Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 20 जुलाई 2021

मानधाता ब्लॉक प्रमुख पद पर निर्वाचित इसरार अहमद को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमित कुमार सिंह ने दिलाई शपथ

शपथ ग्रहण समारोह में नहीं दिखे विश्वनाथगंज विधानसभा के विधायक डॉक्टर आर के वर्मा, डॉ आर के वर्मा गुड़ तो खाते हैं और गुड़ से बने गुलगुले खाने में करते हैं,परहेज...!!!


ब्लॉक प्रमुख मानधाता के शपथ ग्रहण समारोह के बैनर में मुख्य अतिथि विधान परिषद सदस्य अक्षय प्रताप सिंह "गोपाल जी" एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में अपना दल एस के विश्वनाथगंज विधायक डॉ आर के वर्मा की फोटो लगी थी,फोटो...!!!


निर्दलीय ब्लॉक प्रमुख मानधाता इसरार अहमद के शपथ ग्रहण का बैनर बना चर्चा का विषय... 


प्रतापगढ़। जनपद प्रतापगढ़ में 17 विकास खण्ड हैं और सभी विकास खण्डों पर आज नव निर्वाचित प्रमुखों को शपथ दिलाये जाने का कार्यक्रम शासन ने निश्चित किया था। उसी क्रम में मानधाता ब्लॉक मुख्यालय पर शपथ ग्रहण कार्यक्रम था। मानधाता विकास खंड में निर्दलीय उम्मीदवार इसरार अहमद निर्वाचित हुए थे। सत्तापक्ष भाजपा ने मानधाता विकास खंड को सहयोगी पार्टी अपना दल एस के खाते में दे दिया था, परन्तु अपना दल एस का उम्मीदवार चुनाव हार गया और निर्दलीय उम्मीदवार इसरार अहमद निर्वाचित हुए। चुनाव परिणाम के बाद जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के नेता इसरार अहमद को अपना उम्मीदवार बताने लगे 


इसरार अहमद के शपथ ग्रहण में बोलते  MLC अक्षय प्रताप सिंह "गोपाल जी"

विश्वनाथगंज विधानसभा के विधायक वर्तमान में अपना दल से निष्कासित हैं। पार्टी अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल और उनके पति आशीष सिंह के साथ अच्छे रिश्ते नहीं रह सके। कभी अनुप्रिया पटेल बिना डॉ आर के पटेल के कोई जनसभा नहीं करती थी, परन्तु आशीष सिंह की दखल के बाद अनुप्रिया पटेल भी डॉ आर के वर्मा से दूरी बना ली। स्थिति इतनी नाजुक हो गई कि डॉ आर के वर्मा को पार्टी से निष्कासित करना पड़ा। विधानसभा चुनाव-2022 के मद्देनजर डॉ आर के वर्मा का रुख इस बार बदला-बदला नजर आ रहा है। पंचायत चुनाव से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष पद के निर्वाचन एवं ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव में विधायक विश्वनाथगंज डॉ आर के वर्मा की भूमिका भाजपा और अपना दल एस के उम्मीदवार के प्रति संदिग्ध रही   


इन महानुभावों से कोरोना वायरस भी शर्मा जायेगा...

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के निर्वाचन में भाजपा से अधिकृत उम्मीदवार क्षमा सिंह के प्रीति भोज से लेकर नामांकन और मतदान के दिन तक कहीं नजर नहीं आये थे जबकि जनसत्ता दल लोकतांत्रिक की  उम्मीदवार माधुरी पटेल की जीत पर जश्न मनाने और बधाई देने विधायक डॉ आर के वर्मा पहुँच गए थे जिला पंचायत अध्यक्ष के निर्वाचन से पहले जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह "राजा भईया" सोरांव स्थित डॉ आर के वर्मा के क्लीनिक पर मुलाकात करने पहुँचे थे। उसी दिन से लग गया था कि डॉ आर के वर्मा अपना दल एस से भले ही विधायक हैं, परन्तु उनकी आस्था जनसत्ता दल लोकतांत्रिक में है। इस बात की पुष्टि ब्लॉक प्रमुख के निर्वाचन में हो गई 


मानधाता ब्लॉक प्रमुख पद के शपथ ग्रहण में कोरोना संक्रमण का नहीं रखा गया ध्यान...


मानधाता प्रमुख पद पर निर्दलीय उम्मीदवार इसरार अहमद की जीत और डॉ आर के वर्मा के उम्मीदवार की हार के बाद निर्दलीय उम्मीदवार के शपथ समारोह में जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के नेताओं के साथ बैनर में डॉ आर के वर्मा की फोटो लगना इसका प्रमाण है हालाँकि शपथ समारोह डॉ आर के वर्मा का न आना चर्चा का विषय बना रहा अभी हाल ही में नेवादा कला गाँव के प्रधान राजेश सिंह के खिलाफ अंतु थाना में एक मुकदमा दर्ज हुआ तो प्रधान के बचाव में जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के नेता गोपाल जी खुलकर सामने आये दूसरे दिन डॉ आर के वर्मा भी प्रधान राजेश सिंह के बचाव में गोपाल जी की भाषा इस्तेमाल कर यह स्पष्ट कर दिया कि डॉ आर के वर्मा का मन अब अपना दल एस में नहीं लग रहा है। जल्द ही डॉ आर के वर्मा जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के पदाधिकारी के रूप में नजर आयेंगे क्योंकि राजा भईया भी भाजपा के पैटर्न पर काम करना शुरू कर दिया है 


इस फोटो को देखकर लगता है कि कोरोना वायरस शपथ समारोह में नहीं जाता... 

जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट महिला रही,फिर भी राजा भईया अपने दल से पिछड़ी जाति की महिला को जिला पंचायत अध्यक्ष का उम्मीदवार बनाना और उसे हर हथकंडा अपना कर जितवाना यह तय करता है कि विश्वनाथगंज विधान सभा के लिए जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के उम्मीदवार डॉ आर के वर्मा होंगे राजा भईया को भी पिछड़ी जाति की राजनीति और वोटबैंक के लिए एक मजबूत नेता की जरूरत है सो विधायक डॉ आर के वर्मा उसके लिए फिट बैठेंगे। इसीलिए डॉ आर के वर्मा और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के नेताओं का विचार आपस में मेल खाता है मानधाता प्रमुख पद के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान विधायक विश्वनाथगंज डॉक्टर आर के वर्मा का न आना चर्चा का विषय बना रहा शपथ ग्रहण कार्यक्रम में वहां उपस्थित कुछ प्रधान बीडीसी आपस में कानाफूसी करते नजर आए 


शपथ ग्रहण समारोह में हाफ शर्ट पहना हुआ स्टेज पर बैठा पहला ब्यक्ति सो रहा है... 


मजेदार और चौकाने वाली बात यह रही कि शपथ ग्रहण कार्यक्रम में कोरोना गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई जाती रही और जिम्मेदार एक दूसरे का मुँह ताकते रह गए शपथ ग्रहण समारोह में न मास्क और न सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन किया गया घोर लापरवाही बरती गई जिसके जिम्मेदार शासन व प्रशासन भी है।शपथ ग्रहण समारोह में विधान परिषद सदस्य अक्षय प्रताप सिंह "गोपाल जी" बगैर शपथ हुए ही कार्यक्रम से चले गयेशपथ ग्रहण कार्यक्रम को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमित कुमार सिंह एवं परियोजना निदेशक/खंड विकास अधिकारी रामचंद्र शर्मा के द्वारा संयुक्त रुप से प्रमुख इसरार अहमद को शपथ दिलाई गई। शपथ तो प्रमुख पद के लिए इसरार अहमद ने ले लिया, परन्तु शपथ के विपरीत ही सारा कार्य करेंगे जैसे सांसद और विधायक सहित मंत्री शपथ तो ग्रहण करते हैं,परन्तु कार्य सब शपथ के विपरीत ही करते हैं 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें