Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 16 जुलाई 2021

उत्तर प्रदेश के 27जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारी के तवादले हुए,परन्तु आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे सीएमओ प्रतापगढ़ का तवादला न होना चर्चा का विषय बना

पंचायत चुनाव के बाद यूपी में तबादलों का दौर जारी है। सूबे में 51वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों के हुए तबादले।

उत्तर प्रदेश में 51वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों के तबादले में 27जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारी के भी हुए हैं तवादले...!!!

नेताओं का संरक्षण पाने वाले भ्रष्टाचार के आकंठ डूबे सीएमओ प्रतापगढ़ डॉ अरविन्द कुमार का तवादला नहीं हुआ तवादला, इमानदारी की लड़ाई लड़ने वाले हुए निराश...!!!

स्वास्थ्य विभाग में थोक भाव से हुए तवादले...


लखनऊ- यूपी में चिकित्सा अधिकारियों के तबादले में कुल 51 चिकित्सा अधिकारियों के तबादले हुए जिसमें  यूपी में 17 जिलों के CMO भी बदले गए स्वास्थ्य विभाग में गुरुवार को लखनऊ सहित 27 जिलों में नए मुख्य चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) की तैनाती कर दी गई। भदोही, लखीमपुर और बुलंदशहर के सीएमओ अपनी कुर्सी बचाने में सफल रहे। इन्हें तबादले के बाद जौनपुर, गाजियाबाद, लखनऊ में सीएमओ का ही पद मिला है, जबकि अन्य को वरिष्ठ परामर्शदाता, संयुक्त निदेशक व अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (एसीएमओ) बनाया गया है। सीएमओ का पद सबसे अधिक कमाऊ हुआ करता है। एक सीएमओ की ऊपरी आमदनी लाखों रुपये महीने की होती है। प्रतापगढ़ जैसा घाघ सीएमओ तो करोड़ों रुपये कमाता है


स्वास्थ्य विभाग में तवादले तो हुए,परन्तु भ्रष्ट अधिकारी आज भी पद पर बने हुए हैं...


सरकारी विभागों में अधिकारियों के तवादले होते रहते हैं,परन्तु जून और जुलाई में तवादले थोक रेट में किये जाते हैं। तवादले में पैसा भी खूब चलता है। अच्छी जगह पोस्टिंग के लिए मुँह माँगी रकम अदा की जाती है और बदले में मनचाहा पोस्टिंग भी कराई जाती है। जिस जगह अधिक कमाई रहती है, उस जगह के लिए अधिक धन निर्धारित रहता है। तवादला का धंधा भी नेताओं की कमाई का एक जरिया होता है। ओवरआल तवादला में 90 फीसदी धन ही काम आता है। सिर्फ 10 फीसदी राजनैतिक पकड़ वाले लोगों का तवादला सिफारिश पर किया जाता है। जहाँ दोनों दबाव रहते हैं वह काम शत प्रतिशत सुनिश्चित रहता है। सरकार और सरकार से जुड़ी टॉप नौकरशाही के लिए तवादला उद्योग उसके लिए वरदान है


स्वास्थ्य विभाग में जब-जब तवादला सूची जारी होती है, तब-तब प्रतापगढ़ के लोग अंगुली रखकर प्रतापगढ़ में तैनात मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अरविन्द कुमार श्रीवास्तव के नाम को ढूँढा करते हैं। पहली बार में नाम न मिलने पर लोग दूसरी बार एक-एक नाम पर अंगुली रखकर सूची का बहुत ही बारीकी से निरीक्षण करते हैं, परन्तु अंत में निराश होकर यह मानने के लिए मजबूर हो जाते हैं कि प्रतापगढ़ के सीएमओ डॉ ए के श्रीवास्तव बहुत ही जुआड़ वाला सीएमओ है। स्वास्थ्य विभाग में डकैती डालकर प्रतापगढ़ के नेताओं से लेकर सिस्टम में बैठे सभी लोगों का हिस्सा बहुत ही इमानदारी से समय के साथ पहुँचा देता है। तभी इतनी शिकायत के बाद भी प्रतापगढ़ के सीएमओ का तवादला नहीं किया गया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें