Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 31 मई 2021

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ने से प्रशासनिक अमले में मची हुई है,उथल-पुथल

घटना के चौथे दिन भी जहरीली शराब से लगातार लोग मर रहे हैं,मरने वालों की संख्या 80 पहुँच गई है...!!!

अलीगढ़ का जिला प्रशासन अपनी नाकामी छिपाने के लिए लगातार झूठ पर झूठ बोलकर बचा रहा है अपना दागदार दामन...

सूबे में लगातार जहरीली शराब पीकर मरने वालों की घटना ने योगी सरकार की कटवा दी नाक... 

अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) जिले में जहरीली शराब के सेवन से मरने वालों की संख्या का आंकड़ा 80 पहुंच गया है। घटना के चौथे दिन भी जहरीली शराब से लोग मर रहे हैं। सोमवार 31 मई, 2021 को अब तक 9 और लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार को अलीगढ़ के थाना महुआखेड़ा धनीपुर में दो लोगों की, क्वार्सी क्षेत्र के चंदनिया में चार लोगों की और तीन अन्य की जहरीली शराब पीने से मौत हुई।
बता दें जिला प्रशासन द्वारा अभी तक मौत के इस तांडव को रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। बल्कि प्रशासन लगातार आंकड़े छिपाने में जुटा है। जिलाधिकारी ने मौतों को लेकर आधिकारिक पुष्टि करने के बजाय कहा है कि अब पोस्टमार्टम रिपोर्टों के अध्ययन के बाद ही यह तस्वीर साफ की जा सकेगी कि जहरीली शराब से जिले में कितनी मौत हुई हैं ? फिलहाल शराब पीने के बाद जिनकी मौत हो रही है, उनके पोस्टमार्टम कराए जा रहे हैं। जिला प्रशासन की नाकामी लगातार उजागर हो रही है। फिर भी जिला प्रशासन को शर्म नहीं आ रही है । जिला प्रशासन सिर्फ अपना बचाव कर रहा है

कारोबारी विजेंद्र कपूर की फैक्टरी से हुई थी,मिथाइल अल्कोहल की सप्लाई...

अलीगढ़ शराब कांड में सोमवार को बड़ा खुलासा हुआ है। जांच के दौरान पता चला कि जहरीली शराब की फैक्टरी में मिथाइल अल्कोहल की सप्लाई तालानगरी की शयाई व सैनेटाइजर फैक्टरी से हुई थी। यह फैक्टरी शहर के नामचीन कारोबारी विजेंद्र कपूर की है। छापेमारी में इस फैक्टरी से 203 कंटेनर इथाइल व मिथाइल मिला है। फेक्ट्री को फिलहाल सील कर लिया गया है। मामले में कारोबारी कपूर व एक अन्य को गिरफ्तार किया गया है। 28 मई, 2021 को करसुआ ठेके से लिए गए शराब के क्वार्टर की मेरठ में जांच हुई थी। इसमें शराब में मिथाइल अल्कोहल मिले होने की पुष्टि हुई थी। आबकारी अधिकारियों ने की इसकी पुष्टि की थी कि इसी रसायन से जिले में मौत हो रही है।

सीएमओ ने की सिर्फ 28 मौतों की पुष्टि...

सीएमओ का कहना है कि जितने भी शवों के पोस्टमार्टम शराब कांड से जोड़कर हो रहे हैं, उनकी सभी की रिपोर्ट संकलित की जा रही हैं। चार दिन में अब तक 28 मौतें शराब के सेवन से होना स्पष्ट हुआ है। बाकी की रिपोर्ट पर संदेह है। उन्होंने यह भी कहा कि हो सकता है कि अन्य मौत भी शराब के सेवन से हुई हों। मगर उनके विषय में आगरा विधि विज्ञान प्रयोगशाला से रिपोर्ट मिलने के बाद ही कहा जा सकेगा कि मौत किस वजह से हुई है ? वह रिपोर्ट कंपाइल कर जिलाधिकारी को दी जाएगी। जब भी बड़े पैमाने पर गड़बड़ी प्रशासनिक स्तर पर होती है तो वह अपनी कलई खुलने से बचने के लिए सारी कसरत करता है। लोग मरते हैं तो मरें,परन्तु नुकसान उनका कदापि न हो !

शराब की आपूर्ति करने वाला पकड़ा गया...

पुलिस द्वारा शराब तस्कर गिरोह के फरार 50 हजार के इनामी सरगनाओं में शामिल ओमवीर उर्फ विपिन यादव निवासी मैनपुरी को रविवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया है, जिससे गोपनीय स्थान पर पूँछ ताँछ चल रही है।विपिन यादव पर ही शराब लाकर स्थानीय सरगनाओं को देने का आरोप है। प्रारंभिक पूँछताँछ में उसने जिले के अकराबाद क्षेत्र के गांव अधौन में खुद के द्वारा शराब फैक्टरी संचालित किए जाने की बात स्वीकारी है। दर्शल माफियागीरी बिना सत्तापक्ष के नेता और शासन व प्रशासन की मिलीभगत से हो ही नहीं सकती। कभी-कभी यह बात सामने आती है कि विपक्ष का नेता भी माफियागीरी में संलिप्त रहता है। परन्तु उस विपक्ष के नेता के तार कहीं न कहीं सत्ता पक्ष के नेताओं से जुड़े रहते हैं। जब सत्ता पक्ष के नेता ही माफियागीरी में संलिप्त है तो जिला प्रशासन की क्या मजाल कि वह उसकी तरफ नजर भी उठाकर देख ले !

2 टिप्‍पणियां:

  1. सरकार को टैक्स चाहिए
    😥

    जवाब देंहटाएं
  2. भ्रस्टाचार इंसाफ़ कैसे मिलेगा नामचीन हस्तियों से जो सरकार तह पकड़ रखते है

    जवाब देंहटाएं

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें