Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 21 जुलाई 2020

22 जुलाई को प्रातः 5 बजे से 24 जुलाई को रात्रि 10 बजे तक शहर क्षेत्र में रहेगा जिला प्रशासन का लॉक डाउन, 25 व 26 जुलाई को रहेगा उ प्र शासन का लॉक डाउन

➤जिलाधिकारी प्रतापगढ़ द्वारा जारी लॉक डाउन का आदेश पूरी तरह कन्फ्यूजन क्रियेट करने वाला है...
➤सिर्फ शहरी क्षेत्र में लॉक डाउन का आदेश जारी कर जिलाधिकारी प्रतापगढ़ डॉ रूपेश कुमार ने बढ़ाई शहरी क्षेत्र वासियों के लिए मुश्किलें...
➤आदेश पढ़ने के बाद भी शहरी दुकानदार फोन कर एक दूसरे से कर रहे हैं,कन्फर्म कि क्या है जिलाधिकारी प्रतापगढ़ का आदेश...???
 जिलाधिकारी प्रतापगढ़ के द्वारा लॉक डाउन के लिए जारी किया गया,आदेश... 
लॉकडाउन जैसे गंभीर प्रकरण के आदेश में जिस तरह से शासन और प्रशासन अपने मनमानी तरके से आदेश जारी करता है,उसे किसी भी दशा में ब्यवहारिक नहीं कहा जा सकता ! क्योंकि बहुत से दुकानदारों के पास कच्चा माल होता है जो दुकान बंद होने की दशा में दूसरे दिन वह खराब हो जाता है ! ऐसे में शाम आठ बजे जिला प्रशासन द्वारा तुगलकी फरमान सुना देना कि कल से एक सप्ताह का लॉक डाउन किया जाता है ! ऐसे निर्णय से उन दुकानदारों का लाखों का नुकसान होता है, जिसका शासन-प्रशासन से कोई लेना देना नहीं रहता ! आखिर ऐसे निर्णय को तानाशाही निर्णय न कहा जाए तो क्या कहा जाए...???
कोरोना संक्रमण काल में देश और प्रदेश की नौकरशाही कन्फ्यूज हो चुकी है। उसे कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए शासन और प्रशासन के पास सिर्फ और सिर्फ एक हथियार है, उस हथियार का नाम है,लॉक डाउन। उत्तर प्रदेश की सरकार के अफसर अपने ही आदेश में उलझते नजर आ रहे हैं। आदेश की स्थिति देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि जो आदेश साहेब का स्टेनो लिपिबद्ध किया वो अपनी होश में नहीं था क्योंकि आदेश में इतना विरोधाभाष है कि उसे समझ पाना सिर्फ और सिर्फ स्टेनो और उनके साहेब के बस का है। 16 जुलाई को प्रतापगढ़ शहरी क्षेत्र में लॉक डाउन करने की नियति पर हमने खबर प्रकाशित की थी कि प्रतापगढ़ जिला प्रशासन द्वारा कभी भी शहरी क्षेत्र में लॉक डाउन किया जा सकता है। ये खबर हवा में नहीं लिखी थी बल्कि विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिलने के बाद ही खबर लिखी थी और आज पांच दिन बाद उस खबर पर जिला प्रशासन अपनी मुहर लगा ही दिया। 
 जिलाधिकारी प्रतापगढ़ के लॉक डाउन का आदेश कन्फ्यूजन वाला है...
डॉ रूपेश कुमार, जिलाधिकारी प्रतापगढ़ ने स्वास्थ्य विभाग से रिपोर्ट तलब की थी कि शहरी क्षेत्र में एक सप्ताह में कोरोना संक्रमण की स्थिति क्या रही ? उक्त आदेश के क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतापगढ़ ने अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी प्रतापगढ़ को सौंपी। कुछ संशोधन करने के लिए जिलाधिकारी ने निर्देशित किया और इसीबीच उ प्र शासन से खबर लीक हुई कि सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में 16 जुलाई से 31जुलाई तक लॉक डाउन बढ़ाया जा सकता है। परन्तु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम-11 की बैठक के बाद उसका खंडन कर दिया गया और उस खदान के बाद जिलाधिकारी प्रतापगढ़ भी स्थानीय स्तर पर लॉक डाउन करने की मंशा पर विराम लगा दिया था। लेकिन प्रतापगढ़ शहरी क्षेत्र में 25वार्ड वाली नगर पालिका के दर्जनों मोहल्ले हॉट स्पॉट और कन्टेन्मेंट जोन घोषित करने के बाद भी शहरी क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है
 "22मार्च से जनता कर्फ्यू लागू कर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की समस्त जनता से सहयोग कर कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन तोड़ने की बात की गई, जिस पर देश के नागरिकों ने पूरी तन्मयता से जनता कर्फ्यू का समर्थन किया। जनता कर्फ्यू की अपार सफलता से गदगद पीएम मोदी बिना दूरगामी विचार मीम्र्ष किये देश भर में 25मार्च से 21दिनों के लिए लॉक डाउन की घोषणा कर पूरे देश को ब्रेक कर दिया। फिर लॉक डाउन प्रथम नाम देकर चतुर्थ लॉक डाउन तक देश को लॉक रखा गया और फिर अनलॉक-1 करके आत्म निर्भर बनने का गुरुमंत्र देकर देश की अर्थब्यवस्था सुधरने के नाम पर सबकुछ खोल दिया गया। आज देश की स्थिति बद से बद्तर हो चुकी है। देश की जनता धोबी के उस कुत्ते के समान हो चुकी है। वो न घर की रही और न घाट की ! देश की जनता का कोरोना संक्रमण ने धन भी खा गया और धर्म भी खा रहा है..."
जिलाधिकारी प्रतापगढ़ डॉ रूपेश कुमार...
जिलाधिकारी प्रतापगढ़ डॉ रूपेश कुमार के आदेश में ही कहा गया है कि शहरी क्षेत्र में कोरोना संक्रमण की स्थिति विस्फोटक हो चुकी है जिसके कारण 22जुलाई से 24जुलाई तक जिला प्रशासन द्वारा शहरी क्षेत्र में लॉक डाउन करने का निर्णय लिया गया है। इस तरह नगर पालिका इलाके में कल से तीन दिन का लॉक डाउन रहेगा। जिलाधिकारी प्रतापगढ़ का आदेश मानों कोई अखबार का रिपोर्टर खबर सरीखे लिखा हो ! प्रतापगढ़ का जिला प्रशासन स्वयं मान रहा है कि उसके जिला मुख्यालय पर कोरोना संक्रमण की स्थिति विस्फोटक हो चुकी हैशहरी इलाके में कोरोना विस्फोट की स्थिति को देखते हुए हाट, बाजार, गल्ला मंडी और व्यावसायिक प्रतिष्ठान पूर्ण रूप से रहने का निर्णय जिला प्रशासन ने लिया है। जिला प्रशासन के लॉक डाउन के बाद योगी महराज का पहले से दो दिनों यानि शनिवार और रविवार के घोषित लॉक डाउन के बाद अब सोमवार को खुल सकेंगी बाजार और दुकाने। ऐसा आदेश डी एम प्रतापगढ़ डॉ रूपेश कुमार ने दिया है। इस तरह हफ्ते भर में शहरी इलाके में अट्ठाइस लोग कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें