Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

मोस्ट वांटेड विकास दुबे का अंत तो पुलिस ने अपने हिसाब से कर डाला,परन्तु गैंगेस्टर अपराधी विकास दुबे के आकाओं का भी कभी अंत होगा ?

जनता का पुलिस से सवाल कि मोस्ट वांटेड विकास दुबे का अंत तो हो गया अब विकास के आकाओं का अंत कब होगा...???

मोस्ट वांटेड विकास दुबे और पुलिस की मुठभेड़ पर उठ रहे हैं,सवाल...
विकास दुबे समाज और कानून के मुंह पर तमाचा है। पहले उसने 8 पुलिसकर्मियों की बेरहमी से हत्या की, जो इस बात को दर्शाता था कि राजनीति के गठजोड़ से एक अपराधी कितना मजबूत हो सकता है और वह क्या कुछ नहीं कर सकता ? हत्या करने के बाद पुलिस का अपराधी को न पकड़ पाना व फिर जिस तरह से उसके द्वारा आत्मसमर्पण करने के बाद भारी पुलिस हिरासत में होने के बावजूद पुलिस के हाथों उसका इनकाउंटर हुआ यह सब दिखा रहा है कि कानून के राज का देश में क्या मतलब होता है। 

लगभग पूरी तरह से भ्रष्ट हो चुके समाज में अपराधिक और राजनीतिक लोगों को कानून का कोई भी भय नहीं है। सामाजिक चुप्पी व राजनीतिक और आपराधिक गठजोड़ का परिणाम है कि आज हर जिले में 2-4 विकास दुबे की तरह के लोग मिल जाएंगे। अब तो सिर्फ लीपापोती होनी है और जनता को यह दिखाया जाएगा कि देश में कानून का राज चल रहा है। अदालतें, मानवाधिकार, न्याय आदि शब्द सब बेमानी सा लगता है। क्या संविधान निर्माताओं ने ऐसे ही सभ्य समाज की कल्पना की थी ? 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें