Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

शुक्रवार, 3 सितंबर 2021

रिश्वतखोर, कमीशनखोर खंड शिक्षा अधिकारी सदर, राम शंकर के पाप का घड़ा भर गया था, अब खा रहे हैं, जेल की हवा, पाप की कमाई, नहीं आ रही, काम

प्रेरणा ज्ञानोत्सव और ऑडिट के नाम खंड शिक्षा अधिकारी सदर प्रतापगढ़, राम शंकर पर गबन का भी आरोप 


तत्कालीन BSAप्रतापगढ़ अशोक कुमार सिंह का खास खंड शिक्षा अधिकारी मंगरौरा  कनौजिया के बाद खंड शिक्षा अधिकारी सदर राम शंकर भी घूंस लेते रंगे हाथ बिजलेंस टीम द्वारा पकड़े गए और भेजे गए जेल दोनों घूंसखोर BEOके आका तत्कालीन BSAप्रतापगढ़ अशोक कुमार सिंह पर कब गिरेगी गाज...???


घूंसखोर BEO सदर राम शंकर पर गबन का भी है,आरोप...


प्रतापगढ़। यह बात सही है कि जब शेर के मुँह में एक बार खून का स्वाद लग जाता है तो उसे दूध पीना पसंद नहीं आता। ठीक वैसे ही अफसरों को रिश्वतखोरी के धन की भूख एक बार लग जाए तो वह भूख आजीवन शांत नहीं होती, चाहे उसके लिए जेल की सलाखों के पीछे ही क्यों न जाना पड़े ? ऐसे ही एक अफसर शिक्षा विभाग में हैं, जो धन के लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार बैठे रहते हैं। आज उसी का परिणाम है कि वह 10 हजार रूपये घूंस लेते रंगे हाथ विजिलेंस टीम ने गिरफ्तार कर जेल भेजने की तैयारी कर दी। फिलहाल अभी उन्हें कोतवाली नगर में रखकर पूँछ ताछ की जा रही है


  BEOसदर राम शंकर ने बिजलेंस टीम से की थी,धक्कामुक्की...

बीएसए प्रतापगढ़ के पद पर लम्बी पारी खेलकर जाने वाले अशोक कुमार सिंह के दो खंड शिक्षा अधिकारी बहुत खास थे, एक उनके कार्यकाल में जेल गया तो दूसरा उनके जाने के बाद जेल जा रहा है खंड शिक्षा अधिकारी सड़वा चन्द्रिकाधाम के पद पर रहते हुए सदर खंड शिक्षा अधिकारी का भी चार्ज राम शंकर के पास रहा। मंगरौरा में खंड शिक्षा अधिकारी कनौजिया जब रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए और जेल भेजे गए थे तो तत्कालीन BSA अशोक कुमार सिंह का कलेजा हिल गया था। BSA अशोक कुमार सिंह बहुत तड़फड़ाये थे। आज जब अशोक कुमार सिंह यह खबर सुनेगे कि उनका दूसरा चहेता BEO राम शंकर भी रिश्वतखोरी में जेल भेज दिया गया तो उन्हें बहुत कष्ट पहुंचेगा। 


रिश्वतखोर BEOराम शंकर को जबरन गाड़ी में बैठते बिजलेंस टीम...

तत्कालीन BSA अशोक कुमार सिंह अपने इन्हीं दो विश्वास पात्र BEO से धन कमाते थे और जिले को बढ़िया ढंग से लूटा था। तत्कालीन BSA अशोक कुमार सिंह करोड़ों रूपये कमा कर प्रतापगढ़ से गए हैं। BEO तो BSA का प्यादा होता है। असल खलनायक तो BSA होता है। BSA अशोक कुमार सिंह के जाते ही प्रतापगढ़ का बेसिक शिक्षा विभाग के दिन खरब हो गए। BSA अमित सिंह प्रतापगढ़ आते ही सस्पेंड हो गए। भाग्यशाली तो तत्कालीन BSA अशोक कुमार सिंह रहे जो दोनों हाथों से प्रतापगढ़ में BSA पद पर रहते हुए लूटा और सुरक्षित यहाँ से चले गए। योगी सरकार में जरा सा भी शर्म हया बची हो तो BEO कनौजिया और आज रंगे हाथ पकड़े गए BEO राम शंकर के आका तत्कालीन BSA अशोक कुमार सिंह के गिरेबान पर हाथ डाले और करोड़ों रुपये आय से अधिक की सम्पत्ति उसके पास से जब्त करे।  


BEO सदर की गिरफ्तारी के बाद कोतवाली में लगी भीड़...

जनपद के सदर विकास क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी राम शंकर पर आरोप है कि उन्होंने ऑडिट टीम के जनपद से बाहर चले जाने के बाद भी ऑडिट के नाम पर शिक्षकों से वसूली की है। दिनांक 26 जुलाई, 2021 को ही ऑडिट टीम जिले से बाहर जा चुकी थी। खंड शिक्षा अधिकारी सदर, राम शंकर ने दिनांक 29 जुलाई, 2021 को ऑडिट के नाम पर वसूली किया। उन पर ड्रेस, कम्पोजिट ग्रांट, स्पोर्ट किट और लाइब्रेरी बुक के नाम पर भी उगाही के आरोप लगते रहे हैं। संडवा चंद्रिका के खंड शिक्षा अधिकारी रहते हुए इनके द्वारा प्रेरणा ज्ञानोत्सव कार्यक्रम निर्धारित समय से पूर्व ही शोभनाथ स्मारक राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में बैनर लगाकर मना लिया गया था और धनराशि खारिज करा ली गयी थी। फैजाबाद में निलंबित होकर प्रतापगढ़ में बहाल किए गए राम शंकर बहुत ही चर्चित खंड शिक्षा अधिकारी हैं। चर्चा भी ऐसी कि जिस विषय पर कोई चर्चित नहीं होना चाहता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें