Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 4 जुलाई 2021

मतगणना स्थल पर बवाल करने के आरोप में भाजपा नेताओं पर कोतवाली नगर में अलग-अलग दर्ज हुए दो मुकदमें

भाजपाई पूत मांगने गए थे, भतार भी गंवा  दिए...!!!


भाजपाईयों पर दर्ज मुकदमें के बाद प्रतापगढ़ की राजनीति में आ गई और गर्माहट...!!! 


धरने में शामिल सांसद, विधायक और भाजपा जिलाध्यक्ष समेत दर्जनों पार्टी पदाधिकारियों के नाम नहीं लिखा गया, मुकदमा...!!!

मतगणना स्थल के पास पुलिस और भाजपाईयों से झड़प और हुई तीखी नोकझोंक... 

प्रतापगढ़ में जिला पंचायत चुनाव के दिन मतगणना शुरू होने से पहले ही सत्ताधारी दल की उम्मीदवार क्षमा सिंह और उनके पति व भाजपा नेता पप्पन सिंह अपने समर्थकों के संग मतदान स्थल की तरफ आ रहे थे कि जेठवारा के आगे बढ़नी मोड़ के पास वाहन चेकिंग के नाम पर भाजपा उम्मीदवार की गाड़ी रोककर तलाशी लेने लगे इतने में जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं कुंडा के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप सिंह "राजा भईया" का काफिला सैकड़ों वाहनों के साथ निकल गया, जिसे जेठवारा पुलिस चेक नहीं किया। ऐसा आरोप लगाकर भाजपा की उम्मीदवार क्षमा सिंह एवं भाजपा नेता पप्पन सिंह समर्थकों संग वहीं सड़क पर धरने पर बैठ गए और मतदान का बहिष्कार कर दिया। 


अफीम कोठी के प्रवेश द्वार पर पुलिस और भाजपाईयों में हुई थी,तीखी झड़प...


भाजपा उम्मीदवार क्षमा सिंह ने आरोप लगाया कि जिला पंचायत सदस्य का अपहरण करके अपने पक्ष में मतदान कराने के लिए ले गए जिसे जेठवारा पुलिस नहीं रोका और उन्हें अनायास रोक कर उनके साथ अभद्रता की। इस बात की जानकारी जब भाजपाईयों को हुई तो बढ़नी मोड़ जाकर पप्पन सिंह को उठाकर अफीम कोठी ले आये।परन्तु अफीम कोठी आते ही माहौल और खराब हो गया। यहाँ पर भाजपाईयों द्वारा जिला प्रशासन के खिलाफ मुर्दावाद के नारे लगाये और मतगणना स्थल के बाहर धरने पर बैठ गए। धरना में सांसद संगम लाल गुप्ता, रानीगंज विधायक धीरज ओझा, सदर विधायक राजकुमार "करेजा पाल" सहित भाजपा जिला अध्यक्ष एवं सैकड़ों कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए। 


धरने पर बैठे भाजपा सांसद, विधायक और जिलाध्यक्ष सहित दर्जनों पदाधिकारीगण...


बात इतनी बिगड़ी कि पुलिस प्रशासन को धकियाते हुए मतगणना स्थल के अंदर जबरन जाने का प्रयास करने लगे। पुलिस विरोध किया तो भाजपाईयों ने धक्का मुक्की करने लगे। पुलिस के साथ भाजपाईयों की झड़प में कई भाजपाई मौके पर गिर भी गए। शाम चार बजे जब जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ नितिन बंसल ने जनसत्ता दल लोकतांत्रिक की उम्मीदवार को विजयी घोषित किया तो भाजपाईयों ने चुनाव को रद्द कराने के लिए प्रदर्शन करने लगे। मतगणना स्थल पर बवाल करने के मामले में नगर कोतवाली में दो एफआईआर दर्ज कराई गई है। पहली एफआईआर में सांसद संगमलाल गुप्ता के प्रतिनिधि अभिषेक पांडेय समेत 4-5 अज्ञात आरोपी बनाए गए है। दूसरी रिपोर्ट में पप्पन सिंह समेत 15-20 अज्ञात आरोपी बनाए गए है। भाजपाई पूत मांगने गए थे, भतार भी गंवा  दिए। अब तो भाजपाईयों के कृत्य की चहुँओर थू थू हो रही है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें