Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

बुधवार, 25 अगस्त 2021

हैजा, तपैदिक और पोलियो की तरह कोविड-19 वायरस भी भारत में काफी समय तक पाँव जमाए रह सकता है, इसलिए भारत के लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण के साथ जीने के डालनी होगी आदत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन का दावा कि भारत में कभी नहीं खत्म होगी कोविड-19 कोरोना महामारी...!!!


डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ सौम्या स्वामीनाथन...

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि भारत कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के नियमित रूप से विशेष लोगों के बीच या एक निश्चित क्षेत्र में पाई जाने वाली बीमारी बन सकती है। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह विशेष चरण संचरण के निम्न या मध्यम स्तर द्वारा चिह्नित किया जाएगा, जिसमें कोई चरम या घातीय वृद्धि नहीं होगी जैसा कि दूसरी लहर के दौरान देखा गया था, जिसने देश में कहर बरपाया था।


यूनाइटेड स्टेट्स सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) एक स्थानिकमारी को "भौगोलिक क्षेत्र के भीतर आबादी में किसी बीमारी या निरंतर उपस्थिति के रूप में परिभाषित करता है। दूसरे शब्दों में, जनसंख्या धीरे-धीरे बीमारी के साथ जीना सीख जाती है। जब रोग अपेक्षित स्तर से ऊपर उठ जाता है, तो यह एक महामारी या प्रकोप बन जाता है। जब कई देशों में फैल जाती है तो यह एक महामारी बन जाती है। डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक ने कहा कि भारत की विविध आबादी और अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग प्रतिरक्षा स्तर इस बात की काफी संभावना है कि देश के विभिन्न हिस्सों में उतार-चढ़ाव के साथ स्थिति इसी तरह जारी रह सकती है।


स्वामीनाथन ने एक इंटरव्यू में कहा, "हम एक ऐसे चरण में प्रवेश कर सकते हैं, जहां बीमारी नियमित रूप से विशेष लोगों के बीच या एक निश्चित क्षेत्र में हमेशा के लिए रह सकती है। इसके साथ ही बीमारी का निम्न स्तर का संचरण या मध्यम स्तर का संचरण चल रहा है, लेकिन हम उस प्रकार की घातीय वृद्धि को नहीं देख रहे हैं, जो हमने कुछ महीने पहले देखी थी।" स्वामीनाथन ने कहा कि विशेष रूप से उन जगहों पर मामले बढ़ सकते हैं, जहां पहली और दूसरी लहरों के कम संपर्क में होने और कम वैक्सीन कवरेज के कारण आबादी में संक्रमण की आशंका अधिक होती है। दुनिया भर के देश धीरे-धीरे कोरोना वायरस के साथ जीना सीख रहे हैं और प्रतिबंधों में ढील दी गई है। धीरे-धीरे संक्रमण को रोकने और टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें