Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 20 जुलाई 2021

कांग्रेस को त्याग कर भाजपा में अपनी आस्था जताने वाले जितिन प्रसाद को उत्तर प्रदेश में एमएलसी पद पर किया जा सकता है,मनोनीत

उत्तर प्रदेश में मनोनयन वाले चार पद एमएलसी के हो रहे हैं,रिक्त ! जितिन प्रसाद को बनाया जा सकता है,एमएलसी...!!!


ज्योतिरादित्य को केंद्र में मंत्री बनाकर और अरविन्द कुमार शर्मा को एमएलसी बनाकर भाजपा का प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलते ही भाजपा के मूल कार्यकर्ता चिंतित होने लगे वे अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं अब जितिन प्रसाद के एमएलसी बना देने की सुगबुगाहट से भाजपा के मूल कार्यकर्ताओं के मन में उठने लगे हैं,अपने राजनैतिक जीवन के प्रति सवाल कि जब आयातित लोगों को ही पद और संगठन में पदाधिकारी बनाया जाएगा तो उनका क्या होगा...!!!

 

भाजपा संगठन महामंत्री सुनील बंसल और जितिन प्रसाद 

भारतीय जनता पार्टी ने पहले केंद्र सरकार में मंत्रियों के कामकाज की निगरानी कर कार्य में उदासीन रहे मंत्रियों को बिना किसी संकोच और झिझक के उन्हें मंत्रिमंडल से बहार का रास्ता दिखा दिया। आम जनमानस जिस बात की कल्पना भी न की थी वह बात भी पीएम मोदी करके दिखा दिया। अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल करते समय पीएम मोदी पर बहुत दबाव था, परन्तु सारे दबाव को दर किनार करके कैबिनेट मंत्री रवि शंकर प्रसाद और प्रकाश जावेडकर को बाहर का रास्ता दिखाना सबके बस की बात नहीं थी। यह कार्य सिर्फ पीएम मोदी जैसा दृढ़ इच्छाशक्ति वाला ही ब्यक्ति कर सकता है अब मंत्रिमंडल में से बाहर किये गए लोग भाजपा के संगठन में पदाधिकारी बनाकर कार्य करेंगे। ऐसा पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का विचार है  


गुजरात कैडर में आईएएस की नौकरी छोड़कर राजनीति में सेवा करने के लिए आये अरविन्द कुमार शर्मा जो पीएम मोदी के बहुत खास हैं, को पहले उत्तर प्रदेश विधान परिषद् का सदस्य बनाया गया इच्छा तो अरविन्द शर्मा को उप मुख्यमंत्री बनाने की थी, परन्तु मामला संगठन से लेकर योगी सरकार के बीच तय न हो सका। इसी बीच कांग्रेस से अपना राजनीतिक जीवन संवारे की दृष्टिकोण से भाजपा में शामिल होने वाले जितिन प्रसाद को उत्तर प्रदेश में विधान परिषद् की खाली हो रही मनोनीत करने वाले चार MLC की सीट में से उन्हें भी जगह मिल सकती है। नामित एमएलसी की 4 सीटें अभी रिक्त हैं, जितिन प्रसाद एमएलसी बनाए जा सकते हैं। फिर उन्हें भी संगठन के कार्य में अरविन्द कुमार शर्मा सरीखे लगाया जा सकता है उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव-2022 के लिए भाजपा विपक्षी दलों के कार्यों और रणनीतियों को ध्यान में रखकर अभी से चाल चलना शुरू कर दिया है 

    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें