Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 12 जुलाई 2021

आईपीएस सतपाल के रूप में प्रतापगढ़ को मिला पुलिस कप्तान, पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर की हुई छुट्टी

चिकित्सीय अवकाश पर चल रहे प्रतापगढ़ के एसपी आकाश तोमर को डीजीपी कार्यालय से किया गया,सम्बद्ध...!!!


2015बैच के IPS सतपाल बने प्रतापगढ़ के नये पुलिस अधीक्षक तो जनता ने कहा कि यहाँ डायरेक्ट आईपीएस अधिकारी क्यों तैनात किये जाते हैं, जब उन्हें रहने ही नहीं दिया जाता...!!!


आईपीएस सतपाल...

प्रतापगढ़ में पुलिस अधीक्षक का आना और जाना आम बात हो चुकी है इस बार प्रतापगढ़ के लिए नए पुलिस अधीक्षक 2015 बैच के आईपीएस सतपाल को प्रतापगढ़ का पुलिस अधीक्षक बनाया गया। आईपीएस सतपाल पड़ोसी जनपद फतेहपुर में तैनात रहे, जिन्हें प्रतापगढ़ जनपद की कमान सौंपी गई है साथ ही छुट्टी पर गए आईपीएस आकाश तोमर को हेड क्वार्टर डीजीपी कार्यालय लखनऊ से संबंध किया गया। लंबे समय से चिकित्सा अवकाश पर आकाश तोमर के चले जाने पर जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख पद पर होने वाले निर्वाचन के मद्देनजर जनपद प्रतापगढ़ की कमान पूर्व में प्रतापगढ़ की कप्तानी करने वाले एल आर कुमार वर्तमान डीआईजी को कार्यवाहक पुलिस अधीक्षक बनाया गया था।


उत्तर प्रदेश के ADG कानून ब्यवस्था प्रशांत कुमार के साथ आईपीएस सतपाल सिंह...

आईपीएस सतपाल मौजूदा समय में फतेहपुर जिले में एस एसपी के पद पर आसीन थे। आईपीएस सतपाल गौतम बुध नगर के पुलिस उपायुक्त भी रह चुके हैं। कहा जाता है कि एसपी सतपाल तेजतर्रार साफ-सुथरी छवि के व्यक्ति हैं। आने वाले समय में यह देखना है कि पुलिस महकमे में और अपराधियों में पुलिस अधीक्षक का कितना भय और अनुशासन बना रहता है। प्रतापगढ़ के तेजतर्रार पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर जब तीसरी बार लम्बी छुट्टी पर चले गए थे तब से ही ये अनुमान लगाया जाने लगा था कि अब आकाश तोमर वापस प्रतापगढ़ नहीं आना चाहेंगे। प्रमुख पद का चुनाव खत्म होते ही प्रतापगढ़ के पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर को डीजीपी कार्यालय सम्बन्ध किया गया प्रतापगढ़ की जनता जानना चाहती है आखिर शासन और प्रशासन की ऐसी कौन सी मजबूरी है जिसके कारण प्रतापगढ़ जिले में ईमानदार व तेजतर्रार कप्तान टिक नहीं पा रहे है। 


प्रतापगढ़ में जब भी कोई ईमानदार पुलिस अधीक्षक आता है और वह खुलेमन से कार्य करना शुरू करता है तो प्रतापगढ़ के नेताओं के पेट में ऐठन होने लगती है उन्हें प्रतापगढ़ में अमन शांति और खुशहाली पसंद नहीं आती अपनी राजनीति चमकाने और इधर उधर के धंधे फलने-फूलने में ब्यवधान उत्पन्न करने वाले तेजतर्रार कसिम के ईमानदार पुलिस अफसर को प्रतापगढ़ के नेता हजम नहीं कर सकते। तभी प्रतापगढ़ के नेता मिलकर ईमानदार और साफ सुथरी छवि के पुलिस अफसरों को यहाँ से विदा करा देते हैं। पहले अनुराग आर्य उसके बाद अब आकाश तोमर का तवादला इसका जीता जागता उदाहरण है। जिले में क्यों नहीं टिक पा रहे हैं, ऐसे कप्तान ? जिले के लोगों  में लगातार तरह-तरह की चर्चा हो रही है। लोगों का कहना है कि पहले तो आकाश तोमर का छुट्टी जाना, उसके बाद उनका स्थानांतरण होना लोगों को समझ में नहीं आ रहा है। जिले में ऐसे कप्तान बहुत ही मुश्किल से आते हैं।जनपद प्रतापगढ़ में पहले अनुराग आर्य का जाना, फिर उसके बाद जिले में फिर एक ईमानदार और तेजतर्रार अधिकारी आये लेकिन टिक नहीं पा रहे हैं। 


शासन और प्रशासन की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो अनुराग आर्य और आकाश तोमर जैसे अधिकारी का ट्रांसफर किया गया। प्रतापगढ़ की आम जनता ऐसे नेक और कर्तब्यनिष्ठ अधिकारी के जाने पर दुःख ब्यक्त कर रहे हैं और शासन व प्रशासन के खिलाफ अपनी भड़ास सोशल मीडिया के प्लेटफार्म पर अपने अंदाज में उतार रहे हैं। आकाश तोमर के सपोर्ट में लगातार शोशल मीडिया में खबरे चल रही हैं। आईपीएस सतपाल मौजूदा समय में फतेहपुर जिले में एसपी के पद पर पदस्थ रहे। उन्हें फतेहपुर से प्रतापगढ़ भेजा गया है। उधर गौतमबुद्ध नगर के पुलिस उपायुक्त रहे राजेश कुमार सिंह को फतेहपुर का नया एसपी बनाया गया है। आईपीएस सतपाल पुलिस अधीक्षक के पद पर 3 दिस्मबर, 2020 को तैनात हुए थे। फतेहपुर में तो सतपाल जी लम्बी पारी खेले। देखना है कि प्रतापगढ़ में उनकी क्या स्थिति रहती है। कौशाम्बी जनपद में छः माह से अधिक कप्तानी की पारी खेलने वाले सतपाल सिंह प्रतापगढ़ में कितने महीने टिकते हैं, यह भविष्य के गर्भ में टिका है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें