Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

रविवार, 25 जुलाई 2021

प्रतापगढ़ में पुलिस अधीक्षक के तवादले तो थोक रेट में होते हैं,परन्तु प्रतापगढ़ में तैनात अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी और इंस्पेक्टर सहित दरोगा तो तवादले के बाद भी प्रतापगढ़ से जाना ही नहीं चाहते ! आखिर क्या है, असल मामला

शराब माफियाओं और पुलिस की जुगलबंदी के खुलासे के बाद सीएम योगी ने की थी,प्रतापगढ़ के अपर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी और सीओ कुंडा पर बड़ी कार्रवाई...!!!


योगी सरकार को इस पर विचार करना चाहिए कि प्रतापगढ़ जनपद में पुलिस अधीक्षक ही नहीं रहना चाहते, बाकी अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी सहित इंस्पेक्टर और दरोगा को प्रतापगढ़ का खारा पानी खूब सूट करता है, वो तवादले के बाद भी पैसा खर्च करके प्रतापगढ़ बने रहना चाहते हैं...!!!


प्रतापगढ़ में शराब माफियाओं से पुलिस प्रशासन से सांठगांठ की कलई उस समय खुल जब पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने कुंडा क्षेत्र में ताबड़तोड़ छापेमारी करने के बाद अपर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी दिनेश द्विवेदी सहित कुंडा के क्षेत्राधिकारी और कई थानेदार के सम्बन्ध शराब माफियाओं से निकले थे और उसी आधार पर उन्हें निलंवित किया गया था...!!!


अपराधियों के साथ पुलिस के गठजोड़ के कई मामले प्रकाश में तो आये,परन्तु बाद में पड़ गए ठंडे...

उत्तर प्रदेश के 75 जनपदों में अकेला जनपद प्रतापगढ़ ऐसा है जहाँ सबसे अधिक पुलिस अधीक्षक के तवादले होते हैं यहाँ कोई पुलिस अफसर रहना ही नहीं चाहता एक दौर था जब प्रतापगढ़ में दो ऐसे पुलिस अधीक्षक रहे जो प्रतापगढ़ में दो बार अपनी तैनाती कराएं पुलिस अधीक्षक प्रतापगढ़ के पद पर रहते हुए एक बार शैलेन्द्र प्रताप सिंह जिला कारागार में कवि सम्मलेन का आयोजन करा दिए और स्वयं उस कवि सम्मलेन में पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र प्रताप सिंह कवि होने के नाते मंच भी साझा किया तो इंडिया टुडे पत्रिका ने विशेष कवरेज करके मुलायम सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया था   


प्रतापगढ़ में शराब माफियाओं से रिश्ते उजागर होने ASP और CO हुए थे,निलंबित...

 

पोटा के तहत जेल में निरुद्ध राजा भईया के सम्मान में खादी ग्रामोद्योग मंत्री राजाराम पाण्डेय ने यह कवि सम्मलेन आयोजित कराया था चूँकि राजा भईया कि ही कृपा पर राजाराम पाण्डेय मुलायम सरकार में कैबिनेट मंत्री बने थे यह बात इसलिए लिखा कि एक दौर पुलिस अधीक्षक का यह भी था पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र प्रताप सिंह पर जब मुलायम सरकार को कार्रवाई करनी पड़ी जब राजा भईया जेल से छूटे और मुलायम सरकार में जब कैबिनेट मंत्री बने तो पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र प्रताप सिंह को पुनः प्रतापगढ़ में तैनात कराये थे। ऐसे ही वर्तमान अपर पुलिस महानिदेशक, प्रयागराज जोन प्रेम प्रकश भी दो बार प्रतापगढ़ के एसपी रह चुके हैं 


शराब माफिया सुधाकर सिंह और कुंडा में तैनात पुलिस अफसर के बीच रिश्ते हुए थे,उजागर...

बेल्हा में जंगलराज कायम होने की बात की जाये तो गलत न होगा। प्रतापगढ़ के वर्तमान हालात इतने खराब हो चुके हैं कि कोई पुलिस अधीक्षक अपनी मर्जी से प्रतापगढ़ की कप्तानी करना ही नहीं चाहता आईपीएस अनुराग आर्य और आकाश तोमर ने जिस तरह प्रतापगढ़ की कानून ब्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए जोखिम भरा कदम उठाया वह सरहनीय तो रहा, परन्तु उनके सामने ऐसी मजबूरियां खड़ी की गई कि वह स्वतः छुट्टी लेकर गए तो प्रतापगढ़ लौटे ही नहीं वर्तमान में फतेहपुर में छः माह से बढ़िया ढंग से जिले की कमान को संभालने वाले सतपाल अंतिल को पड़ोसी जनपद होने के नाते प्रतापगढ़ में तैनात किया गया योगी सरकार को भरोसा था कि सतपाल अंतिल प्रतापगढ़ को संभालने में कामयाब हो जायेंगे परन्तु अभी तक की उपलब्धि शिफर रही है, जबकि पदभार ग्रहण करते ही मीडिया से मुखातिब होते हुए दावे किये थे कि अपराधियों के गोली का जवाब गोली से दिया जाएगा  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें