Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 10 जून 2021

पीएम नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहते कांग्रेसी नेता जितिन प्रसाद को करते थे,पसंद

कांग्रेसी नेता जितिन प्रसाद द्वारा अपने युवा कांग्रेसी साथियों के साथ मिलकर अनुच्छेद-370को हटाए जाने के फैसले का किया था,समर्थन...!!!

BPLपरिवारों को रसोई गैस का कनेक्शन निःशुल्क देने की योजना की शुरुआत जितिन प्रसाद ने शुरू किया था,जिसे "ब्रेन चाइल्ड" के नाम से जाना गया...!!!

बंगाल में ISFसे गठबंधन करने के कांग्रेस हाईकमान के फैसले को जितिन प्रसाद ने बताया था,गलत...!!!

सितंबर-2009में पेट्रोलियम राज्यमंत्री के रूप में जितिन प्रसाद द्वारा रसोई गैस सिलेंडर की बुकिंग कम्प्यूटराइज्ड SMS सेवा के द्वारा करने की योजना का किया गया था,शुभारंभ...!!!

कांग्रेस के हाथ जोड़ अलविदा कह भगवाधारी हुए जितिन प्रसाद...


जितिन प्रसाद को लेकर शुरू हुआ ब्राह्मण चेहरे का मीडियाई शोरगुल तथा विपक्षी हुड़दंग कितना प्रासंगिक या अप्रासंगिक है ? इसे जानना बहुत जरूरी है कल दोपहर से देर रात तक लगभग हर न्यूजचैनल के एंकरों, एडीटरों एवं विश्लेषकों को एक ही राग अलापते हुए देखा सुना होगा। क्षुद्र जातीयता के अंधे राजनीतिक कुएं की सीमित संकुचित सीमाओं में मेंढकों की तरह उछलते कूदते उनके आकलनों अनुमानों और विश्लेषणों की धुन पर कांग्रेस समेत हर विपक्षी दल के नेताओं प्रवक्ताओं को बेसुध होकर नाचते झूमते हुए सभी ने देखा व सुना होगा। ये सब के सब एक स्वर से एक सुर में यही राग अलाप रहे हैं कि भाजपा में जितिन प्रसाद को ब्राह्मण नेता के रूप में शामिल किया गया है। उनका यह जातीय राग अभी और कई दिन तक जारी रहेगा। प्रधानमंत्री मोदी की INDIA FIRST और टीम इंडिया की कसौटी से अनजान लोग ही कर रहे हैं,ब्राह्मण... ब्राह्मण... ब्राह्मण... का हुड़दंग

उत्तर प्रदेश की राजनीति में प्रियंका वाड्रा के सक्रिय होने से हासिये पर आ गए थे जितिन प्रसाद...

यह राग अनर्गल और अर्थहीन क्यों है ? इसकीं चर्चा करने से पहले यह जान लीजिए कि जितिन प्रसाद के भाजपा में आने का कारण क्या है ? इस संदर्भ में चौंकाने वाला तथ्य यह भी जान लीजिए कि जितिन प्रसाद का चयन किसी और के बजाए स्वयं प्रधानमंत्री मोदी की सहमति के पश्चात ही किया गया। वर्ष-2019 में भी प्रधानमंत्री की ही इच्छा थी कि जितिन प्रसाद को भाजपा में लाया जाए। लेकिन उनकी इच्छा का किसी जातीय चुनावी समीकरण से न तब कोई लेना देना था, न आज कोई लेनादेना है। वर्ष-2019 में पार्टी से अपने भावनात्मक लगाव, बहुत पुराने सम्बंधों व उनके कुछ महत्वपूर्ण सुझाव मानने के राहुल गांधी के उन वायदों के कारण जितिन प्रसाद ने पार्टी छोड़ने का अपना फैसला अंतिम क्षणों में बदल दिया था। यह अलग बात है कि उनसे किए गए संगठन संबंधित वायदे राहुल गांधी ने पूरे नहीं किए।

राहुल गांधी के करीबी जितिन प्रसाद का कांग्रेस से BJPमें जाना कांग्रेस के लिए बड़ा नुकसान हुआ... 

अब बात करते हैं, मुद्दे की ! सम्भवतः बहुत कम लोगों को या यूं कहिए कि चुटकी भर लोगों को यह ज्ञात होगा कि प्रधानमंत्री द्वारा लागू की गयी जिस उज्ज्वला योजना को पूरे देश में अभूतपूर्व सफलता और लोकप्रियता मिली वह उज्ज्वला योजना किसी और की नहीं बल्कि जितिन प्रसाद का ही ब्रेन चाइल्ड है। वर्ष-2010 में तत्कालीन पेट्रोलियम राज्यमंत्री के रूप में उन्होंने यह योजना तैयार करके उसकी शुरुआत की थी। इसके अलावा SMS के जरिए रसोई गैस सिलेंडर की बुकिंग की योजना तैयार कर जितिन प्रसाद ने तब शुरू किया था, जब पेट्रोलियम राज्यमंत्री बनते ही उनका सामना रसोई गैस सिलेंडर की बुकिंग में डीलरों द्वारा की जाने वाली भारी धांधली और भ्रष्टाचार की शिकायतों के अंबार से हुआ था। अतः इसके खात्मे के लिए उन्होंने SMS से रसोई गैस सिलेंडर की बुकिंग करने की कम्प्यूटराइज्ड योजना केवल 4 महीनों में तैयार करके सितंबर, 2009 में उसे लागू कर दिया था।

भाजपा में शामिल होने के बाद भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ जितिन प्रसाद... 

धीरे-धीरे उसे विस्तार दिया जाने लगा था। जहां-जहां योजना लागू हो रही थी, वहां से डीलरों की धांधली और भ्रष्टाचार का सफाया होता जा रहा था। ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे पेट्रोल पंप और रसोई गैस की छोटी एजेंसियों को खोलने तथा उनका आवंटन दिल्ली में अपनी निगरानी में लॉटरी सिस्टम से करने की शुरूआत भी जितिन प्रसाद ने ही की थी। वह योजना भी इस प्रकार लागू की गयी थी कि पूरी तरह भ्रष्टाचार रहित थी। तत्कालीन यूपीए सरकार के कर्णधारों को यह रास नहीं आया था। केवल डेढ़ वर्ष बाद जनवरी, 2011 में उनसे पेट्रोलियम मंत्रालय लेकर उन्हें दूसरे मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंप दी गयी थी। पेट्रोलियम मंत्रालय से उनके हटने के बाद SMS सेवा कई शहरों में अवश्य चलती रही, लेकिन बहुत आगे नहीं बढ़ सकी। लेकिन पेट्रोलियम मंत्रालय से उनके हटते ही अन्य दोनों योजनाओं ने दम तोड़ दिया। लोग उन योजनाओं को भूल गए। लेकिन एक व्यक्ति न उन योजनाओं को भूला, न ही जितिन प्रसाद को। वह व्यक्ति थे, गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी जो यूपीए सरकार की प्रत्येक नीति और योजना पर पैनी निगाह रखते थे।

भाजपा में शामिल होने के बाद गृहमंत्री अमित शाह और जितिन प्रसाद... 

अतः भ्रष्टाचार रहित जनहित का कार्य करने की जितिन प्रसाद की मंशा और कोशिश को गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में बहुत करीब से देखने के बाद से ही नरेन्द्र मोदी की INDIA FIRST और टीम इंडिया की उस कसौटी पर जितिन प्रसाद पूरी तरह खरे उतर चुके थे, जिस कसौटी पर खरा उतरने पर प्रधानमंत्री मोदी ने समाज के ऐसे लोगों को राष्ट्रपति भवन बुलाकर देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों, पद्म सम्मानों से सम्मानित करना शुरू किया था जिन्हें कोई नहीं जानता था, जो देश के आम नागरिक थे, लेकिन देश के लिए कुछ विशेष कार्य कर रहे थे। पिछले 7 वर्षों से यह परंपरा लगातार जारी है। जितिन प्रसाद क्योंकि राजनीतिक व्यक्ति हैं, इसलिए प्रधानमंत्री मोदी की उसी कसौटी पर खरा उतरने के पश्चात ही भाजपा ने अपने द्वार उनके लिए खोले और खुले दिल से उनका स्वागत किया है। पेट्रोलियम मंत्रालय में उनके उपरोक्त कार्यों के अलावा लगभग 22 महीने पहले कश्मीर से अनुच्छेद- 370 हटाए जाने का भयंकर विरोध कांग्रेस जब संसद से सड़क तक कर रही थी। उस विरोध की कमान खुद राहुल गांधी ने संभाली थी। तब भी जितिन प्रसाद कांग्रेस के अकेले ऐसे नेता थे, जिन्होंने अपने साथी कुछ युवा कांग्रेसी नेताओं के साथ मिलकर जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद- 370 हटाए जाने का खुलकर समर्थन और स्वागत किया था।

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा स्वयं जितिन प्रसाद का स्वागत किया...

हाल ही में सम्पन्न हुए बंगाल विधानसभा में कांग्रेस के चुनाव प्रभारी के रूप में उन्होंने फुरफुरा शरीफ के कट्टर धर्मान्ध मौलाना की शुद्ध रूप से शत प्रतिशत साम्प्रदायिक पार्टी के साथ गठबंधन करने के कांग्रेस हाईकमान के फैसले को खुलकर कटघरे में खड़ा किया था। सत्ता की जोड़ तोड़ के लिए महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन का भी जितिन प्रसाद ने पार्टी के भीतर मुखर विरोध किया था। जितिन प्रसाद के यह वो कुछ फैसले हैं जो समय-समय पर मीडिया में उजागर होते रहे हैं। अतः ऐसे राजनेता द्वारा कांग्रेस छोड़ने और भाजपा में शामिल होने के फैसले को केवल जातीय चश्मों से देख जांच परख रहे तथाकथित राजनीतिक विश्लेषकों, एंकरों, एडीटरों की जानकारी की दयनीय दशा पर मुझे तो तरस आ रहा है।

प्रस्तुति :- सतीश मिश्र

1 टिप्पणी:

  1. भैया भाजपा में जाकर इन्होंने कोई बड़ा तीर नहीं मारा है बस एक जातिगत संगठन को भुनाने हेतु सौदेबाजी से ज्यादा कुछ नहीं है, अरविंद शर्मा की योग्यता के कारण ही विधान परिषद से लाया गया था, आजतक 5 पैसे का कोई क्रियान्वयन हुवा हो तो बताए

    जवाब देंहटाएं

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें