Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

शनिवार, 4 सितंबर 2021

आर्य प्रतिनिधि सभा उ. प्र. के समस्त जिलों के अंतरण सदस्यो एवं पदाधिकारियों का निर्वाचन सर्वसम्मति से निर्विरोध संपन्न हुआ

आर्य प्रतिनिधि सभा उ. प्र. के समस्त निर्वाचित पदाधिकारियों एवं अंतरंग सदस्यों को दिलाई गई,शपथ 

प्रतापगढ़ से आनंद केसरवानी को आर्य प्रतिनिधि सभा का अंतरंग सदस्य चुना गया...

लखनऊ। आर्य प्रतिनिधि सभा उ. प्र. 5, मीराबाई मार्ग लखनऊ का वर्ष- 2021- 22 से 2026 तक के लिए नियुक्त रिटायर्ड जिला जज विनोद कुमार द्वारा जारी निर्वाचन अधिसूचना के अंतर्गत 27 अगस्त, 2021 को प्रदेश भर के आर्य समाज के अधिकृत सभासद की मौजूदगी में सर्वसम्मति से निष्पक्ष एवं पारदर्शी प्रदेश कमेटी का चुनाव संपन्न हुआ। आर्य प्रतिनिधि सभा उ. प्र. में दो गुट है और दोनों गुटों में विवाद है। कभी एक गुट अपदस्थ होता है तो कभी दूसरा गुट। मामला हाईकोर्ट तक जा पहुँचा तो दोनों गुटों की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और मामले को निस्तारित करने के लिए चिट फंड सोसाइटी के रजिस्ट्रार को अधिकृत किया है। देखना है कि मामला किस गुट के पक्ष में जाता है। एक गुट में डॉ धीरज सिंह है तो दूसरे गुट में देवेन्द्र पाल वर्मा हैं।     

आर्य प्रतिनिधि सभा का अंतरंग सदस्य निर्विरोध निर्वाचत होने के बाद मिला प्रमाण पत्र...

निर्वाचन अधिकारी ने अपने हाथों से निर्वाचित पदाधिकारियों को प्रमाण पत्र वितरित किया और बाइलॉज के अनुसार आर्य समाज के 10 नियमों का पालन करने हेतु निर्वाचित पदाधिकारियों एवं अंतरंग सदस्यों को शपथ दिलाई निर्वाचित पदाधिकारियों में प्रमुख डॉ धीरज सिंह (प्रधान) वीरेंद्र रत्नम, राजीव रंजन, ज्ञानेंद्र गांधी, शशि बाला चोपड़ा, (उ प प्रधान) आदि एवं मंत्री- जया तिवारी, अनिल गुप्ता, तृप्ति आर्या, रितु दमन, आदि कोषाध्यक्ष- रामरतन चतुर्वेदी व अन्य के साथ-साथ प्रदेश के समस्त जिलों के अंतरण सदस्यो एवं पदाधिकारियों का निर्वाचन सर्वसम्मति से निर्विरोध संपन्न हुआ। उत्तर प्रदेश भर में आर्य समाज की बहुत अचल संपत्तियां हैं, जिन पर कुछ कलयुगी आर्य समाजियों की नजर पड़ चुकी है। जिसे वह भूमाफियाओं के हाथों बेंचकर उसमें कमीशन खाने की जुगत में हैं।     

 आर्य प्रतिनिधि सभा उ. प्र. के नवनिर्वाचित प्रधान डॉ धीरज सिंह...

इस अवसर पर सभा को नवनिर्वाचित प्रधान डॉ धीरज सिंह ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में सभी निर्वाचित पदाधिकारी एवं अंतरंग सदस्यों को एकजुटता के साथ आर्य समाज के संस्थापक महर्षि दयानंद सरस्वती के मतों के अनुरूप अपने पदों का सदुपयोग करते हुए संगठन हित में कार्य करने के लिए आग्रह करते हुए शुभकामना एवं बधाई दी। वीरेंद्र रत्नम ज्ञानेंद्र गांधी राजीव रंजन जया तिवारी रामरतन चतुर्वेदी आदि प्रमुख लोगों ने भी संस्था के नियमों के अनुरूप कार्य करना होगा सोसाइटी एक्ट के तहत बने सामाजिक संगठनों में आखिर विवाद क्यों उत्पन्न होता है ? क्या विवाद उत्पन्न कराने में चिट फंड सोसाइटी का रजिस्ट्रार दफ्तर तो शामिल नहीं ! चूँकि चिट फंड सोसाइटी में विवाद होने के बाद ही रजिस्ट्रार दफ्तर की चाँदी होती है और एक गुट से धन लेकर दूसरे को अपदस्थ करना और दूसरे गुट से धन लेकर पहले गुट को अपदस्थ करना रजिस्ट्रार दफ्तर की नियति होती है।   

दूसरे गुट के हैं,देवेन्द्र पाल वर्मा...

आर्य समाज के वरिष्ठ वैदिक प्रवक्ता पं०विमल कुमार आर्य (हरदोई) सभी नवनिर्वाचित पदाधिकारियों एवं अंतरंग सदस्यों को शुभकामनाएं देते हुए महर्षि एवं नारायण स्वामी के उदाहरण देते हुए संगठन में एकजुटता से काम करने के लिए राग द्वेष एवं कानूनी पचडो से ऊपर उठकर कार्य करने की नसीहत दी सभी आर्य सभासद बराबर है पदों का सृजन कार्यों को सुचारू रूप से संचालन हेतु होता है। नवनिर्वाचित उप मंत्री तृप्ति आर्या ने कहा कि मुझे इस लायक समझा, इसके लिए पं. विमल कुमार आर्य एवं राजीव रंजन जी के साथ-साथ प्रदेश के सभी आर्य सभासदों की ऋणी हो गई हूं हम पूरी निष्ठा से ऋषि के सपनों को साकार करने का प्रयास करूंगी सभा संचालन उप प्रधान राजीव रंजन ने किया कार्यालय अधीक्षक कृष्ण मुरारी यादव ने सभी आगंतुकों का स्वागत एवं अभिनंदन किया। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें