Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

बुधवार, 8 सितंबर 2021

फेसबुक पर पहले दोस्ती, फिर अश्लील हरकत करके वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करती हैं और लाखों रूपये की करती हैं, डिमांड

प्रतापगढ़ के कई युवक और कई सीनियर सिटिजन हो चुके हैं, इन गिरोह के सदस्यों का शिकार 


दिल्ली से दौलताबाद तक सोशल मीडिया पर ब्लैकमेल करने का जाल फैला है,गिरोह बनाकर कार्य किया जा रहा है,गिरोह में महिला और पुरुष सभी शामिल 


सीनियर सिटीजन को बनाया जाता है,शिकार ! गिरोह के लोग उन सीनियर सिटीजन को अधिक पसंद करते हैं जो सरकारी सर्विस से अवकाश प्राप्त होते हैं 


फेसबुक मैसेंजर के वीडियो कॉल से अश्लील वीडियो बनाने वाले गिरोह सक्रिय...

ऐसी लड़कियों से सावधान ! फेसबुक में दोस्ती फिर अश्लील हरकत का वीडियो बनाकर करती हैं, ब्लैकमेल। फेसबुक में युवकों से दोस्ती करके उन्हें ठगने और ब्लैकमेल करने वाला गिरोह सक्रिय हो गया है। गिरोह की युवतियां फेसबुक में चर्चा करने के बाद युवकों से अश्लील चैटिंग व वीडियो कॉल करके उनका वीडियो बना लेती हैं। चैटिंग और अश्लील वीडियो को आधार बनाते हुए युवतियों द्वारा पैसे की डिमांड की जाती है। डिमांड पूरी न होने की दशा में उस वीडियो को वायरल करने की धमकी दी जाती है पीड़ित आरोपी गिरोह के सदस्यों की डिमांड पूरी नहीं करता तो उसकी अश्लील फोटो वीडियो और चैटिंग की चर्चा सोशल मीडिया के माध्यम से परिजनों और करीबियों तक गिरोह के सदस्य पहुंचाकर उसे बदनाम कर देते है। 


अश्लील वीडियो बनाने वाले गिरोह करते हैं,लाखों रूपये की डिमांड...

सोशल मीडिया में सक्रिय इस गिरोह ने प्रतापगढ़ जिले के एक युवक को अपने जाल में फंसाने का प्रयास किया गया। गिरोह के लोग अन्य पीड़ितों को शिकार न बना पाए इसलिए युवक पुलिस में आरोपियों की शिकायत करने की तैयारी कर रहा है। आईटी एक्सपर्ट बताते है कि, शातिर ठग ऐप के माध्यम से और कई बार फर्जी आईडी का इस्तेमाल कर पीडि़तों की प्रायवेट जानकारी और फुटेज ले लेते है और फिर ब्लैकमेल करने का काम करते हैं। पूर्व में भी इस तरह की घटना हो चुकी है। इन सभी घटनाओं से बचने के लिए जागरूक होना जरूरी है। अंजान शख्स की फ्रेड रिक्वेस्ट को सोशल मीडिया में एक्सेप्ट ना करके भी इस तरह की वारदातों से बचा जा सकता है।


सावधान रहने के जानिए तरीके 


फेसबुक आईडी पर किसी भी अनजान युवती या महिला के मैसेज का जवाब न दें। ऐसी युवतियों व महिलाओं की फ्रैंड रिक्वेस्ट किसी भी सूरत में स्वीकार न करें। फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार लिए हैं व मैसेज रिप्लाई कर रहे तो मोबाइल नंबर न दें। इनके कहने पर किसी भी दशा में वाट्सएप नंबर तो कत्तई न दीजिए। यदि मोबाइल नंबर भी दे चुके हैं तो उनसे वीडियो कॉलिंग पर बातें न करें बात कर रहे हैं तो अपने मोबाइल के फ्रंट कैमरे को बंद कर दें अथवा अंगुली लगा लें। संभव हो तो इस फ्रंट कैमरे को रुमाल या किसी कपड़े से ढककर ही बातें करें। इनकी बातों में आकर उत्तेजित न हों और कोई अश्लील हरकत न करें।


समझिए क्या है 'स्क्रीन रिकार्डर'


स्क्रीन रिकार्डर मोबाइल का स्मार्ट कैमरा है। इसे कोई भी अपने मोबाइल में डाउनलोड कर सकता है। व्हाट्सएप या फेसबुक से वीडियो कॉलिंग करके स्क्रीन रिकार्डर ऑन कर दिया जाता है। ऑन किए गए स्क्रीन रिकार्डर के बारे में आपको मालूम नहीं चलेगा। सामने वाला आप से वीडियो कॉलिंग पर नार्मल बातें करेगा। लेकिन आपकी सारी एक्टीविटी स्क्रीन रिकार्डर के जरिए सामने वाले की मोबाइल में सेव होती चली जाएगी। खासकर युवाओं को इनसे सतर्क रहने की जरूरत है। वर्ना वे इन शातिर युवतियों व महिलाओं के जरिए ब्लैकमेलिंग के शिकार हो सकते हैं।

प्रस्तुति :- देवी शरण मिश्रा 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें