Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

सोमवार, 26 जुलाई 2021

भ्रष्ट सीएमओ प्रतापगढ़ डॉ ए के श्रीवास्तव के संरक्षण में जिले भर में संचालित है,सैकड़ों अवैध अस्पताल

नहीं सुधर रही है प्रतापगढ़ में स्वास्थ्य ब्यवस्था, अवैध अस्पतालों में मरीजों की हो रही है, आयेदिन मौत...!!!


आशा बहुओं के सहारे अवैध अस्पतालों में चल रहा है,मौत का खेल...


प्रतापगढ़ में मौत के सौगदरों को प्राप्त है, स्वास्थ्य विभाग का संरक्षण ! जिला अस्पताल से प्रतापगढ़ मेडिकल कालेज बनने के बाद भी प्रतापगढ़ में स्वास्थ्य ब्यवस्था पटरी पर नहीं आ पा रही है। मेडिकल कालेज के आसपास मौत के सौदागरों ने बना रखा है, अपना ठिकाना। ये सौदागर मेडिकल कालेज में आने वाले मरीजों पर रखते हैं,गिद्ध रूपी नजर। जैसे ही कोई मरीज मेडिकल कालेज की महिला हॉस्पिटल में पहुँचता है तो उसके पीछे आशा बहुओं को मोटा कमीशन देकर उन्हें अपने यहाँ संचालित कसाईखाने में ले आने की लगाते हैं, जुगत। स्वास्थ्य विभाग की इस बिगड़ी ब्यवस्था को योगी सरकार भी ठीक न कर सकी। ऊपर से नीचे तक भ्रष्ट ब्यवस्था ने खराब कर रखा है,स्वास्थ्य महकमें की स्थिति। पैसे की भूख ने धरती के भगवान को डॉक्टर से बना दिया है, दानव


कुछ खलीफा तो ऐसे हैं जो आशा बहुओं को उनके क्षेत्र से ही उन्हें अपना एजेंट बना रखे हैं। कुछ तो आशा बहू भी नहीं होती, परन्तु आशा बहुओं से भी तेज तर्रार होती हैं, जिनके सहारे मेडिकल कालेज के आसपास चल रहा है, मौत का खेल ! एक कमरे में चलाए जा रहे हॉस्पिटल में आशा बहुओं के बूते जिंदगी का होता है, सौदा। शिना मेडिकल स्टोर पर एक कमरे में संचालित जीवन ज्योति अस्पताल में हुई जच्चा-बच्चा की मौत। सवाल उठता है कि भ्रष्ट सीएमओ डॉ अरविन्द कुमार श्रीवास्तव के नाक के नीचे मेडिकल स्टोर पर कैसे संचालित हो रही है, अस्पताल ? शिकायत होने पर जो अस्पताल सीएमओ कराते हैं,सील। कुछ दिनों बाद ही रिश्वत लेकर फिर से मरीजों के जीवन के साथ खेलने की दे देते हैं, छूट


दूसरा सवाल महिला हॉस्पिटल में तैनात महिला डॉ कुर्तुल मेडिकल स्टोर पर संचालित अवैध अस्पताल पर किस अधिकार से बैठकर कर रही हैं, उसका संचालन ? महिला हॉस्पिटल में तैनात डॉ कुर्तुल पर परिजनों ने लगाया अपने मरीज को मार डालने का आरोप। तीन दिन पहले बुखार होने के चलते रूपा यादव को परिजन लेकर मेडिकल कॉलेज की महिला हॉस्पिटल पहुँचे तो आशा बहू ने किया खेल और मरीज को पहुँचा दिया सिना मेडिकल स्टोर में संचालित जीवन ज्योति हॉस्पिटल। तीन दिन से भर्ती महिला और उसके बच्चे की हुई मौत। मौत के बाद शव को बाहर कर मेडिकल स्टोर बन्द कर फरार हुआ मेडिकल स्टोर संचालक तो परिजनों ने किया हंगामा। हंगामे की सूचना पर पहुँचा भारी पुलिस बल। किसी तरह मामले को कराया शांत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें