Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 9 जुलाई 2020

कानपुर का गुनहगार एमपी के उज्जैन मंदिर से पकड़ाया, पुलिस को खुद कहा ‘मैं हूँ विकास दुबे कानपुर वाला’

उज्जैन में विकास दुबे ने किया सरेंडर, डीएम आशीष सिंह ने की पुष्टि...
➤यूपी सरकार ने भी पाँच लाख इनामी शातिर कुख्यात बदमाश विकास दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि...
➤शातिराना अंदाज में विकास दुबे ने दी उज्जैन में गिरफ़्तारी,लेने रवाना हुई UPपुलिस की पांच टीमें...
कानपुर का शातिर अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर में किया आत्मसमपर्ण...
➤पाँच लाख का इनाम नहीं आया काम...
➤दुर्दांत अपराधी विकास दुबे की योजना रही सफल, स्वतः किया माहाकाल के मंदिर में आत्मसमर्पण....
उत्तर प्रदेश पुलिस की नाक में दम करने वाला आखिरकार सातवें दिन स्वयं पुलिस को चकमा देकर बिकरू से पुलिस वालों के साथ खून की होली खेलने के बाद आसानी से फरार हो गया था। UP पुलिस गैंगेस्टर के शातिर अपराधी विकास दुबे को पकड़ने में विफल रही। एक सप्ताह तक जिस तरह उत्तर प्रदेश की पुलिस दिन रात दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को समूचे उत्तर प्रदेश सहित हरियाणा, दिल्ली, बिहार और पड़ोसी देश नेपाल तक अपनी टीमें लगा रखी थी। UP पुलिस की सबसे तेज तर्रार मानी जाने वाली STF के हाथ भी कुख्यात अपराधी विकास दुबे हाथ न आया। UP पुलिस को आई बी भी सहयोग करती रही, परन्तु सबको चकमा देते हुए मास्टर माइंड विकास दुबे स्वयं को घिरता देख स्वतः आज सुबह मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में अपने को विकास दुबे कानपुर वाला बताकर आत्म समपर्ण कर दिया  

उज्जैन के महाकाल मंदिर में विकास दुबे के आत्म समर्पण का देखिये फुटेज....

आठ पुलिस के जवानों के साथ खून की होली खेलने वाला कानपुर कांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे के साथियों पर जब शिकंजा कसा और लगातार विकास दुबे के साथियों को पुलिस मुठभेड़ दिखाकर अपने परिवार के आठ पुलिस वालों के शहीद होने का बदला लेने लगी तो शातिर अपराधी विकास दुबे भी टूट गया और वह पुलिस की नजरों से बचते बचाते स्वयं आत्म समर्पण करने की योजना बनाई। चूँकि मास्टर माइंड विकास दुबे को पता था कि पुलिस उसे यदि पायेगी तो शूट आउट कर देगी और मुठभेड़ दिखाकर उसका काम तमाम कर देगी फिर भी जिस तरह उत्तर प्रदेश सहित हरियाणा और बिहार सहित मध्य प्रदेश की पुलिस कुख्यात पाँच लाख का इनामी बदमाश विकास दुबे एक हफ्ता से सारे सिस्टम को चकमा देने में सफल रहा पुलिस की गिरफ्त में आ गया। एमपी के उज्जैन महाकाल मंदिर से उसकी गिरफ्तारी हुई है। बताया जा रहा है कि मंदिर में दर्शन करने के बाद जब पुलिस ने उसे देखा तो उसने खुद को विकास दुबे बताया और उसने कहा कि मैं ही हूं विकास दुबे कानपुर वाला।

महाकाल मंदिर के बाहर दुर्दांत पाँच लाख का इनामी अपराधी विकास दुबे...
बता दे उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के विक्रम गांव में 2 जुलाई 2020 की रात हुई पुलिस मुठभेड़ में विकास दुबे और उसके साथियों ने डीएसपी देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। इसके बाद से विकास दुबे फरार था 2 दिन पहले विकास दुबे की लोकेशन हरियाणा के फरीदाबाद में पाई गई थी। इसके बाद वह नोएडा में भी एक ऑटो में दिखा था। पुलिस ने उसकी तलाश तेज कर दी थी। इस बीच उसके 5 साथी अलग-अलग स्थानों पर मुठभेड़ में मारे गए हैं। 9 जुलाई 2020 की सुबह मध्य प्रदेश के उज्जैन से खबर आई कि विकास दुबे ने सरेंडर कर दिया है । प्रशासन ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि उज्जैन महाकाल मंदिर में दर्शन करने के बाद विकास दुबे ने खुद को सरेंडर कर दिया है। उत्तर प्रदेश पुलिस जल्द ही उसे अपनी कस्टडी में लेगी।

लगातार कई दिनों से पुलिस को चकमा देकर फरार चल रहा विकास दुबे कानून के शिकंजे में जकड़ लिया गया है। मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल मंदिर से विकास की गिरफ्तारी हुई है। विकास दुबे पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने 500000 का इनाम रखा था। प्रत्यक्ष दर्शियों की माने तो जिस वक्त उसे पुलिस ने पकड़ा वह खुद को ही विकास दुबे बता रहा था और कह रहा था कि वही है कानपुर कांड का मुख्य आरोपी। विकास दुबे के अंदर उसके सहयोगियों के हो रहे एनकाउंटर से डर व्याप्त था, शायद यही कारण है कि उसने खुद को आराम से पुलिस के हवाले कर दिया है। घटना के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम उसे लेने के लिए एमपी के उज्जैन रवाना हो गई है। वहीं मध्य प्रदेश पुलिस उससे लगातार पूछताछ कर रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें