रार्थना पत्र पर दिया रिमांड, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से आनंद गिरी, आद्या तिवारी व संदीप तिवारी से कोर्ट ने जानकारी ली तीनो आरोपियों ने दो से तीन दिन तक का ही रिमांड देने की प्रार्थना की। जेल से रिमांड लेने व वापस ले जाने के पहले तीनों का मेडिकल कराना होगा। साथ ही कोर्ट ने तीनों आरोपियों के साथ थर्ड डिग्री इस्तेमाल नहीं किये जाने का फरमान सुनाया है। देखना है कि तीनों आरोपियों से देश की सर्वोच्च जाँच एजेंसी सीबीआई कुछ राज़ उगलवा पाती है अथवा नहीं। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें