Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

सोमवार, 26 जुलाई 2021

अपना दल संस्थापक स्व सोनेलाल पटेल के नाम पर प्रतापगढ़ मेडिकल कालेज संचालित हो यह किसी भी कीमत पर स्वीकार्य नहीं- पूर्व विधायक बृजेश सौरभ

पूर्व विधायक बृजेश सौरभ से जनता जनार्दन से किया सवाल...!!!

अपर जिलाधिकारी प्रतापगढ़ को ज्ञापन देते पूर्व विधायक बृजेश सौरभ...

प्रतापगढ़ की सम्मानित जनता जनार्दन से एक सहज सवाल ! जब हमारे भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कांग्रेस मुक्त भारत का संकल्प साकार करने की अंतिम स्थिति ला सकते हैं तो क्या हम प्रतापगढ़ वासी अपने जनपद के स्वाभिमान, सम्मान और पहचान की खातिर क्या अपना दल मुक्त प्रतापगढ़ का सपना साकार नहीं कर सकते हैं ? किसी मित्र ने अपनी पोस्ट के माध्यम से पूछा है कि ये सोनेलाल कौन थे ? सामान्य ज्ञान के लिए कहीं ये वही वाले "लाल" तो नहीं थे, जिनको आज के प्रयागराज और पूर्व के इलाहाबाद के तत्कालीन एसपी लालजी शुक्ल ने ऐसा जादू दिखाया था कि 3 किलो लोहा शरीर में धारण कर कई महीने कानपुर की गलियों में भटक रहे थे और शीघ्र ही यशकायी हो गए थे


भाजपा नेता एवं पूर्व विधायक बृजेश मिश्र "सौरभ"

प्रतापगढ़ के नवनिर्मित मेडिकल कालेज का नाम डॉ सोनेलाल पटेल के नाम पर क्यों ? पूर्व विदेश मंत्री राजा दिनेश सिंह, स्व. राम किंकर सरोज, राजा अजीत प्रताप सिंह, धर्म सम्राट करपात्री जी महाराज, जगद्गुरु कृपालु जी, और प्रखर राजनेता व शिक्षा शिरोमणि मुनीश्वर दत्त उपाध्याय जी के नाम पर क्यों नहीं ? अब वक्त की पुकार यही है कि सोनेलाल स्वीकार नहीं। जागो अब धरती ललकार रही कोई भी गद्दार स्वीकार नहीं ! प्रतापगढ़ के वीर जवानों मसाल उठा लो इन हाथों में, मिसाल बना लो जज्बातों को ये वही यश: कायी डॉक्टर सोनेलाल पटेल जी है जो प्रतापगढ़ की धरती को दमन की धरती कहा करते थे और प्रतापगढ़ सामंतों की धरती सहित पूरे देश में बहुसंख्यक शोषितों, दलितों और पिछड़ों के स्वाभिमान व सम्मान और हक के लिए संघर्ष करते रहे, जिनको कमेरों, दलितों, पिछड़ों और शोषितों के माशीहा के रूप में जाना जाता है


भाजपा नेता एवं पूर्व विधायक बृजेश सौरभ के सवालों को मिल रहा झूम कर समर्थन...


असफल नेता जिसने प्रतापगढ़ के लिए कभी कोई काम न किया, न ही प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से कोई जुड़ाव रहा उसे अगर इतना सम्मान भाजपा दे रही है कि महाविद्यालय का नाम उनके नाम पर रख रही तो यह सरासर प्रतापगढ़ के सारे लोकप्रिय नेताओ का अपमान है। अगर इसलिए सम्मान दे रहे हैं कि अनुप्रिया पटेल जैसी नेता उनकी बेटी हैं जो श्रधेय अटल जी के माता-पिता के नाम से कितने संस्थान भाजपा ने बनाए हैं। अटल जी से बड़ा कद तो अनुप्रिया का कभी हो ही नहीं सकता। मेडिकल कालेज के नामकरण विवाद थमने का नाम नही ले रहा है। पूर्व विधायक बृजेश सौरभ सदस्य यूपी भाजपा कार्यसमिति समर्थकों संग जिलाधिकारी आवास पहुँचे। नामकरण के विरोध में एडीएम शत्रोहन वैश्य को ज्ञापन भी सौंपा। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा को सम्बोधित ज्ञापन सौंप कर आपत्ति जताई है। इस मौके पर पूर्व विधायक बृजेश सौरभ ने कहा प्रतापगढ़ से अपना दल की जमीन खिसक रही है और प्रतापगढ़ को अपना दल मुक्त करके रहूंगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें