Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 4 अप्रैल 2021

एक बार फिर नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ में 23जवानों का बहाया खून,जवानों को उतारा मौत के घाट

2000जवानों ने मिलकर जोरागुड़ा पहाड़ी पर छिपे नक्सलियों के खिलाफ चलाया था,आपरेशन...

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुई मुठभेड़ में 23जवान हुए शहीद, हेलीकाप्टर से जगदलपुर लाए शव...!!!

छत्तीसगढ़ में 700जवानों को घेरकर नक्सलियों ने तीन तरफ से बोला हमला,नक्सली मुठभेड़ में 22जवान शहीद, 30घायल...!!!

जवानों का पार्थिव शरीर लेकर आते जवान साथी...

ग्यारह माह पूर्व 21मार्च, 2020को SUKMA के जंगल में हुई मुठभेड़ के 20घंटे बाद शहीद जवानों के बरामद किये गए थे,शवशहीद 17जवानों में 5एसटीएफ कोबरा बटालियन और 12डीआरजी के हैं,जवान डीआरजी के शहीद सभी 12जवान सुकमा जिले के ही रहने वाले थे नक्सली 12एके-47 समेत 15हथियार भी लूटकर ले गएSUKMA में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में शहीद 17जवानों में 12सुकमा के ही थे।छत्तीसगढ़ में नहीं थम पा रहा,नक्सली हमला...!!!

 

बीजापुर। छत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित क्षेत्र बीजापुर और सुकमा की सरहद पर स्थित जोरागुड़ा की पहाड़ी पर नक्सली मुठभेड़ (Naxalite Attack) में 22 जवान शहीद हो गये और 30 घायल है। इस मुठभेड़ में नक्सलियों के भी भारी संख्या में मारे जाने की खबर है। नक्सली मुठभेड़ में 22 जवानों की शहादत की खबर ने राज्य और केन्द्र दोनों सरकारों को हिला दिया है।

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दूरभाष पर 4 अप्रैल 2021 की सुबह वार्ता की। गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को नक्सल उन्मूलन के लिए केन्द्र से सभी प्रकार का सहयोग दिये जाने की बात कही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि केन्द्र और राज्य मिलकर नक्सल उन्मूलन अभियान को सफल बनाएंगे।

बस्तर के आईजी पी सुंदरराज ने बताया कि बीजापुर और सुकमा के सरहद पर स्थित जोनागुड़ा नक्सलियों का मुख्य सेंटर है। पुलिस को जानकारी मिली थी कि जोनागुड़ा की पहाड़ी पर कोंटज्ञ, पामेड़, जगरगुड़ा एरिया कमेटी के पदाधिकारी समेत 250 से अधिक नक्सलियों ने डेरा जमा रखा है। इसकी जानकारी होने पर सीआरपीएफ के कोबरा कमांडो, बस्तरिया बटालियन और स्पेशल टास्क फोर्स के 2000 जवानों ने मिलकर शुक्रवार 2 अप्रैल की रात से सर्च आपरेशन शुरू किया। 3 अप्रैल को नक्सलियों ने तीन तरफ से घेरकर 700 जवानों पर हमला बोल दिया।

वह स्थल जहाँ हुई नक्सलियों और जवानों में हुई,मुठभेड़...

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों द्वारा किए गए बड़े हमले...

6 अप्रैल, 2010 में ताड़मेटला हमले में सीआरपीएफ के 76 जवानों की शहादत।

➤25 मई, 2013 झीरम घाटी हमले में 30 से अधिक कांग्रेसी व जवान शहीद।

11 मार्च, 2014 को टहकवाड़ा हमले में 15 जवान शहीद।

12 अप्रैल, 2015 को दरभा में यदे एम्बुलेंस। 5 जवानों सहित ड्राइवर व एएमटी शहीद।

23 मार्च, 2017 में भेज्जी हमले में 11 सीआरपीएफ जवान शहीद।

6 मई, 2017 को सुकमा के कसालपाड़ में किया घात लगाकर हमला जिसमें 14 जवान शहीद।

25 अप्रैल, 2017 को सुकमा के बुरकापाल बेस केम्प के समीप किये नक्सली हमले में 32 सीआरपीएफ जवान शहीद।

21 मार्च, 2020 को सुकमा के मिनपा हमले में 17 जवानों की शहादत।

जवानों ने बहादुरी से किया,मुकाबला...

मुठभेड़ में जवानों ने बहादुरी से मुकाबला किया। इस दौरान 22 जवान शहीद हो गये। 30 जवान घायल हैं। घायल जवानों को हेलीकाप्टर से इलाज के लिए रायपुर लाया गया है। यहां सभी की हालत खतरे से बाहर हैं। समाचार लिखे जाने तक सभी शहीद जवानों के शव नहीं मिल सके थे। खबर है कि नक्सली जवानों की वर्दी, जूते और असलहे भी उठा ले गये हैं।

मदावी हिड़मा के भी होने की थी,जानकारी...

छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने बताया कि जोरागुड़ा की पहाड़ी पर झीरम हमले के मास्टर माइंड मदावी हिड़मा के होने की भी खबर थी। हिड़मा शीर्ष नक्सली है। ऐसा माना जा रहा है कि नक्सलियों ने यह हमला हिड़मा के ही नेतृत्व में किया है।

सीआरपीएफ के डीजी कुलदीप सिंह पहुंचे,छत्तीसगढ़...

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देश पर सीआरपीएफ के महानिदेशक कुलदीप सिंह 4 अप्रैल 2021 की सुबह छत्तीसगढ़ पहुंच गये। वे यहां अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की जानकारी लेंगे और आवश्यक दिशा निर्देश जारी करेंगे।

पीएम मोदी समेत देशभर के नेताओं ने जताई संवेदना...

नक्सली मुठभेड़ में शहीद जवानों के प्रति प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत देशभर के नेताओं ने संवेदना जताई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व अन्य नेताओं ने भी जवानों की शहादत को नमन किया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें