Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 11 जुलाई 2021

ब्लाक प्रमुख चुनाव के दौरान आसपुर देवसरा ब्लाक पर फायरिंग व पथराव कर उपद्रव करने वालों में से 17 अभियुक्त गिरफ्तार

पट्टी के पूर्व विधायकराम सिंह पटेल  और सपा जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव समेत 411 लोगों पर दर्ज हुआ है,मुकदमा...!!!

क्षेत्र की जनता का सवाल कि विवादों में रहने वाले मंत्री मोती सिंह के चहेते इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह पर कब होगी कार्रवाई...???


ब्लॉक में मतदान के समय उपद्रव और बवाल करने के आरोप में गिरफ्तार आरोपीगण...

 

ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव से पहले पट्टी कोतवाली में रहते विवादित इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह पर मंत्री मोती सिंह के नाम का ठप्पा लगा था और क्षेत्र के लोग खुलकर कहने लगे थे कि नरेन्द्र सिंह का गैर जनपद तवादला होने के बाद उन्हें रिलीव न करके आसपुर देवसरा का चार्ज इसलिए दिया जा रहा है ताकि ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव में मंत्री मोती सिंह के उम्मीदवार कमलाकांत यादव को जितवाया जा सके। पट्टी से लेकर आसपुर देवसरा में तैनाती के बाद से आज तक जनसामान्य का कोई एक ब्यक्ति ऐसा नहीं मिला जो यह कह सके कि इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह अच्छे पुलिस अधिकारी हैं...!!!
  

प्रतापगढ़ अति संवेदनशील ब्लॉक आसपुर देवसरा के ब्लाक प्रमुख चुनाव के दौरान ब्लॉक पर लगभग 400 लोगों द्वारा फर्जी वोटिंग का आरोप लगाते हुए आसपुर देवसरा ब्लाक के बैरियर पर मौजूद पुलिस बल के साथ अभद्रता करते हुए पुलिस टीम पर फायरिंग व पथराव किया गया तथा सरकारी व प्राइवेट गाड़ियों को क्षति पहुंचाते हुए मार्ग अवरूद्ध कर आवागमन बाधित कर दिया गया था, जिसमें कई पुलिस कर्मी घायल हो गये थे। इस सम्बन्ध में थाना आसपुर देवसरा पर मु0अ0सं0 162/21 धारा 147, 148, 149, 323, 504, 506, 307, 332, 353, 336, 427, 171एफ, 34, 188, 269 भादवि, 7 सीएलए एक्ट, 51 आपदा प्रबन्धन अधिनियम, 131, 132 (3), 135ए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 2/3 सार्वजनिक सम्पत्ति नुकसान निवारण अधिनियम व 3(1) महामारी संसोधन अध्यादेश का अभियोग पंजीकृत किया गया है। अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस की कई टीमों द्वारा निरन्तर सम्भावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है। 


सम्पूर्ण घटना क्रम में मजेदार बात यह रही कि चुनाव और चुनाव परिणाम के बीच उपद्रवियों और बवालियों के बवाल में आसपुर देवसरा थानाध्यक्ष नरेंद्र सिंह बाल-बाल बाख गए थे। हैरानी की बात यह है कि रात में सीएचसी में मेडिकल मोयना कराने पहुँचने वाले पुलिसकर्मी खुद को घयल बताने लगे। उपद्रवियों के उपद्रव से थानाध्यक्ष आसपुर देवसरा नरेन्द्र सिंह, दरोगा विवेक कुमार यादव, मुन्नी लाल तिलक सिंह व राजेंद्र सिंह, सिपाही मुकेश चन्द्र गुप्ता, सचिव यादव, उमेश गौतम महिला आरक्षी श्रद्धा त्रिपाठी, सुमित सिंह, राज नारायण पटेल, अंजनी सिंह भीमराव, माधवेश राय, श्वेता शर्मा, मोनिका, पुनीत, रेखा यादव, प्रवीण राय व अन्य पुलिस कर्मियों को चोटें आने की बात समझ के परे रही। ऐसी घटनाओं के पीछे पुलिस वालों का दोष भी रहता है। वह समय से उसका आंकलन नहीं कर पाते और अपने पुलिसिया रुआब में रहते हैं जो आगे चलकर भारी पड़ता है और कभी-कभी तो जान को संकट में डालना पड़ता है। 


 आसपुर देवसरा में ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव में हुए बवाल में विवादित थानाध्यक्ष आसपुर देवसरा नरेन्द्र सिंह कम जिम्मेदार नहीं हैं। उनकी घोर लापरवाही से पुलिस कर्मियों की जान खतरे में पड़ी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार फर्जी वोटिंग होने का आरोप लागते हुए कुछ लोगों ने आपत्ति जताई। जिसके बाद वैरियर पर मौजूद थानाध्यक्ष आसपुर देवसरा नरेन्द्र सिंह की लोगों से तकरार होने लगी। वहाँ मौजूद लोग थानाध्यक्ष नरेन्द्र सिंह को ही जिम्मेदार ठहराने लगे। जो महिला मतदाता पूर्व विधायक राम सिंह पटेल के साथ मतदान कक्ष के अंदर आरओ और एआरओ से मिलकर शिकायत करने गई थी, वह अभी वापस नहीं आ पाई थी कि वैरियर पर थानाध्यक्ष नरेन्द्र सिंह भीड़ को पुलिसिया अंदाज में धमकाने लगे। थानाध्यक्ष नरेन्द्र सिंह के रवैये से भीड़ बेकाबू होने लगी। मौका देखकर चालाक इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह दूसरे पुलिस कर्मियों को आगे कर खुद वहाँ से खिसक लिए। 

 

इसी क्रम में आज दिनांक 11.07.2021 को प्रभारी निरीक्षक आसपुर देवसरा नरेन्द्र सिंह, उप निरीक्षक महेश जायसवाल, उप निरीक्षक अखिलेश राय, उप निरीक्षक  तिलक सिंह, उप निरीक्षक अमित कुमार चौहान मय टीम द्वारा थानाक्षेत्र के विभिन्न स्थानों से मुकदमा उपरोक्त से सम्बन्धित कुल 17 अभियुक्ताओं को गिरफ्तार किया गया। अभियोग से सम्बन्धित अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है। सवाल उठता है कि ऐसी घटनाएं घटती ही क्यों हैं ? इस घटना के घटित होने और उसमें नाकाम पुलिस प्रशासन के जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। आसपुर देवसरा थाना प्रभारी इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह को अपने कार्य में शिथिलता पाने और अति संवेदनशील ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव में घोर लापरवाही बरतने के आरोप में दण्डित किया जाना चाहिए। यह न हो कि मंत्री मोती सिंह के चहेते होने के कारण इन पर कार्यवाही न की जाए


गिरफ्तार अभियुक्ताओं का विवरण - 

1. वीरेन्द्र यादव पुत्र बलजोर यादव नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

2. लाल बहादुर पुत्र रामजश नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

3.    अमन यादव पुत्र बड़ेलाल यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

4. वीरेन्द्र प्रताप यादव पुत्र राधेश्याम यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

5. सुरेश कुमार सरोज पुत्र राम अंजोर सरोज नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

6. राधेश्याम यादव पुत्र स्व0 राजकुमार यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

7. विजय बहादुर यादव पुत्र तुलसीराम यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

8. सचिन यादव पुत्र गया प्रसाद यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

9. गया प्रसाद यादव पुत्र तुलसीराम यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

10. शिव कुमार यादव पुत्र लालमणि यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

11. बड़ेलाल पुत्र श्रीराम यादव नि0 धरौली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

12. प्रमोद कुमार यादव पुत्र रामभरत यादव नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

13. अमर बहादुर पुत्र रामलौट नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

14. नीरज यादव पुत्र रमेश कुमार यादव नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

15. बृजेश यादव पुत्र रामचन्द्र यादव नि0 केवटली थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

16. बृजेश यादव पुत्र राम बहादुर यादव नि0 भीखमपुर थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।

17. शुभम यादव पुत्र अशोक यादव नि0 भीखमपुर थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़।


उपद्रवियों और बवालियों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक नरेन्द्र सिंह, उप निरीक्षक महेश जायसवाल, उप निरीक्षक अखिलेश राय, उप निरीक्षक तिलक सिंह, उप निरीक्षक अमित कुमार चौहान मय टीम थाना आसपुर देवसरा जनपद प्रतापगढ़ रही। कल थाना प्रभारी नरेन्द्र सिंह और आसपुर देवसरा पुलिस सतर्क और तत्पर रही होती तो ये उपद्रव हो ही नहीं पाता। इस उपद्रव के लिए आसपुर देवसरा पुलिस के साथ-साथ जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन भी कम जिम्मेदार नहीं है 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें