Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 8 जुलाई 2020

फरीदाबाद के होटल पर पुलिस का छापा, पुलिस को मिली थी खुफिया जानकारी नहीं आया शातिर बदमाश पुलिस के हाथ

दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में एक होटल में विकास दुबे के छुपे होने का मिला था,इनपुट...



2 जुलाई 2020 की देर रात कानपुर के बिकरू गाँव में बदमाश विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने रेड मारने गई पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर यूपी पुलिस के आठ जवानों को मौत के घाट उतार दिया था। अब तक फरार विकास दुबे उर्फ पंडितजी पर इनाम की धनराशि बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दी गई है। विकास को ढूंढने के लिए एसटीएफ सहित पुलिस की 100 टीमें दिन रात खाख छान रही हैं। हरियाणा पुलिस ने मंगलवार को फरीदाबाद के एक होटल में छापेमारी की है, मौके से पुलिस ने तीन आरोपियों को भी हिरासत में लिया है। होटल में विकास दुबे के छिपे होनें के शक में पुलिस ने छापेमारी की थी, बताया जा रहा है दो तीन दिनों से ओयो होटल के अलावा विकास दुबे नहर पार की न्यू इंदिरा कॉलोनी में अपने कुछ दूर के रिश्तेदारों के यहां रुका हुआ था। हालाँकि छापेमारी के दौरान शातिर विकास दुबे पुलिस के आने से पहले वहां से निकल गया, लेकिन वह वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया।


"गैंगस्टर विकास दुबे फरीदाबाद से पुलिस को चकमा देकर भागने में कामयाब हो गया है, हालांकि उसके तीन सहयोगी गिरफ्तार किए गए हैं, विकास दुबे का पिस्टल भी जब्त किया गया है। फरीदाबाद के होटल के सीसीटीवी फुटेज में अपराधी विकास दुबे दिख रहा है। विकास दुबे सरेंडर करने के लिए वकीलों के संपर्क में है। इस वक्त उसके पास अपना कोई वाहन भी नहीं हैविकास दुबे फरीदाबाद के होटल में छिपा था। पुलिस रेड में गैंगस्टर का साथी पकड़ा गयाकानपुर से निकल कर जाने वाले हर हाईवे, हर सड़क, हर टोल हर नाके को खंगाला जा चुका है हर टोल की सीसीटीवी तस्वीरें दर्जनों बार देखी जा रही हैं। बंद पड़े होटलों और गेस्ट हाउसों तक की तलाशी ली जा रही है..."
फरीदाबाद के होटल से पुलिस ने कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात नामक युवक की गिरफ्तारी की है, कहा जा रहा है कि कानपुर गोलीकांड में प्रभात विकास दुबे के साथ ही था। प्रभात के पास से मौके पर 4 हथियार बरामद हुए हैं, जिसमें 2 सरकारी पिस्टल यूपी पुलिस की बताई जा रही हैं। फरीदाबाद में छिपे होने की सूचना के बाद दुर्दांत विकास दुबे की धरपकड़ तेज कर दी गयी है। हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर में अलर्ट जारी कर दिया गया है। गुरुग्राम के पुलिस कमिश्नर केके राव ने बताया कि विकास दुबे लंगड़ा कर चलता है, उसके पास अपना कोई निजी वाहन नहीं है। वह ऑटो, टैक्सी अथवा बस से मूवमेंट कर सकता है। 

कोशिश है कि विकास दुबे को बचकर जानें नहीं देंगे। बता दें कि विकास दुबे को ढूढने के लिए एसटीएफ के साथ-साथ पुलिस की 100 से ज्यादा टीमें लगी हुई हैं। बुधवार सुबह साढ़े 6 बजे यूपी पुलिस और एसटीएफ ने मिलकर हमीरपुर में विकास दुबे के दाहिने हाथ माने जाने वाले अमर दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया। अमर दुबे विकास का दाहिना हाथ होने के अलावा उसका भतीजा भी बताया जा रहा है। अमर दुबे कानपुर के बिकरू गोलीकांड में शामिल था। विकास के फरीदाबाद में छुपे होने के बाद गरगरमियां तेज हो गई हैं। खुफिया टीमों का कहना है कि विकास दिल्ली की कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में है। विकास लगातार वकीलों के सम्पर्क में बताया जा रहा है।

फरीदाबाद में दिल्ली-मथुरा हाईवे के किनारे बड़खल चौक पर एक ओयो गेस्ट हाउस में पुलिस ने छापेमारी कीबताया जाता है कि पुलिस को सूचना मिली थी कि कानपुर कांड का मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे का एक साथी वहां छिपा है पुलिस ने आनन-फानन में यह कार्रवाई अंजाम दे डाली। प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक 30 से 35 की संख्या में पुलिस के जवान सादा वर्दी में वहां पहुंचे थे कुछ देर वहां ठहरने के बाद पुलिस दल वहां से निकल गया कुछ प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक वहां फायरिंग भी हुई। बता दें कि एक सौ बीस घंटे से ऊपर हो चुके हैंयूपी पुलिस की 40 टीमें उसकी खाक छान रही हैं कानपुर के आस-पास का पूरा इलाका छान मरा गया। यूपी एमपी बॉर्डर, यूपी नेपाल बॉर्डर तक पर यूपी पुलिस चौबीसों घंटे नजरें गड़ाए है कानपुर से निकल कर जाने वाले हर हाईवे, हर सड़क, हर टोल हर नाके को खंगाला जा चुका है। हर टोल की सीसीटीवी तस्वीरें दर्जनों बार देखी जा रही हैं बंद पड़े होटलों और गेस्ट हाउसों तक की तलाशी ली जा रही है

दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में एक होटल में विकास दुबे के छुपे होने का इनपुट मिला था उसी के आधार पर फरीदाबाद पुलिस ने वहां रेड की लेकिन वहां विकास दुबे नहीं मिला मगर फरीदाबाद पुलिस ने विकास दुबे के एक साथी को गिरफ्तार कर लिया पुलिस को आशंका है कि वहां विकास दुबे भी मौजूद था इस खबर के बाद यूपी एसटीएफ की एक टीम फरीदाबाद रवाना हो गई है। कानपुर के मोस्ट वांटेड विकास दुबे की तलाश में पुलिस ने मंगलवार को फरीदाबाद के बड़खल चौक पर बने ओयो गेस्ट हाउस में छापेमारी की पुलिस की टीम में करीब 30 से 35 जवान और अधिकारी सादा वर्दी में थे। गेस्ट हाउस पर छापे के दौरान पुलिस ने वहां से विकास दुबे के एक साथी को पकड़ा है, हालांकि पुलिस इस मामले में कुछ कहने को तैयार नहीं है

बुधवार को पुलिस को कानपुर इनकाउंटर मामले में दो बड़ी कामयाबी मिली। एक तो उसके करीबी अमर दुबे को पुलिस ने हमीरपुर में मार गिराया, वहीं उसके एक दूसरे सहयोगी श्यामू वाजपेयी को चौबेपुर पुलिस ने जिंदा गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन, इस बीच खबर यह आ रही है कि विकास दुबे हरियाणा के फरीदाबाद में पुलिस को चकमा देकर भाग गया है। विकास दुबे की तलाश में फरीदाबाद व गुड़गांव में छापे मारे गए हैं। फरीदाबाद पुलिस ने इस मामले में कहा है कि एक घर में विकास दुबे के होने के इनपुट पर क्राइम ब्रांच के साथ मिलकर फरीदाबाद पुलिस ने रेड की, जिसमें तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। अपराधियों ने फायरिंग भी की। फरीदाबाद पुलिस ने कहा है कि कानपुर मुठभेड़ में प्रयोग की पिस्टल और उत्तर प्रदेश पुलिस से चोरी की गई पिस्टल बरामद की गई है। ऐसी जानकारी आई है कि गैंगस्टर विकास दुबे के दोनों पैरों में रॉड लगा हुआ है। इसके बावजूद वह अपने साथियों की मदद से एक बार फिर भागने में कामयाब हो गया है।

पुलिस को पहले ही संदेह है कि विकास दुबे पश्चिम उत्तर प्रदेश या हरियाणा में कहीं छिपा हो सकता है। इसके लिए दोनों इलाकों में पुलिस को अलर्ट कर दिया गया और अदालत परिसरों पर भी नजर रखने को कहा गया है, जहां वह सरेंडर कर सकता है। विकास दुबे के फरीदाबाद से भागने की सूचना पर संदेह इसलिए गहराता है क्योंकि उसका दायां हाथ माना जाने वाला अमर दुबे भी फरीदाबाद में ही छिपा था और वहां से वह हमीरपुर आया। पुलिस ने उसको चारों से घेर लिया और सरेंडर करने को कहा तो उसने गोली चला दी जिसके बाद वह पुलिसिया कार्रवाई में मारा गया। विकास दुबे पर ईनाम भी बढाकर ढाई लाख से पांच लाख कर दिया गया है। दो-तीन जुलाई की मध्य रात को कानपुर देहात के बिकरू गांव में उसके द्वारा आठ पुलिस कर्मियों का नरसंहार किए जाने के पहले उस पर मात्र 50 हजार का ईनाम था, जिसे बढाकर पहले एक लाख किया गया और फिर ढाई लाख और अब पांच लाख कर दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें