Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 9 जून 2021

कांग्रेस का हाथ छोड़ भगवाधारी हो गए जितिन प्रसाद

राहुल गांधी के खास जितिन प्रसाद भी अन्ततोगत्वा थामा भाजपा का दामन, पियूष गोयल के साथ पहुंचे अमित शाह के घर पहुँचे जितिन प्रसाद...!!!

भाजपा में शामिल होते ही जितिन प्रसाद के बदल गए बोल, कहा कि मैंने 7-8 साल में अनुभव किया कि असल मायने में कोई संस्थागत राजनीतिक दल है, वो भारतीय जनता पार्टी है, बाकी दल तो व्यक्ति विशेष और क्षेत्र के हो गए हैं...!!!


कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल करायाभाजपा का शीर्ष नेतृत्व ने देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को एक और झटका दिया। जितिन प्रसाद ने गृह मंत्री अमित शाह के घर पहुंचकर उनसे मुलाकात भी की।

भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद जितिन प्रसाद और पियूष गोयल...

जितिन प्रसाद बड़े ब्राह्मण नेता माने जाते हैं और माना जा रहा है कि वर्ष- 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के लिए यह बड़ा दांव होगा।
ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाद कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की टीम से एक और बेहद अहम विकेट गिरा है कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गएकेंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल करवाया उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले यह बड़ा सियासी उलटफेर है जितिन प्रसाद को बीजेपी में शामिल कराने के बाद केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि यूपी की राजनीति में जितिन प्रसाद की भूमिका अहम होने वाली है

उत्तर प्रदेश में विधान चुनाव होने में अभी 6 माह से अधिक का समय है और भारतीय जनता पार्टी लगातार उत्तर प्रदेश में पार्टी के भीतर और बाहर उलटफेर करने में जुट गई है। महीनों से माथापच्ची करने के बाद जब पार्टी के अंदर और सूबे में नेतृत्व परिवर्तन में भाजपा शीर्ष नेतृत्व फेल हो गया तो वह आगामी विधान सभा-2022 की तैयारी में काम करना बेहतर समझा। कांग्रेस के बड़े नेता और राहुल गांधी के अजीज मित्र जितिन प्रसाद को भाजपा अपने पाले में कर लिया और कांग्रेस को एक तगड़ा झटका दिया है जिस तरह मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा ने अपने पाले में करके कांग्रेस की कमल नाथ की सरकार को गिरा दिया और मामा शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री बनाने में सफलता अर्जित की। 


हाल ही में संपन्न हुए पश्चिम बंगाल चुनाव में जितिन प्रसाद राज्य के प्रभारी थे और वहां पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली फिर भी भाजपा का शीर्ष नेतृत्व जितिन प्रसाद को उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव-2022 के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण नेता के रूप में लेकर बेहतर परफार्मेंस की उम्मीद पाले हुए है बीते साल ही जितिन प्रसाद ने अपनी अगुवाई में एक ब्राह्मण चेतना परिषद नाम से संगठन स्थापित किया था इससे पहले वर्ष- 2019 में लोकसभा चुनाव के पहले भी जितिन प्रसाद के भाजपा में जाने की अफवाह उड़ी थी हालांकि उन्होंने ऐसी किसी संभावना को खारिज कर दिया था मनमोहन सरकार में मंत्री रहे जितिन प्रसाद ने वर्ष- 2001 में कांग्रेस ज्वाइन की थी और पहली बार वर्ष-2004 में संसद पहुंचे थे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें