Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 29 जून 2021

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाजपा की 21 सीट पक्की, 53 सीटों पर 3 जुलाई को होगा मतदान

शुभ अंक 21सीट पर भाजपाइयों ने निर्विरोध निर्वाचित होकर विपक्षी दलों को किया चित...!!!

समाजवादी पार्टी को सिर्फ अपने गढ़ इटावा में जिला पंचायत अध्यक्ष से करना पड़ा संतोष...!!!

नाम वापसी तक भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर 21सीटों पर किया कब्जा...

लखनऊ। यह सच है कि सूबे में सत्ता जिस दल की होती है जिला पंचायत पर उसी दल का कब्जा होता है। वर्ष-2011 में बसपा सरकार में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर बसपाइयों का दबदबा रहा और वर्ष-2015 में सूबे में अखिलेश सरकार के दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर सपाइयों का कब्जा रहा। इस बार सूबे में भाजपा की सरकार है तो जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर शुभ अंक 21 जिलों की जिला पंचायत पर भाजपाइयों का कब्जा बिना चुनाव लड़ें प्राप्त हो गया है। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी का जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में दबदबा बना हुआ है। नामांकन के दिन 26 जून को ही भाजपा के 17 प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया था। मंगलवार 29 जून, 2021 को नाम वापसी के दिन चार जिलों पीलीभीत, शाहजहांपुर, बहराइच के साथ सहारनपुर में विपक्षी दल के नेताओं ने अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया है।


सिर्फ इटावा जिले की जिला पंचायत पर भाजपा के वाकओवर देने से एक सीट पर सपा का भी खाता खुल गया। आज नाम वापसी थी और मजे की बात यह रही कि विपक्षी दलों ने पीलीभीत, शाहजहांपुर, बहराइच के साथ सहारनपुर की सीट पर अपना नाम वापस ले लिया। अब भाजपा के 21 तथा समाजवादी पार्टी के एक निर्विरोध अध्यक्ष हो गए हैं। तीन जुलाई को 53 सीटों पर मतदान होगा। 53 सीटों में 37 ऐसी हैं, जिनमें केवल दो-दो उम्मीदवार ही चुनाव मैदान में हैं। बची हुई सीटों पर मतदान तीन जुलाई को होगा। उसी दिन शाम को मतगणना भी होगी। जिला पंचायत अध्यक्ष सहारनपुर के चुनाव में मंगलवार को अध्यक्ष पद के लिए नामांकन करने वाले बसपा समर्थित जॉनी कुमार जयवीर ने जिला निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पहुंच कर अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया। उनके नामांकन वापस लेने के साथ ही जिला पंचायत में भाजपा के मांगेराम काबिज होंगे।

रिटर्निंग आफिसर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व विनोद कुमार ने बताया कि जॉनी उर्फ जयवीर सुबह 11:00 बजे जिला निर्वाचन अधिकारी की कोर्ट में आए और उन्होंने लिखकर दे दिया है कि कि वह अपना नामांकन वापस ले रहे हैं। जॉनी उर्फ जयवीर के नामांकन वापस ले लेने से जिला पंचायत में 20 वर्ष बाद गैर बसपाई दल का कब्जा हो गया है।मंगलवार को पीलीभीत में भी बड़ा उलटफेर हो गया है। समाजवादी पार्टी ने यहां पर भाजपा से सपा में शामिल होने वाले सदस्य स्वामी प्रवक्ता नंद को अपना प्रत्याशी बनाया था। स्वामी प्रवक्ता नंद ने मंगलवार को अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया है। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के नाम वापस लेने के बाद अब भाजपा की प्रत्याशी डॉ दलजीत कौर निर्विरोध अध्यक्ष हो गई है। यहां पर पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा ने स्वामी प्रवक्ता नंद को समाजवादी पार्टी में शामिल कराया था। सपा में शामिल होते ही स्वामी प्रवक्ता नंद को सपा ने प्रत्याशी बनाया था। अब हेमराज वर्मा पर सवाल उठ रहे हैं।

कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आने वाले जितिन प्रसाद ने शाहजहांपुर में अपना प्रभाव दिखा दिया है। शाहजहांपुर में मंगलवार को समाजवादी पार्टी की जिला पंचायत अध्यक्ष पद की प्रत्याशी वीनू सिंह ने सुबह भाजपा की सदस्यता ले ली। इसके बाद वह नामांकन वापस लेने पहुंची। उनके नामांकन वापस लेने के बाद से अब भाजपा प्रत्याशी संगीता यादव का निर्विरोध होना तय हो गया। बरेली मंडल में अब सिर्फ बरेली और बदायूं में भाजपा व सपा के प्रत्याशियों के बीच सीधा मुकाबला होगा। बहराइच जिला पंचायत चुनाव में नया मोड़ आ गया है। कल तक मजबूती से चुनाव लड़ने का दावा करने वाली समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार नेहा अजीज ने मंगलवार को नाम वापस ले लिया, जिससे भाजपा उम्मीदवार मंजू सिंह का निर्विरोध चुना जाना तय हो गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें