Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

मंगलवार, 31 अगस्त 2021

राजस्थान के नागौर में भीषण सड़क हादसा, मध्य प्रदेश के श्रद्धालुओं की क्रूजर जीप को ट्रक ने मारी टक्कर,11 की मौत, 7 लोग घायल

राजस्थान के नागौर के नोखा बाईपास पर भीषण सड़क हादसे में 11लोगों  की मौत 7लोग घायल, सभी घायलों को नोखा बीकानेर के एक हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया गया है...!!!


 ट्रेलर और जीप के भीषण टक्कर से लोगो कि मौत... 

नागौर के श्रीबालाजी के पास मंगलवार को सुबह भीषण हादसे से मध्य प्रदेश के 11 लोगों की मौत हो गई है। नोखा बाईपास पर सामने से आ रहे ट्रक ने 12 सीटर क्रूजर को टक्कर मार दी। दोनों वाहनों में इतनी भीषण टक्कर हुई कि मानों बादल की बड़ी गर्जना हुई हो। हादसे के बाद हाई-वे पर काफी लंबा जाम लग गया। सड़क हादसे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची ने सभी शवों को बाहर निकाले। सभी मृतक मध्य प्रदेश के देवास जिले के सजन खेड़ा व दौलतपुर के रहने वाले बताए जा रहे हैं। यह हादसा इतना दर्दनाक था कि मौके पर ही 8 लोगों की मौत हो गई। तीन लोगों ने अस्पताल जाते वक्त दम तोड़ दिया। इनमें कई लोगों के शव जीप में ही फंसे रहे। हादसे के दौरान स्थानीय लोग वहां पहुंचे और पुलिस व 108 एंबुलेंस को सूचना दी। स्थानीय लोगों की मदद से शवों को बाहर निकाला गया। एक बार के लिए इन शवों को सड़क पर ही रखना पड़ा। हादसे में 12 सीटर क्रूजर जीप बूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। 


सड़क दुर्घटनाओं को न तो जनता ध्यान में रखती है और न ही सरकार, हर बड़े हादसे के बाद पीएम, सीएम और विपक्ष के नेता दुःख जताकर अपने दायित्वों की इतिश्री कर लेते हैं। ओवरलोड़ सवारी गाड़ियों पर परिवहन विभाग से कोई कार्रवाई नहीं होती तभी तो 12 सीटर क्रूजर में 18 लोग सवार होते हैं। 45 सीटर बस में 150 लोग भूंसे की तरह भरकर यात्रा करते हैं और सड़क दुर्घटना में मरने पर हायतौबा होता है। सरकार सिर्फ जनता के टैक्स के धन को मुआवजा के रूप में देकर अपने कर्तब्यबोध को भूल जाती है जितनी सीट की पासिंग परिवहन विभाग वाहनों को देता है, उतनी सवारी उस वाहन पर बैठनी चाहिए। परन्तु मुनाफा कमाने के चक्कर में डेढ़ से दो गुणा सवारी अधिक भरकर सड़क पर अनियंत्रित होकर वाहन चलते हैं और प्रतिदिन सड़क हादसे में सैकड़े लोग अपना जीवन खो रहे हैं। फिर भी लोगों में सुधार नहीं हो रहा है थोड़ी देर के लिए सड़क हादसे को याद रखते हैं और पुनः लापरवाही के साथ सड़क पर हादसे के लिए निकल लेते हैं 


आज की घटना में भी 12 सीटर क्रूजर में 18 लोग सवार थे। ये सभी लोग रामदेवरा में दर्शन करने के बाद देशनोक करणी माता के दर्शन कर मध्यप्रदेश जा रहे थे। इस बीच नागौर से नोखा की तरफ जा रहे ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसा इतना दर्दनाक था कि मौके पर ही 8 लोगों की मौत हो गई। तीन लोगों ने अस्पताल जाते वक्त दम तोड़ दिया। कई लोगों के शव जीप में ही फंसे रहे। परिवहन विभाग द्वारा सड़क हादसे के लिए कोई ठोस गाइडलाइन न बनाने से सड़क हादसों में दिन प्रतिदिन बढ़ोत्तरी हो रही है ऐसे सड़क हादसे अधिकतर धार्मिक स्थलों के लिए निकले दर्शनार्थियों के साथ हो रहे हैं, जिसकी सबसे बड़ी वजह यह है वाहनों में सीट से अधिक यात्री के सवार होकर यात्रा करने से होती है। क्योंकि अधिक सवारी बैठने से वाहन जब अनियंत्रित होकर किसी दूसरे वाहनों से टकराती है तो जनहानि अधिक होती है। साथ ही घायल भी अपना बचा जीवन बहुत ही दुःखमय तरीके से काटते हैं। कभी-कभी तो ऐसे सड़क हादसे में एक ही परिवार के लोग शिकार हो जाते हैं। घर से निकलते हैं धार्मिक स्थलों के दर्शन के लिए और नादानी में अपना जीवन ही खो देते हैं।   


मृतकों के परिवार को दो लाख रुपये का मुआवजा: शिवराज 


मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नागौर में सड़क दुर्घटना में मारे गए उज्जैन के 11 व्यक्तियों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह सहायता देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि घायलों के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। 


पीएम नरेंद्र मोदी ने भी जताया  दुःख 


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुःख जताते हुए कहा कि राजस्थान के नागौर में हुआ भीषण सड़क हादसा बेहद दर्दनाक है। मैं इस दुर्घटना में मारे गए सभी लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। 


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जताया दुःख 


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस घटना पर दुःख जताते हुए कहा कि नागौर के श्रीबालाजी क्षेत्र में हुए भीषण सड़क हादसे में एमपी लौट रहे 11 दर्शनार्थियों की मृत्यु अत्यंत दुःखद है। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं, ईश्वर उन्हें इस कठिन समय में संबल दें व दिवंगतों की आत्मा को शांति प्रदान करें। घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें