Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

शनिवार, 7 अगस्त 2021

युवक से बाइक, मोबाइल और नगदी की हुई छिनैती, पुलिस मुकदमा न लिखकर मामले में कर रही टाल मटोल

प्रतापगढ़ के जेठवारा थाने में लूट, छिनैती जैसे गंभीर अपराध को दर्ज कराने में पीड़ित को बहाने पड़ते हैं,पसीने...!!!

 

जनता को यही बात समझ में नहीं आती कि जिसे वह अपना प्रतिनिधि चुना वही उसका दुश्मन कैसे बन जाता है ? क्योंकि वही प्रतिनिधि तो उन अपराधियों को संरक्षण देते हैं जो जनता को लूटते हैं...!!!


जेठवारा थाने में लूट,छिनैती जैसे अपराध दर्ज कराने में पीड़ित को बहाने पड़ते हैं,पसीने... 

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपराधियों पर लगातार सख्त रुख अपनाएं हुए हैं, लेकिन प्रदेश के बड़के जिले में बड़ा कारनामा होता रहता है। हत्या, बलात्कार, लूट, छिनैती, मारपीट की घटनाएं आए दिन हो रहीं हैं और प्रतापगढ़ पुलिस सिर्फ लकीर पीटती रहती है। जिले में सीएम के सख्त रूख का कोई असर नहीं है। प्रतापगढ़ को बड़का जिला इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहाँ तेज से तेज पुलिस कप्तान को शासन तैनात करता है, परन्तु प्रतापगढ़ आते ही कप्तान की कप्तानी गायब हो जाती है वह अपना तवादला कराकर प्रतापगढ़ से निकल लेने में अपनी भलाई समझता है 


कई कप्तान तो छुट्टी गए तो लौटे ही नहीं और कई कप्तान तो रास्ते से ही लौट गए। पुलिस अधीक्षकों के प्रतापगढ़ में न ठहरने के पीछे कारणों को जानने का प्रयास किया गया तो पता चला कि यहाँ के नेताओं का यहाँ के अपराधियों के ऊपर संरक्षण रहता है और जब पुलिस इन संरक्षण प्राप्त अपराधियों पर शिकंजा कसती है तो उसके बचाव में कोई न कोई नेता मैदान में उतर आता है और वह नेता पुलिस कप्तान को ही हटवा देता है। प्रतापगढ़ में अपराध बढ़ने और अपराधियों पर अंकुश न लग पाने की यही असल वजह है। यह बात शासन और प्रशासन में बैठे सभी जिम्मेदार जानते व समझते रहते हैं, परन्तु इन माननीयों के आगे नतमस्तक हो जाते हैं जब तक इन माननीयों पर अंकुश नहीं लगेगा तब तक प्रतापगढ़ में अपराध पर अंकुश नहीं लग सकेगा 


प्रतापगढ़ में ताजा कारनामा जेठवारा थाना क्षेत्र का है जेठवारा थाना और उसका थाना प्रभारी अक्सर चर्चा में बने रहते हैं वहाँ अपराध तो होते हैं,परन्तु वहाँ तैनात उस अपराध को दर्ज नहीं करना चाहता क्योंकि मुकदमा दर्ज करने पर पुलिस के अधिकारियों द्वारा क्राइम मीटिंग में  खिंचाई होती है, उसी खिंचाई से बचने के प्रयास में पीड़ित का मुकदमा दर्ज नहीं होता पांच अगस्त को प्रतापगढ़ से रात में राजीव वापस लौट रहा था, तभी बढ़नी मोड़ के पास पड़वासी स्कूल के सामने तीन लोग एक टीवीएस गाड़ी से आए और उसका रास्ता रोककर तमंचा तानकर खड़े हो गए पीड़ित ने जैसे ही अपनी गाड़ी रोकी बदमाशों ने उसकी कनपटी पर तमंचा सटा दिया जिससे वह दंग रह गया 


पीड़ित राजीव यादव जब तक वह कुछ समझ पाता तब तब अज्ञात बदमाशों ने उसे बाइक से गिराकर उस जेब से मोबाइल, बैग और जेब में रखे रुपये निकाल लिए साथ ही उसकी बाइक जिसका नम्बर- UP-72-BA-8980 को  छीनकर भाग गये। पीड़ित हल्ला गुहार मचाता रहा परन्तु उसकी सुनने वाला कोई नहीं था। पीड़ित राजीव यादव पुत्र अर्जुन यादव निवासी सांभरपुर, नरियावा थाना महेशगंज का निवासी है। राजीव यादव की बाइक और मोबाइल सहित पैसे की छिनैती हो जाती है और जेठवारा पुलिस उसका मुकदमा भी दर्ज नहीं करती जबकि योगी सरकार का स्पष्ट निर्देश कि पीड़ित का मुकदमा दर्ज कर उसे न्याय दिलाया जाए परन्तु जेठवारा पुलिस अपने मुख्यमंत्री का ही आदेश नहीं मानती    


पीड़ित ने आरोप लगाया कि इस सम्बंध में उसने जेठवारा थाने में तहरीर दी तो वहां पर इसको साधारण चोरी की घटना बताने के लिए पुलिस दबाव बनाने लगी और अभी तक एफआईआर भी दर्ज नही की। कार्यवाही करना तो दूर की बात है। ऐसे ही मामले से अपराधियों का मनोबल बढ़ता है और दुबारा इससे बड़ा अपराध करने से पीछे नहीं हटते पुलिस अपराध का ग्राफ कम करने के लिए ऐसा निर्णय लेती है, परन्तु उसका यह निर्णय उसे ही नुकसान पहुँचा देता है। पीड़ित और सभ्य समाज के लिए अपराध तो नासूर है ही पुलिस के लिए कैंसर के समान है। परन्तु पुलिस इसे समझने के लिए तैयार नहीं है। 


आपको बता दें कि अभी हाल ही में सीएम योगी द्वारा हर थाने से पुलिस की कार्यप्रणाली की रिपोर्ट मंगवाई है। अब ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि बड़के जिले प्रतापगढ़ की पुलिस अपराध को खत्म करने का काम कर रही है या अपराधियों को संरक्षण देने का काम कर रही है। पुलिस की ऐसी ही कार्य प्रणाली से जनता में उसके प्रति विश्वास खत्म हो रहा है, जिसे पुलिस के अधिकारी बार-बार जनता में पुलिस के प्रति विश्वास कायम रहने के लिए अधीनस्थों को निर्देशित करती रहती है, परन्तु थाने स्तर पर तैनात प्रभारी निरीक्षकों के कान में उस आदेश निर्देश के प्रति कोई भाव ही नहीं आ पाता 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें