Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

बुधवार, 25 अगस्त 2021

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की नकारा, निक्कमी नौकरशाही की निकृष्ट कार्यप्रणाली का शर्मनाक उदाहरण

अपनी ही सरकार का आदेश मानने को नहीं तैयार हैं,उत्तर प्रदेश के बेलगाम और भ्रष्ट अफसर


प्रयागराज विकास प्राधिकरण के निकम्मे अफसरों का कारनामा...

प्रयागराज और वाराणसी के बीच NH-30 पर बिछिया नामक स्थान पार करने के पश्चात प्रयागराज विकास प्राधिकरण होने से पहले इलाहाबाद विकास प्राधिकरण (ADA) द्वारा बोर्ड लगाकर अपना प्रचार-प्रसार किया गया था, जो आज भी लगा है। जबकि इलाहाबाद का नाम बदलकर योगी सरकार प्रयागराज कर चुकी है और विकास प्राधिकरण का नाम इलाहाबाद से परिवर्तित होकर प्रयागराज हो चुका है परन्तु विकास प्राधिकरण के अधिकारियों की कार्य प्रणाली से यह पता चलता है कि उसकी नजर में आज भी इलाहाबाद का नाम इलाहाबाद ही है और विकास प्राधिकरण भी प्रयागराज की जगह इलाहाबाद के नाम से है योगी राज में भी फिरकापरस्त नौकरशाहों का बोलबाला है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अपनी बेलगाम नौकरशाही पर कोई अंकुश नहीं रह गया है


प्रयागराज विकास प्राधिकरण का लोगो बदलकर अन्य बोर्ड बदलना उचित नहीं समझते PDA...

ये बात हम नहीं बल्कि विकास प्राधिकरण का यह बोर्ड बता रहा है कि विकास प्राधिकरण के नौकर शहंशाहों ने आज भी यह स्वीकार नहीं किया है कि इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया है। ज्ञात रहे कि उत्तर प्रदेश की सरकार ने 34 महीने पहले अक्टूबर, 2018 में इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज कर दिया था। डेढ़ वर्ष पूर्व फरवरी, 2020 में भारत सरकार ने भी इलाहाबाद रेलवे स्टेशन का नाम प्रयागराज कर दिया था। लेकिन विकास प्राधिकरण की बेलगाम नौकरशाही मुख्यमंत्री योगी तथा प्रधानमंत्री मोदी की मंशा और आदेश की धज्जियां बेखौफ होकर आज भी उड़ा रही है। उल्लेख कर दूं कि यह बोर्ड अकेला ऐसा बोर्ड नहीं है। रास्ते में दर्जनों ऐसे सरकारी बोर्ड दिखे जहां प्रयागराज की गर्दन दबाकर उस पर इलाहाबाद काबिज नजर आया।


 ADA नाम से नहीं हट सके सड़को पर लगे पुराने बोर्ड... 

सरकारी शहंशाहों की इस बेलगाम बेखौफ निकृष्ट कार्यप्रणाली की तरफ मुख्यमंत्री योगी एवं प्रधानमंत्री मोदी का ध्यान आकृष्ट होना चाहिए। योगी सरकार में मुगलकालीन सोच, अंग्रेजों की दासता भरी सोच के साथ-साथ विपक्षी नेताओं कि सोच को मन मस्तिष्क में दबाकर रखने वाले बेलगाम नौकरशाह योगी सरकार को बदनाम करने वाले कई कार्य कर रहे हैं और ताज्जुब की बात वह फिर भी मलाईदार पदों पर काबिज हैं। आखिर योगी सरकार में ऐसे नकारे, निकम्मों नौकरशाहों को संरक्षण कौन दे रहा है ? ऐसा कार्य करके योगी सरकार को बदनाम करने वाले फिसड्डी नौकरशाहों को जिम्मेदारी वाला पद किसी सह पर दिया जा रहा है जो विपक्षी नेताओं के इशारे पर कार्य करके योगी सरकार को ही बदनाम कर रहे हों

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें