Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

विज्ञापन

विज्ञापन

शनिवार, 31 जुलाई 2021

जानिये रहस्य, भ्रष्टाचार के आकंठ डूबे हरि प्रताप सिंह पर क्यों नहीं हो पाती कार्रवाई...???

सपा के पूर्व विधायक मुन्ना यादव और भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह में हुई थी डील कि किसी भी  दशा में प्रयागराज-अयोध्या राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित रंजीतपुर चिलबिला की गाटा संख्या-2256 मि. रकबा-0.534 हेक्टेयर नगरपालिका की बंजर भूमि में न बन सके एआरटीओ दफ्तर...!!!


भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह की नजर नगरपालिका बंजर खाता की जमीन गाटा संख्या-2256मि.पर  गड़ चुकी नजर, इसलिए नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने के लिए स्वास्थ्य विभाग को  आवंटित करने के बाद भी नहीं बन सका स्वास्थ्य केंद्र, जिलाधिकारी द्वारा आवंटित वापस  नगरपलिका के खाते में बंजर के रूप में हुई दर्ज...!!!


वर्ष-1995में हरि प्रताप नपाध्यक्ष निर्वाचित हुए थे,तब और आज में बहुत फर्क हो चुका है...

प्रतापगढ़। प्रतापगढ़ का ऐसा राजनैतिक ब्यक्ति जो सभी सरकारों और सभी राज नेताओं से रखता है सम्पर्क और उसी की आड़ में करता है अपना सारा वैध-अवैध कार्य। नाम है हरि प्रताप सिंह। नाम तो भगवान है और कार्य सारे शैतान का करते हैं। दूसरे की सम्पत्ति कैसे अपनी हो जाये ? इसके लिए हर कर्म-कुकर्म करने को तैयार रहते हैं, हरि प्रताप सिंह। उदहारण के लिए एक प्रकरण ही पर्याप्त है तत्कालीन जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने अखिलेश सरकार में गाटा संख्या-2256, मि. की पैमाइश कराई और नगरपालिका की जमीन का डिमार्केशन कर उसे अलग करवा दिया था। तत्कालीन जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने भाजपा नेता की जमीन के कागजात तलब किये तो पता चला कि जितनी जमीन का भाजपा नेता और उनके परिवार के सस्दयों के नाम बैनामा क्रय किया गया है उससे अधिक पर उनका कब्जा हैताकि उनका अनधिकृत रूप से कब्जा में कोई बाधा न उत्पन्न हो।यह कब्जा कोई एक दो विस्वा का नहीं बल्कि कई विस्वा का है। सूत्रों की बातों पर यकीन करें तो जब तत्कालीन जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी को इस रहस्य की जानकारी हुई तो भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह मोटी रकम की थैली तत्कालीन जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी को भेंट कर उस समय अखिलेश सरकार में अपना पिंड छुड़ाया था है। 


हरि की हरियाली का हवाला, गाटा संख्या-2256मि.जिस पर गड़ी है, पूर्व नपाध्यक्ष की निगाह... 

उसी समय प्रतापगढ़ में एआरटीओ दफ्तर के लिए जमीन खोजी जा रही थी, परन्तु शहरी क्षेत्र में जमीन नहीं मिल रही थी और जो जमीन प्रयागराज-अयोध्या राष्ट्रीय राजमार्ग पर खाली थी,वह नगरपालिका के खाते में बंजर के रूप में दर्ज थी सो नपाध्यक्ष होने के नाते हरि प्रताप सिंह वह जमीन एआरटीओ दफ्तर के लिए मना कर दिए। इसी प्रकरण में सपा से सदर विधायक नागेन्द्र सिंह उर्फ मुन्ना यादव से भाजपा नेता की डील हुई थी कि नगरपालिका की बंजर खाते में दर्ज गाटा संख्या-2256 मि. की जमीन एआरटीओ दफ्तर के लिए आवंटित न होने पाए। क्योंकि विधायक मुन्ना यादव एआरटीओ दफ्तर के लिए शुकुलपुर में जमीन आवंटित कराकर उसे अपने घर के नजदीक ले जाकर क्षेत्रीय विकास का परचम लहराकर अपना वोट बैंक तैयार कर रहे थे। जबकि उन्हीं के दल समाजवादी पार्टी के जिला सचिव/आल मोटर्स ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष आशुतोष पाण्डेय ने हाईकोर्ट लखनऊ बेंच में एक जनहित याचिका दाखिल कर एआरटीओ दफ्तर को शहरी क्षेत्र में खोलने का प्रयास कर रहे थे। 


जनहित की लड़ाई के लिए सपा जिला सचिव आशुतोष अपनी पार्टी के विधायक से ही भिड़ गए...


इस लिहाज से सपा विधायक मुन्ना यादव और भाजपा के पूर्व विधायक हरि प्रताप सिंह में डील हुई और अंततः एआरटीओ दफ्तरशहर से 12 किमी दूर ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित हुआ और गाटा संख्या-2256 मि. भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह के लिए सुरक्षित हो गई। मौका पाकर हरि प्रताप सिंह और उनके भाईयों ने नगरपालिका पालिका के खाते वाली जमीन जिसे तत्कालीन जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने एसडीम सदर से अलग कराई थी और नगरपालिका के तत्कालीन ईओ अवधेश यादव से उसके चारो तरफ बंधा बनवा दिया था उसके बावजूद भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह अपनी बाउंड्रीवाल का दरवाजा उत्तर तरफ खोलकर नगरपालिका के बंजर खाते की जमीन पर कब्जा कर लिए। जबकि भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह की एक इंच जमीन उनकी बाउंड्रीवाल से उत्तर तरफ नहीं है। दो बार में 31 विस्वा का बैनामा लेकर पहले ही उससे अधिक पर भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह अनधिकृत रूप से कब्जा करके बाउंड्रीवाल बनवाकर उसमें ट्रक खड़ी करते हैं। इसी बाउंड्रीवाल में पीडीएस का अनाज चोरी करते भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह की ट्रकें पकड़ी गई थी।  


हरि प्रताप से डील करके सपा विधायक मुन्ना यादव शहर में नहीं बनने दिए थे, ARTO दफ्तर...

वर्ष-2017 में अपना दल एस से सदर विधायक बने संगम लाल गुप्ता भी नगरपालिका के खाते में दर्ज बंजर जमीनों में विकास के कुछ फूल खिलाना चाहते थे सो उन्होंने जब प्रयास किया तो वही जिला प्रशासन जो एआरटीओ दफ्तर के लिए गाटा संख्या-2256 मि. की जमीन का आवंटन बिना नगरपालिका बोर्ड की संस्तुति के नहीं दिए जाने की बात बता रहा था वही जिला प्रशासन विधायक संगम लाल गुप्ता के चाहने पर उसी जमीन को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने के लिए स्वास्थ्य विभाग को आवंटित कर दिया। यही बात जब आल मोटर्स ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष आशुतोष पाण्डेय ने हाईकोर्ट लखनऊ बेंच में एक जनहित याचिका दाखिल कर एआरटीओ दफ्तर को शहरी क्षेत्र में खोलने का प्रयास कर रहे थे। तब यही जिला प्रशासन उन्हें बिना नगरपालिका के बोर्ड प्रस्ताव पास किये उसकी जमीन का आवंटन जिलाधिकारी महोदय करने में असमर्थता जता रहे थे और उसी जमीन का आवंटन बाद में विधायक सदर संगम लाल गुप्ता ने नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने के लिए स्वास्थ्य विभाग को आवंटित करा दिया।


दो ही वर्ष में प्रतापगढ़ से विधायक के बाद सांसद बनने वाले संगम लाल गुप्ता...

हालांकि उस जमीन पर नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र न खुले इसके लिए भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह ने प्रयास किया और नगरपालिका बंजर खाते की जमीन को पुनः कार्यालय- जिलाधिकारी प्रतापगढ पत्रांक 1773/सात-स.भू.अ.-2020 दिनांक- 24 दिसम्बर, 2020 के क्रम में श्रीमान् जिलाधिकारी महोदय के आदेश दिनांक- 24.12.2020 के अनुपालन में नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रंजीतपुर चिलबिला की स्थापना हेतु ग्राम रंजीतपुर चिलबिला (अन्दर नगर पालिका) पर. व तह. सदर जनपद प्रतापगढ की गाटा संख्या- 2256 मि./0.534 हे. का कार्यालय आदेश संख्या 1513/सात-स.भू.अ.-2017 दि.19.09.2017 द्वारा किया गया पुर्नग्रहण निरस्त किया जाता है। भूमि पूर्ववत ग्राम रंजीतपुर चिलबिला (अन्दर नगर पालिका) बंजर के खाते में दर्ज किया जाय। उक्त आदेश दिनांक-26.12.2020 को भाजपा नेता हरि प्रताप सिंह कराने में सफल रहे। ताकि उनका अनधिकृत रूप से कब्जा में कोई बाधा न उत्पन्न हो।


1 टिप्पणी:

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें